जानें घर पर कैसे करें खाद्य पदार्थों में मिलावट की जांच, दूध, चीनी व खाद्य तेल जांच करने का ये है तरीका

दूध में पानी की मिलावट की जांच करने के लिए किसी चिकनी लकड़ी या पत्थर की सतह पर दूध की एक या दो बूंद टपकाकर देखिए। अगर दूध बहता हुआ नीचे की तरफ गिरे और सफेद धार सा निशान बन जाए तो इसका मतलब है दूध शुद्ध है।

Mangal YadavWed, 23 Jun 2021 09:28 PM (IST)
दोबारा खाद्य तेल का इस्तेमाल पड़ेगा महंगा

नई दिल्ली [मनीषा गर्ग]। खाने-पीने की चीजों में मिलावट नहीं हो और लोगों को स्वच्छ व गुणवत्ता युक्त भोजन मिलें, इसके लिए खाद्य सुरक्षा विभाग की कई टीमें दिल्ली के विभिन्न हिस्सों से खाद्य व खाद्य निर्माण सामग्रियों के नमूने एकत्रित करने में जुटी हैं। एक अप्रैल से 22 जून के बीच विभाग ने दिल्ली के विभिन्न जिलों से खाद्य सामग्रियों के कुल 583 नमूने लिए है।जिसमें 312 औपचारिक नमूने और 271 सर्विलांस नमूने शामिल है। नमूनों के नतीजें के आधार पर विभाग अभी तक 35 प्रतिष्ठानों को कारण बताओ नोटिस जारी कर चुका है। जबकि 25 प्रतिष्ठानों को नतीजे के आधार पर अपनी व्यवस्था में सुधार लाने के निर्देश दिए गए है।

एक अप्रैल से विभाग खाद्य तेलों के लिए विशेष इंफोर्समेंट ड्राइव चला रहा है। जिसमें सरसों तेल पर विभाग का विशेष जोर है। अभियान के तहत विभाग अभी तक कुल 111 नमूने एकत्रित कर चुका है। जिसमें सरसों तेल के 92 नमूने शामिल है। ये सभी नमूने खुदरा दुकान, थोक दुकान व निर्माण स्थल से लिए गए हैं।

घर पर खाद्य पदार्थों की ऐसे करें जांच

दूध में पानी की मिलावट की जांच करने का तरीका

दूध में पानी की मिलावट की जांच करने के लिए किसी चिकनी लकड़ी या पत्थर की सतह पर दूध की एक या दो बूंद टपकाकर देखिए। अगर दूध बहता हुआ नीचे की तरफ गिरे और सफेद धार सा निशान बन जाए तो इसका मतलब है दूध शुद्ध है।

दूध से स्टार्च की मिलावट 

दो से तीन किलोग्राम दूध को पांच किलोग्राम पानी के साथ उबाले। उबाले हुए दूध को पहले ठंडा कर लें। इसके बाद पांच मिलीलीटर दूध में आयोडिन की पांच बूंदें डालें। इस मिश्रण के बाद अगर दूध का रंग नीला होता है तो उसमें स्टार्च मिला है।

सरसों के तेल में अन्य तेलों की मिलावट की जांच का तरीका

सरसों के तेल की थोड़ी सी मात्रा लेकर टेस्‍ट ट्यूब में डालें। अब इसमें नाइट्रिक एसिड की कुछ बूंदें डालें। इसे हिलाएं और मिक्‍सचर को 2-3 मिनट के लिए गर्म करें। अगर रंग लाल हो जाता है तो समझ लजिए कि तेल में मिलावट है।

नारियल तेल में अन्य तेलों की मिलावट की जांच का तरीका

एक पारदर्शी बर्तन में नारियल तेल को लेकर उसे 30 मिनट के लिए फ्रीज में रख दें। याद रखे फ्रीजर में बर्तन को नहीं रखना है। आधे घंटे के बाद तेल जम जाएगा। अगर तेल में मिलावट होगी तो अन्य तेल की परत नजर आने लगेगी।

शहद में चीनी की मिलावट की जांच का तरीका

पानी में एक चम्मच शहद डालें। अगर यह पानी में घुल जाता है तो समझिए शहद मिलावटी है। वहीं अगर यह मोटी तार बनाता हुआ बर्तन की तली में बैठ जाता है तो यह असली है।

चीनी में चाक पाउडर की मिलावट 

पारदर्शी गिलास में पानी लें और उसमें दस ग्राम चीनी मिलाएं। यदि चीनी में चाक पाउडर मिला होगा तो वह घुलने के थोड़े देर बाद गिलास में नीचे बैठ जाएगा।

काली मिर्ची में पपीते के बीज की मिलावट 

थोड़ी सी काली मिर्ची को पानी में डाल दीजिए, असली काली मिर्च पानी में नीचे बैठ जाएगी। वहीं अगर मिर्ची में पपीते के बीज मिले होंगे तो वे सतह पर तैरने लगेंगे।

खाद्य सामग्रियों के औपचारिक नमूने 

जिला       एकत्रित नमूने

मध्य          36

पूर्वी            37

उत्तरी          31

उत्तरी पूर्व     20

उत्तरी पश्चिमी 30

दक्षिण-पश्चिमी 20

शाहदरा         28

दक्षिण          32

दक्षिणी-पूर्व    28

पश्चिमी       28

नई दिल्ली      29

सरसों तेल के एकत्रित नमूने

जिला        एकत्रित नमूने

मध्य           11

पूर्वी           12

उत्तरी       10

उत्तरी पूर्व   01

उत्तरी पश्चिमी 09

दक्षिण-पश्चिमी 02

शाहदरा      10

दक्षिण      09

दक्षिणी-पूर्व 08

पश्चिमी 10

नई दिल्ली 10

खाद्य तेल की गुणवत्ता के साथ विभाग इस दिशा में भी सतर्कता दिखा रहा है कि किन-किन होटल, रेस्तरां व सड़क किनारे रेहड़ी-पटरी पर खाद्य पदार्थों को तैयार करने में एक ही तेल का बार-बार प्रयोग हो रहा है। खाद्य सामग्रियों में मिलावट करने वालों पर नकेल कसने के साथ विभाग लोगों को भी जागरूक कर रहा है कि वे कैसे खाद्य सामग्रियाें में मिलावट का पता लगा सकते है।

इसके तहत विभाग द्वारा अब तक 15 वेबिनार का आयोजित कर चुका है और लोगों के बीच पेंफ्लेट का भी वितरण किया जा रहा है ताकि सभी अपने-अपने स्तर पर एहतियात बरते। खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा गठित दलों में शामिल कर्मियों का कहना हैं कि अधिकारियों के सख्त निर्देश हैं कि खाद्य सामग्री के निर्माण से लेकर संरक्षण, वितरण, बिक्री व आयात तक खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम 2006 का पालन हर हाल में सुनिश्चित हो। खाद्य सामग्रियाें की गुणवत्ता मानक के अनुरूप हो।

खाद्य सुरक्षा विभाग की आयुक्त नेहा बंसल ने बताया कि कोरोना महामारी के दौरान भी खाद्य सुरक्षा विभाग अपने दायित्वों को निभाने में जुटा रहा है। विभाग की टीमें यह सुनिश्चित करने में जुटी रहीं कि खानपान की चीजों में किसी तरह की मिलावट नहीं हो। यदि किसी को मिलावट के बारे में जानकारी मिलती है तो वह विभाग के टाल फ्री नंबर 1800113921 पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.