महिला सहित गड्डीबाज गिरोह के दो बदमाशों को पुलिस ने दबोचा

जांच में जुटी पुलिस इलाके के सीसीटीवी फुटेज और पहले हुई ऐसी ठगी के वारदात के डोजियर की जांच कर आरोपितों की पहचान में लग गयी।इससे पुलिस ने एक महिला आरोपित की पहचान करने में कामयाबी पाई जो पहले भी ऐसे मामले में महरौली पुलिस द्वारा गिरफ्तार की गई थी।

Prateek KumarPublish:Wed, 08 Dec 2021 06:10 AM (IST) Updated:Wed, 08 Dec 2021 08:36 AM (IST)
महिला सहित गड्डीबाज गिरोह के दो बदमाशों को पुलिस ने दबोचा
महिला सहित गड्डीबाज गिरोह के दो बदमाशों को पुलिस ने दबोचा

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। सागरपुर थाना पुलिस ने कागज के बंडल बनाकर लोगों को नोट का बंडल बताकर ठगी करने वाले गड्डीबाज गिरोह के दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों में एक महिला भी शामिल है। पुलिस के अनुसार आरोपितों के निशाने पर इलाके की बुजुर्ग महिलाएं होती थी। दक्षिण पश्चिम जिला पुलिस उपायुक्त गौरव शर्मा ने बताया कि आरोपितों की निशानदेही पर सोने की एक चेन, सोने की दो चूड़ियां और वारदात में इस्तेमाल की गई एक कार बरामद की गई है। आरोपित सुमित पर पहले से दो जबकि महिला आरोपित पर एक मामला दर्ज है।

पुलिस के अनुसार 24 नवंबर को सागरपुर थाना में दर्ज कराई गई शिकायत में एक बुजुर्ग महिला ने बताया कि 23 नवंबर को जब वे अपने घर की तरफ जा रही थी, तभी उनके पास दो महिलाएं पहुंची, जिन्होंने उनसे धौला कुआं की तरफ जाने का रास्ता पूछा। इसके बाद इधर-उधर की बातें कर उन महिलाओं ने बुजुर्ग को झांसे में ले कर पहने हुए आभूषण उतरवा लिए। दरअसल इन महिलाओं ने बुजुर्ग महिला को एक नोट का एक बंडल दिखाया और आभूषण के बदले ये बंडल का सौदा फायदेमंद बताया था।

महिलाओं ने आभूषण लेने के बाद महिला को बंडल थमा दिया और निकल गई। बाद में उस बंडल को देखने पर पता चला कि इसमें नोट नहीं बल्कि कागज के टुकड़े हैं। ठगी का अहसास होने पर पीड़ित महिला ने पुलिस को सारी बात बताई। मामले की गंभीरता और पहले भी हुई ऐसी ठगी की घटना को देखते हुए दिल्ली कैंट के एसीपी दलीप कुमार की देखरेख में इंस्पेक्टर एसएस यादव के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया।

जांच में जुटी पुलिस इलाके के सीसीटीवी फुटेज और पहले हुई ऐसी ठगी के वारदात के डोजियर की जांच कर आरोपितों की पहचान में लग गयी। इससे पुलिस ने एक महिला आरोपित की पहचान करने में कामयाबी पाई, जो पहले भी ऐसे मामले में महरौली पुलिस द्वारा गिरफ्तार की गई थी। कुछ समय पहले ही वह जमानत पर बाहर निकली थी।

जानकारी के आधार पर पुलिस ने छापेमारी कर महिला को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में उसने बताया कि इंटरनेट मीडिया से वह आरोपित सुमित से मिली। जिसके बाद दोनों ठगी करने लगे। इस जानकारी के बाद पुलिस ने उसके सहयोगी सुमित को भी दबोच लिया। पुलिस के अनुसार अब अन्य आरोपितों की तलाश की जा रही है।