मनजीत सिंह जीके ने एसजीपीसी अध्यक्ष जागीर कौर का मांगा इस्तीफा, लगाया गंभीर आरोप

मनजिंदर सिंह सिरसा को दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) की सदस्यता के लिए अयोग्य घोषित करने के बाद अब जग आसरा गुरु ओट (जागो) के नेता मनजीत सिंह जीके ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) पर निशाना साधा है।

Mangal YadavWed, 22 Sep 2021 07:15 PM (IST)
आसरा गुरु ओट (जागो) के नेता मनजीत सिंह जीके। फाइल फोटो

नई दिल्ली [संतोष कुमार सिंह]। मनजिंदर सिंह सिरसा को दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) की सदस्यता के लिए अयोग्य घोषित करने के बाद अब जग आसरा गुरु ओट (जागो) के नेता मनजीत सिंह जीके ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) पर निशाना साधा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि एसजीपीसी ने गलत तरीके से सिरसा को डीसजीएमसी में अपना नामित सदस्य मनोनित किया है। इसके लिए एसजीपीसी की अध्यक्ष जागीर कौर जिम्मेदार हैं, इसलिए उन्हें एवं पूरी कार्यकारिणी को इस्तीफा देना चाहिए। इसके लिए वह अदालत जाएंगे।

प्रेस वार्ता में मनजीत सिंह जीके ने कहा कि 25 अगस्त को चुनाव परिणाम आने के कुछ देर बाद ही शिरोमणि अकाली दल (शिअद बादल) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने सिरसा को डीएसजीएमसी का अध्यक्ष बनाने की घोषणा कर दी। उनके इशारे पर एसजीपीसी द्वारा अपना सदस्य मनोनित करने का पत्र भी जारी हो गया। उस पत्र में 23 अगस्त को हुई एसजीपीसी की बैठक में इस संबंध में प्रस्ताव पारित करने की बात कही गई है, जबकि चुनाव परिणाम 25 अगस्त को आया है।

एसजीपीसी के दो सदस्यों ने अदालत में भी कहा है कि बैठक में इस तरह का कोई प्रस्ताव पारित नहीं किया गया था। उन्होंने कहा कि एसजीपीसी अध्यक्ष व कार्यकारिणी के खिलाफ अदालत में धोखाधड़ी की शिकायत करेंगे। उन्होंने कहा कि शिअद बादल के दस अन्य सदस्यों के खिलाफ पंजाबी का ज्ञान नहीं होने की शिकायत अदालत में की गई है। उन्होंने गुरुद्वारा चुनाव निदेशक से डीएसजीएमसी के चुने हुए सभी 46 सदस्यों का पंजाबी का टेस्ट कराने की मांग की।

डीएसजीएमसी के पूर्व सदस्य कुलवंत सिंह बाठ ने कहा कि कमेटी के अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों के व्यक्तिगत अदालती मामले में गुरु के गोलक से पैसे खर्च कर वकील रखे जा रहे हैं। जागो के मुख्य महासचिव परमिंदर पाल सिंह ने सिरसा को अपनी बीए (पंजाबी आनर्स) की डिग्री सार्वजनिक करने की मांग की।

सिरसा डिग्री दिखा दें तो डीएसजीएमसी से इस्तीफा दे दूंगाः सरना

शिरोमणि अकाली दल दिल्ली (सरना) के महासचिव हरविंदर सिंह सरना ने कहा कि मनजिंदर सिंह सिरसा को अयोग्य घोषित होने से पूरे विश्व में डीएसजीएमसी की बदनामी हो रही है। यह संदेश गया कि सिखों के प्रमुख धार्मिक संस्था के प्रमुख को पंजाबी का ज्ञान नहीं है। उन्होंने कहा कि निवर्तमान अध्यक्ष को न तो पंजाबी और सिख इतिहास की जानकारी है। उन्होंने कहा कि यदि सिरसा बीए (पंजाबी आनर्स) की डिग्री दिखा देंगे तो वह उनके खिलाफ किए हुए मुकदमें वापस लेने के साथ ही कमेटी की सदस्यता से इस्तीफा दे देंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.