दिल्ली में 38 लाख परिवारों का बिजली का बिल शून्य आया, 14 लाख लोगों के पानी के बिल भी जीरो

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की फाइल फोटो

दिल्ली में कुल 52 लाख घरेलू उपभोक्ता हैं। इनमें से 38 लाख परिवारों के बिजली के बिल शून्य आए हैं। यानी 73 फीसद परिवारों के बिजली के बिल शून्य आए हैं। पहले 2014 की गर्मियों में सात से आठ घंटे तक बिजली जाती थी।

Publish Date:Tue, 26 Jan 2021 11:56 AM (IST) Author: Mangal Yadav

नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि हमारा टैक्स आना बंद हो गया था, लोगों को चिंता लगने लगी कि मुफ्त में मिल रहा बिजली-पानी कहीं बंद तो नहीं हो जाएगा। दिल्ली सचिवालय में ध्वजारोहण के बाद उन्होंने कहा कि लोग अखबार में पढ़ते थे कि सरकार के पास कर नहीं आ रहा है, लेकिन अच्छा आर्थिक प्रबंधन करके हमने सुनिश्चित किया कि लोगों की बिजली-पानी की मुफ्त सुविधा बंद नहीं की जाएगी।

दिल्ली में कुल 52 लाख घरेलू उपभोक्ता हैं। इनमें से 38 लाख परिवारों के बिजली के बिल शून्य आए हैं। यानी 73 फीसद परिवारों के बिजली के बिल शून्य आए हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनने से पहले 2014 की गर्मियों में सात से आठ घंटे तक बिजली जाती थी। केजरीवाल ने कहा कि इसी तरह 25 लाख पानी के घरेलू उपभोक्ता हैं। पिछली बिलिंग साइकिल में से 14 लाख लोगों के पानी के बिल शून्य आए हैं, जो कुल में से लगभग 56 फीसद हैं। अब लोगों को 24 घंटे पानी भी मुफ्त में मिलेगा।

कोरोना योद्धाओं को एक-एक करोड़ रुपये की सहयोग राशि दी

मुख्यमंत्री ने कहा कि अपनी सेवाएं देने के दौरान अपनी जान गंवाने वाले नौ कोरोना योद्धाओं के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये की आर्थिक मदद दी। इसी तरह दिल्ली पुलिस के 19 जवानों, अग्निश्मन विभाग के छह कर्मियों और दिल्ली के रहने वाले तीन जवानों के बार्डर पर शहीद होने पर उनके परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं।

हर महीने एक करोड़ लोगों को राशन दिया: केजरीवाल ने कहा कि हमारी सरकार ने कोरोना काल में हर महीने एक करोड़ लोगों को सूखा राशन दिया। 10 लाख लोगों को हर रोज दिन और रात के भोजन की व्यवस्था की गई। काम धंधा बंद होने पर एक लाख 56 हजार आटो और टैक्सी ड्राइवर के बैंक खाते में पांच-पांच हजार रुपये जमा कराए। लगभग 44 हजार निर्माण श्रमिकों के खाते में 10-10 हजार रुपये जमा कराए गए।

केजरीवाल ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि इस वर्ष हम सब लोगों को कोरोना से छुटकारा मिलेगा। उन्होंने कहा कि पिछला साल सबके लिए बहुत मुश्किल भरा रहा। दिल्ली ने कोरोना महामारी का बहुत प्रचंड रूप देखा, मगर सरकार ने अव्यवस्था नहीं होने दी। दिल्ली के अस्पतालों में बेहतर व्यवस्था की। दिल्ली ने कोरोना काल के दौरान देश और दुनिया को होम आइसोलेशन व प्लाज्मा थेरेपी दी। दो जुलाई को दुनिया का सबसे पहला प्लाज्मा बैंक दिल्ली के अंदर शुरू किया गया। अभी तक करीब 5000 लोगों की प्लाज्मा के जरिये जान बचाई जा चुकी है। होम आइसोलेशन में अभी तक 3,12,425 मरीज ठीक हो चुके हैं। अगर हमारे डाक्टर होम आइसोलेशन शुरू नहीं करते तो 3.12 लाख मरीजों को अस्पतालों में बेड नहीं मिलते।

 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.