Khari Bawli Delhi: पढ़िये- खारी बावली का इतिहास जहां पर आज घुलती है मेवों की मिठास

Khari Bawli Delhi कभी खारे पानी की वजह से नाम का खारापन भले ही साथ नहीं छोड़ रहा हो लेकिन सूखे मेवों की मिठास आज देश में ही नहीं महाद्वीप में भी स्वाद खुशबू और पौष्टिकता की पहचान बन गई है दिल्ली की खारी बावली।

Jp YadavSat, 16 Oct 2021 09:25 AM (IST)
Khari Bawli Delhi: पढ़िये- खारी बावली का इतिहास जहां पर आज घुलती है मेवों की मिठास

नई दिल्ली। त्योहारी मौसम में सूखे मेवों के बाजार पर रौनक छा जाती है। हर बार की तरह इस बार भी दिल्ली का चांदनी चौक और खासतौर पर खारी बावली की फिजा गुलाजर हो उठी है। नाम भले खारी है लेकिन यहां के मेवों की मिठास..विदेश तक है। अफगानिस्तान में आए संकट की गूंज से कुछ समय के लिए बाजार में हलचल जरूर हुई थी लेकिन त्योहारों के रंग में एक बार फिर से खारी बावली का रूप निखर उठा है। ढेर के ढेर काजू, बदाम, अखरोट, किशमिश तमाम किस्म के सूखे मेवे। कुछ तो ऐसे कि जिनके नाम नहीं सुने होंगे और कुछ ऐसे जिनके नाम भले न सुने हों लेकिन उन्हें देखकर पहचान जरूर जाएंगे। बाजार, सूखे मेवों के इतिहास और त्योहारी मौसम में यहां की छटा से रूबरू करा रही हैं प्रियंका दुबे मेहता

पुरानी दिल्ली की वो संकरी गलियां जहां के झरोखों से इतिहास झांकता है, जहां की पेचीदगी में छुपे हर्फ खुद-ब-खुद अपनी कहानी बयां करते हैं, जहां की चहल-पहल में अतीत और वर्तमान की समृद्धि के प्रमाण मिलते हैं, वह गलियां, जो ठहरी होने की बावजूद भी भागती सी नजर आती हैं। उन्हीं गलियों के बीच एक बावली है जिसका इतिहास भले ही खारेपन का प्रतीक हो लेकिन उसका वर्तमान उतनी ही मिठास लिए हुए है। कभी खारे पानी की वजह से नाम का खारापन भले ही साथ नहीं छोड़ रहा हो लेकिन सूखे मेवों की मिठास आज देश में ही नहीं, महाद्वीप में भी स्वाद, खुशबू और पौष्टिकता की पहचान बन गई है दिल्ली की खारी बावली। नाम और गुण में असामनता का प्रतीक खारी बावली एशिया का सबसे बड़ा बाजार यूं ही नहीं है। इसका अपना इतिहास है।

विशालतम बाजार

शाहजहांनाबाद के 14 दरवाजों में से एक है लाहौरी और काबुल दरवाजा से व्यापारी शाहजहांनाबाद आते थे और यहीं पर ठहरते थे। अफगानिस्तान की आबोहवा में सूखे मेवे बहुत होते थे। ऐसे में वहां के व्यापारी मसालों और सूखे मेवों का विक्रय करने आते थे। धीरे-धीरे वहां दुकानें स्थापित हो गईं और खारी बावली का वजूद नई बनी सड़कों दुकानों तले दब गया। देखते ही देखते ये जगह सूखे मेवों का गढ़ बन गई। इसकी विशालता और समृद्धि की कहानी इतिहास की किताबों में भी मिल जाती है। ‘चांदनी चौक द मुगल सिटी आफ ओल्ड दिल्ली’ पुस्तक में इतिहासकार स्वपना लिडले ने लिखा है कि खारी बावली में सूखे मेवे का विशालतम बाजार है। इसी तरह से ‘दिल्ली ए थाउजेंड ईयर्स आफ बिल्डिंग’ में लूसी पेक ने लिखा है कि खारी बावली ड्राईफ्रूट और मसालों का दिलकश बाजार है।

Flat in Ghaziabad: गाजियाबाद में सिर्फ 6 लाख रुपये में फ्लैट खरीदने का मौका, यहां जानिये- पूरी प्रक्रिया

बन रहा सूखे मेवों का बड़ा उत्पादक

इतिहासकार मनीष के गुप्ता का कहना है कि मुगल बादशाह शाहजहां ने दिल्ली को व्यापार का केंद्र बनाया था। इससे पहले व्यापार का केंद्र आगरा था। पहले अफगानिस्तान भारत का हिस्सा था। धीरे-धीरे भौगोलिक परिधियां सिमटीं और फिर देश का विभाजन हुआ उसके कुछ समय बाद पख्तूनिस्तान का मुद्दा आया कि वहां के लोग पाकिस्तान का नहीं, बल्कि भारत का साथ चाहते थे। उस दौरान तत्कालीन नेताओं द्वारा इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया गया था। मनीष के गुप्ता कहते हैं कि भले ही पड़ोसी देश से रिश्ते खट्टे-मीठे रहे हैं लेकिन अफगानिस्तान से रिश्ते हमेशा मधुर रहे हैं। हालांकि खान अब्दुल गफ्फार खान यानी सीमांत गांधी का प्रस्ताव ठुकरा दिया गया था। अगर ऐसा न होता तो आज डाईफ्रूट उत्पादन करने वाला यह हिस्सा भारत के साथ होता और डाईफ्रूट के सबसे बड़े उत्पादक हम होते।

DDA Housing Scheme 2021: दिल्ली में 7 लाख रुपये में खरीदें अपना घर, पाएं 2.67 लाख की सब्सिडी भी

यह भी पढ़ेंः Dry Day in Delhi: जानिए अगले एक महीने में दिल्ली में कितने दिन बंद रहेंगी शराब की दुकानें

 

जब व्यापारियों ने दिल्ली को चुना

अमित का कहना है कि विभाजन के बाद अफगानिस्तान से व्यवसाय करने वाले पेशावर और क्वेटा के बड़े व्यवसायी दिल्ली की खारी बावली में शिफ्ट हो गए। 1952 में इन व्यापारियों में 250 सदस्यीय इंडो-अफगान चेंबर्स आफ कामर्स का गठन किया। इसके पीछे का उद्देश्य दोनों देशों के बीच व्यापार को बढ़ावा देना था। इंडो-अफगान का पंजीकरण चैंबर्स आफ कामर्स खारी बावली के कटरा ईश्वर भवन में किया गया था जहां इसका कार्यलय है। कई सूखे मेवा व्यापारियों के कार्यालय काबुल में बने लेकिन 1990 में गहराए सुरक्षा संकट को लेकर बहुतों ने यह आफिस बंद कर दिए।

यह भी पढ़ेंः जो काम मानसून की रिकार्डतोड़ बारिश नहीं कर सकी, वह सर्दियों की पहली बारिश ने कर दिखाया, लाखों लोगों को मिली राहत

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.