Kisan Andolan: फरार चल रहे गैंगस्टर लक्खा सिधाना का आरोप, चचेरे भाई को दिल्ली पुलिस ने पीटा

पंजाब के गैंगस्टर लक्खा सिधाना की फाइल फोटो।

Punjab gangster Lakkha Sidhana गैंगस्टर लक्खा सिधाना ने अपने चचेरे भाई के साथ पुलिस की तरफ मारपीट किए जाने का आरोप लगाया है। वहीं संयुक्त किसान मोर्चा ने भी कहा कि कृषि कानून विरोधी प्रदर्शन में शामिल लोगों को दिल्ली पुलिस जांच के नाम पर प्रताड़ित कर रही है।

Jp YadavTue, 13 Apr 2021 10:32 AM (IST)

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। किसान ट्रैक्टर परेड के नाम पर 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में फरार चल रहे गैंगस्टर लक्खा सिधाना ने अपने चचेरे भाई के साथ पुलिस की तरफ मारपीट किए जाने का आरोप लगाया है। वहीं, लक्खा सिंह सिधाना के सुर में सुर मिलाते हुए संयुक्त किसान मोर्चा ने भी कहा कि कृषि कानून विरोधी प्रदर्शन में शामिल लोगों को दिल्ली पुलिस जांच के नाम पर प्रताड़ित कर रही है, उनके साथ मारपीट कर रही है। वहीं, दिल्ली पुलिस ने लक्खा सिंह सिधाना व किसान मोर्चा के आरोपों झूठा और निराधार बताया है।

इस पूरे मामले के मद्देनजर दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता चिन्मय बिस्वाल का कहना है कि अब तक किसी के साथ भी पुलिस ने मारपीट नहीं की है। इंटरनेट मीडिया पर पुलिस के खिलाफ झूठा प्रचार किया जा रहा है। आठ अप्रैल को स्पेशल सेल की टीम जब लक्खा सिधाना की तलाश में पंजाब के पटियाला के आसपास थी तो उस दौरान उसके चचेरे भाई गुरदीप ¨सह उर्फ मुंडी को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई थी। बाद में उसे यह बताकर छोड़ दिया गया कि जब भी जरूरत होगी तो उससे पूछताछ की जाएगी। उन्होंने कहा कि पुलिस की कार्रवाई कानून और आपराधिक प्रक्रिया के प्रविधानों के तहत की जा रही है।

बताया जा रहा है कि 26 जनवरी को दिल्ली में किसान ट्रैक्टर परेड/रैली उपद्रव मामले में अब तक 160 आरोपितों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, लेकिन किसी ने भी पुलिस पर मारपीट व बदसलूकी का आरोप नहीं लगाया है। लक्खा पर दिल्ली पुलिस ने एक लाख का इनाम भी रखा है। वह बार-बार इंटरनेट मीडिया पर वीडियो अपलोड कर दिल्ली पुलिस को चुनौती दे रहा है, साथ ही वह पंजाब के रहने वाले अन्य आरोपितों को भी दिल्ली पुलिस के खिलाफ भड़का रहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.