Driverless Metro In Delhi: लाखों यात्रियों को तोहफा, जल्द पूरी पिंक लाइन पर बिना ड्राइवर रफ्तार भरेगी दिल्ली मेट्रो

Driverless Metro In Delhi पिंक लाइन के अंतर्गत त्रिलोकपुरी-मयूर विहार पॉकेट एक कॉरिडोर पर सुरक्षा मानकों की जांच का काम बाकी है जो जल्द पूरा हो जाएगा। मंजूरी के बाद इस कॉरिडोर पर परिचालन शुरू होने पर सितंबर तक पिंक लाइन पर भी दिल्ली मेट्रो बगैर चालक के रफ्तार भरेगी।

Jp YadavFri, 23 Jul 2021 02:33 PM (IST)
Driverless Metro In Delhi: लाखों यात्रियों को तोहफा, जल्द पूरी पिंक लाइन पर बिना ड्राइवर रफ्तार भरेगी दिल्ली मेट्रो

नई दिल्ली [रणविजय सिंह]। Driverless Metro In Delhi: दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) की पूरी पिंक लाइन पर अगले सप्ताह मेट्रो ट्रेनें रफ्तार भरना शुरू कर देंगीं। पिंक लाइन के अंतर्गत त्रिलोकपुरी-मयूर विहार पॉकेट एक कॉरिडोर पर सुरक्षा मानकों की जांच का काम बाकी है, जो जल्द पूरा हो जाएगा। मंजूरी के बाद इस कॉरिडोर पर अगले कुछ दिनों में परिचालन शुरू हो जाएगा। डीएमआरसी के अधिकारियों के मुताबिक, सितंबर तक पिंक लाइन पर भी दिल्ली मेट्रो बगैर चालक के रफ्तार भरेगी। फिलहाल सिर्फ मजेंटा लाइन पर बगैर चालक के मेट्रो ट्रेन रफ्तार भरती है।

गौरतलब है कि पिंक लाइन के सबसे छोटे, लेकिन बेहद अहम हिस्से के तौर पर त्रिलोकपुरी-मयूर विहार पॉकेट-1 के बीच ट्रायल सफल हो चुका है। सेफ्टी कमिश्नर (मेट्रो) इस ट्रैक की मजबूती के लिए मुआयना भी कर चुके हैं।  पिंक लाइन के मयूर विहार पॉकेट-1 और त्रिलोकपुरी/संजय झील मेट्रो स्टेशन के बीच नया सेक्शन तैयार हो गया है। इसके संचालन से मेट्रो स्टेशनों के आसपास बैंक, शिक्षण संस्थान, मॉल्स, शॉपिंग प्लाजा तक पहुंचने में आसानी से लाखों लोगों की सहूलियतें बढ़ जाएंगी। 

अगले हफ्ते तक पूरी पिंक लाइन पर दौड़ेगी दिल्ली मेट्रो

वहीं, दिल्ली मेट्रो के पिंक लाइन यात्रियों के लिए अगले सप्ताह तक पिंक लाइन पर सीधे यात्रा करने की सुविधा मिल जाएगी। अब तक इस ट्रैक पर बीच में एक सेक्शन का गैप होने की वजह से मेट्रो लाइन सीधी कनेक्ट नहीं थी। अब यह झंझट भी खत्म हो गया है।

मजलिस पार्क से सीधे शिव विहार तक जा सकेंगे लोग

पिंक लाइन के इस मेट्रो रूट के एक छोर से सीधे दूसरे छोर तक जाने के रास्ते में आ रही अड़चन अब दूर हो चुकी है और त्रिलोकपुरी में इस लाइन की अधूरी लिंक को जोड़ने का काम पूरा कर लिया गया है। ऐसे में अगले सप्ताह इस रूट पर पिंक लाइन के रफ्तार भरने की पूरी संभावना है। यह सेक्शन पिंक लाइन के मयूर विहार पॉकेट-1 और त्रिलोकपुरी/संजय झील मेट्रो स्टेशन के बीच बनाया गया है। इस सेक्शन पर कोई मेट्रो स्टेशन नहीं है। केवल दोनों छोर से मेट्रो लाइन को जोड़कर उस पर ट्रैक बिछाई गई है। डीएमआरसी की मानें तो 31 जुलाई तक यह सेक्शन खुल जाएगा और इस पर मेट्रो चलने लगेगी।

पूर्वी दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली के बीच सफर होगा आसान

मेट्रो नेटवर्क की सबसे लंबी 58.6 किलोमीटर की पिंक लाइन पर मेट्रो सीधे एक छोर से दूसरे छोर तक जा सकेगी। इससे पूर्वी दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली के बीच आना-जाना आसान हो जाएगा। मयूर विहार और त्रिलोकपुरी से आनंद विहार रेलवे स्टेशन और बस अड्डे आने-जाने में काफी आसानी हो जाएगी। इसके अलावा नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली का सफर भी आसान हो जाएगा।

मिलेगी और भी कई सुविधा

फिलहाल इस लाइन पर मेट्रो लाइन का काम अधूरा रह जाने की वजह से इस लाइन पर मेट्रो दो हिस्सों में बंटकर चल रही है। मयूर विहार से आगे आनंद विहार, कड़कड़डूमा और वेलकम में इंटरचेंज स्टेशन भी बने हुए हैं, ऐसे में जिन लोगों को ब्लूलाइन या रेड लाइन पर जाना होगा, वे भी अब आसानी से इसी लाइन से आगे जाकर इंटरचेंज कर सकेंगे।

मजेंटा लाइन पर चलती है ड्राइवर लेस मेट्रो

 मजेंटा लाइन पर दिसंबर, 2020 से बिना ड्राइवर के मेट्रो ट्रेनें चलाई जा रही हैं। दिसंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो सेवा का दिल्ली मेट्रो की मजेंटा लाइन पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उद्घाटन किया था। देश में पहली बार मजेंटा लाइन पर बोटेनिकल गार्डन से जनकपुरी पश्चिम के बीच बगैर चालक के मेट्रो रफ्तार भर रही है। 

पिंक लाइन पर भी शुरू होगी सर्विस

दिल्ली मेट्रो की मजेंटा लाइन (जनकपुरी पश्चिम-बॉटनिकल गार्डेन) पर ड्राइवरलेस मेट्रो ट्रेन सेवा शुरू होने के बाद पिंक लाइन (मजलिस पार्क-शिव विहार) पर सितंबर महीने से ड्राइवरलेस मेट्रो ट्रेन सेवा शुरू होने की उम्मीद है। मजेंटा लाइन पर जनकपुरी-बॉटेनिकल गॉर्डन कॉरिडोर पर 37 किलोमीटर के दायरे में इस सेवा की शुरुआत के साथ दिल्ली-एनसीआर के यात्री अत्याधुनिक सेवाओं का अपनी सुविधा के लिए इस्तेमाल कर सकेंगे।

बचेगा यात्रियों का समय

पिंक लाइन पर भी ड्राइवरलेस मेट्रो के परिचालन से या​त्रियों को भी फायदा होगा और उनका समय भी बचेगा। फिलहाल इस रूट पर 5 मिनट 12 सेकंड के अंतराल पर मेट्रो का परिचालन होता है। ड्राइवरलेस मेट्रो के परिचालन का फायदा यह है कि यात्रियों का दबाव बढ़ने पर महज 90 सेकंड के अंतराल पर मेट्रो का परिचालन हो सकेगा। जाहिर है कि चालक रहित मेट्रो के चलने से मेट्रो की फ्रीक्वेंसी बढ़ेगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.