Weather & Cold News: पढ़िये- दिल्ली-एनसीआर में ठंड को लेकर ताजा अपडेट

Delhi Weather Cold News बुधवार को अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश 26 व नौ डिग्री सेल्सियस रहने की उम्मीद है। उधर स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष महेश पलावत ने बताया कि अभी हाल फिलहाल प्रदूषण से बहुत राहत मिलने की संभावना नहीं है।

Jp YadavPublish:Wed, 17 Nov 2021 05:02 AM (IST) Updated:Wed, 17 Nov 2021 07:35 AM (IST)
Weather & Cold News: पढ़िये- दिल्ली-एनसीआर में ठंड को लेकर ताजा अपडेट
Weather & Cold News: पढ़िये- दिल्ली-एनसीआर में ठंड को लेकर ताजा अपडेट

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी ने दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे उत्तर भारत में मौसम का मिजाज पूरी तरह से बदल दिया है। धीरे-धीरे सुबह और शाम ठंड बढ़ रही है, हालांकि दिन में तेज धूप के चलते लोग राहत महसूस कर रहे हैं। उधर, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, बुधवार को दिनभर आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। इस बीच सुबह के समय कोहरा भी है, जिससे विजिबिलिटी भी कम है, हालांकि, इससे वाहन चालकों को कोई खास दिक्कत नहीं आ रही है। मौसम विभाग के मुताबिक, बुधवार को अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 26 व नौ डिग्री सेल्सियस रहने की उम्मीद है। उधर, स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष महेश पलावत ने बताया कि अभी हाल फिलहाल प्रदूषण से बहुत राहत मिलने की संभावना नहीं है। 

वहीं, अगले कुछ दिनों के दौरान न्यूनतम और अधिक तापमान में बढ़ोतरी हो सकती है, जिससे वायु प्रदूषण से भी थोड़ी राहत मिल सकती है। इतना ही नहीं अगले कुछ दिनों के दौरान दिन में तेज धूप खिली रहेगी, लेकिन सुबह और शाम को ठंड का ज्यादा असर दिखाई देगा।

अब मंगलवार रहा इस सीजन का सबसे ठंडा दिन

इस बीच मंगलवार सर्दियों के इस सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 27.0 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम 10.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान इसी सीजन का सबसे कम रहा। हवा में नमी का स्तर 35 से 95 प्रतिशत रहा।

कोहरे, कम तापमान और शांत हवा ने बिगाड़ा खेल

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि मंगलवार सुबह हल्का कोहरा और कम तापमान था। हवा की गति भी शांत थी। ऐसे में प्रदूषक तत्व उड़ नहीं पाए और वातावरण में जमने लगे। ऐसे में हल्का स्माग भी देखने को मिला। सुबह साढ़े पांच बजे सफदरजंग और पालम हवाईअड्डे पर ²श्यता का स्तर घटकर 600- 800 मीटर रह गया।