top menutop menutop menu

Delhi Railways Isolation Coach: आइसोलेशन कोच में भर्ती नहीं हुआ एक भी कोरोना संक्रमित

Delhi Railways Isolation Coach: आइसोलेशन कोच में भर्ती नहीं हुआ एक भी कोरोना संक्रमित
Publish Date:Sat, 08 Aug 2020 02:26 AM (IST) Author:

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi Railways Isolation Coach: करीब डेढ़ माह पहले राजधानी में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ने की आशंका के चलते आनंद विहार टर्मिनल पर 267 आइसोलेशन कोच लगाए गए थे। ये कोच सात प्लेटफॉर्म और चार वॉ¨शग लाइन पर लगे हुए हैं। इन्हें केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश पर रेलवे ने तैयार कराया था। जून के तीसरे सप्ताह में इन्हें दिल्ली सरकार को कोरोना संक्रमित मरीज भर्ती करने के लिए सौंप दिया गया था। लेकिन अभी तक इन कोच में एक भी मरीज भर्ती नहीं हुआ है। इन आइसोलेशन कोच को आनंद विहार टर्मिनल पर लगाने के लिए उस समय यहां से चल रही तीनों ट्रेनों का संचालन बंद कर दिया गया था और उन्हें पुरानी दिल्ली से संचालित करना शुरू किया गया था। एक आइसोलेशन कोच में 16 बेड की व्यवस्था है।

वहीं, यहां से कुछ समय पहले शकूर बस्ती रेलवे स्टेशन पर लगाए गए कोच में काफी संख्या में मरीज भर्ती हुए थे। इनमें बहुत से ठीक होकर घर भी जा चुके हैं। हालांकि, अब दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या कम हो रही है। इससे अब इन कोच की जरूरत पड़ने की उम्मीद कम ही है। हालांकि, ये आइसोलेशन कोच आनंद विहार टर्मिनल से कब हटेंगे और कब फिर से यहां ट्रेनों का संचालन शुरू होगा इसके बारे में रेलवे और शाहदरा जिला प्रशासन की ओर से अभी कुछ नहीं कहा जा रहा है।

वहीं, उत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (सीपीआरओ) दीपक कुमार का कहना है कि आइसोलेशन कोच दिल्ली सरकार को दिए गए हैं। इसलिए दिल्ली सरकार कहेगी कि अब हमें इनकी जरूरत नहीं है, तब रेलवे इन्हें यहां से हटाने पर विचार करेगा।

जुलाई में रिकॉर्ड स्तर पर मरीजों की संख्या पहुंचने की थी आशंका दिल्ली सरकार द्वारा जुलाई माह में राजधानी में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने की आशंका जताई गई थी। इसके बाद संज्ञान लेते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने रेलवे से 500 से ज्यादा आइसोलेशन कोच तैयार कराकर दिल्ली सरकार को सौंपे थे। जिन्हें दिल्ली के अलग-अलग स्टेशनों पर लगाया गया था। इस तरह केंद्र सरकार की ओर से दिल्ली सरकार को करीब आठ हजार बेड कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए उपलब्ध कराए गए थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.