Farmers Protest : नजफगढ़ रोड पर किसानों ने जमकर किया बवाल, पुलिस पर फेंके पत्थर

रैली के नजफगढ़ रोड से गुजरने के दौरान उत्तम नगर इलाके में सभी बाजार एकाएक बंद हो गए।

द्वारका मोड़ से रैली के आगे निकलने की सूचना जैसे ही उत्तम नगर व मोहन गार्डन थाना पुलिस को मिली इन क्षेत्रों के पुलिसकर्मी सतर्क हो गए। रैली को राेकने के लिए पुलिस उत्तम नगर थाना से ठीक पहले तिराहे पर क्लस्टर बसों को आड़ा तिरछा कर खड़ा दिया ।

Publish Date:Tue, 26 Jan 2021 08:44 PM (IST) Author: Prateek Kumar

नई दिल्ली, भगवान झा। नजफगढ़ से आगे चलते हुए ट्रैक्टर रैली सीधे उत्तम नगर की ओर बढ़ी। नजफगढ़ रोड पर इन्हें रोकने की सबसे पहली कोशिश द्वारका मोड़ पर हुई, लेकिन पुलिस नाकामयाब रही। द्वारका मोड़ से रैली के आगे निकलने की सूचना जैसे ही उत्तम नगर व मोहन गार्डन थाना पुलिस को मिली, इन क्षेत्रों के पुलिसकर्मी सतर्क हो गए। रैली को राेकने के लिए पुलिस उत्तम नगर थाना से ठीक पहले तिराहे पर बने लाल बत्ती पर क्लस्टर बसों को आड़ा तिरछा कर खड़ा दिया ताकि रैली को यहां रोका जा सके।

करीब साढ़े तीन बजे उत्तम नगर थाना में तैनात सब इंस्पेक्टर गोविंद कुमार के नेतृत्व में करीब एक दर्जन पुलिसकर्मी यहां रैली को रोकने को खड़े थे। इन्होंने पहले रैली में शामिल किसानों को समझाया लेकिन जब बात नहीं बनी तो आंसू गैस के गाेले यहां से छोड़े जाने लगे। हर गोले के साथ किसान कुछ मिनट तक तो अपनी जगह पर रुक जाते लेकिन फिर इसके बाद आगे बढ़ जाते। आगे बढ़ते बढ़ते जब किसान बस के नजदीक पहुंचे तो पुलिस से उनका एक बार सीधा सामना हुआ।

यहां एक बार फिर पुलिसकर्मियों ने किसानों को समझाने की कोशिश की लेकिन तब तक किसान मनमानी पर उतर आए। उन्होंने बस को आगे खींचना शुरू कर दिया। एक किसान बस की चालक सीट पर बैठ बस को आगे ले जाने लगा। एक समय लगा कि यह किसान बस को लेकर फरार हो गया है, लेकिन थोड़ी दूर आगे उसने बस को रोक दिया। इसके बाद यहां से सैकड़ों की संख्या में ट्रैक्टर के आगे बढ़ने का सिलसिला शुरू हो गया। यह सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा था।

उत्तम नगर चौराहे पर पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़ती रही, लेकिन किसान आगे बढ़ते रहे। करीब ढाई घंटे बाद उत्तम नगर थाना पुलिस ने एक बार फिर यहां कमान संभाली। लेकिन किसान आगे बढ़ने की जिद पर अड़े रहे। पुलिस को परेशान करने के लिए यहां किसानों ने पत्थरबाजी भी की। लेकिन पुलिस डटी रही। थोड़ी देर बार यहां स्वयं द्वारका जिला पुलिस उपायुक्त संतोष कुमार मीणा, अतिरिक्त उपायुक्त शंकर चौधरी ने कमान संभाली। जिले के दो वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में यहां पुलिस का मनोबल फिर बढ़ा और इन्होंने यहां किसानों को आगे बढ़ने से रोक लिया। पुलिस की मुस्तैदी देख उपद्रव पर अमादा किसान भी यहां थम से गए। इसके बाद उपद्रव पर अमादा किसानों ने पुलिस से आगे बढ़ने की विनती करनी शुरू कर दी। पुलिस को मनाने के लिए किसानों ने सड़क पर बैठने का फैसला किया।

दुकानें हो गई बंद

रैली के नजफगढ़ रोड से गुजरने के दौरान उत्तम नगर इलाके में सभी बाजार एकाएक बंद हो गए। दुकानदारों ने शटर गिरा दिए। उत्तम नगर बस टर्मिनल व मेट्रो स्टेशन के द्वार बंद कर दिए गए। सड़क पर न तो बस न ही ई रिक्शा चलने के कारण लोग यहां पैदल चलने को मजबूर थे। जो लोग परिवार के साथ थे, उन्हें इस कदर भय लग रहा था कि वे मुख्य सड़क से सटी गलियों में शरण पाने को इधर उधर भटक रहे थे।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.