DU Admission 2021: डीयू ने बदला स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में दाखिले का शेड्यूल

डीयू प्रशासन का कहना है कि ऐसा दूसरी आवंटन सूची के तहत दाखिले के लिए छात्रों को और अधिक समय दिए जाने के चलते हुआ है। दूसरी आवंटन सूची से छात्र अब शनिवार शाम पांच बजे तक शुल्क जमा करेंगे। पहले छात्रों को शुक्रवार तक का समय दिया गया था।

Mangal YadavFri, 03 Dec 2021 05:54 PM (IST)
शुक्रवार को जारी होने वाली थी तीसरी आवंटन सूची

नई दिल्ली [संजीव कुमार मिश्र]। दिल्ली विश्वविद्यालय ने हाल ही में स्नातकोत्तर का अकादमिक कैलेंडर जारी किया। दावा किया कि एक दिसंबर से स्नातकोत्तर की कक्षाएं प्रारंभ होंगी। लेकिन हकीकत यह है कि डीयू दाखिला प्रक्रिया पूरा नहीं कर पा रहा है। विगत दो हफ्ते में तीन बार स्नातकोत्तर दाखिला प्रक्रिया में बदलाव किया गया है। पात्र छात्रों की तीसरी आवंटन सूची शुक्रवार को जारी होनी थी। छात्र दाखिले को लेकर पूरी तैयारी कर चुके थे लेकिन ऐनवक्त पर डीयू ने शेड्यूल बदल दिया।

डीयू प्रशासन का कहना है कि ऐसा दूसरी आवंटन सूची के तहत दाखिले के लिए छात्रों को और अधिक समय दिए जाने के चलते हुआ है। दूसरी आवंटन सूची से छात्र अब शनिवार शाम पांच बजे तक शुल्क जमा करेंगे। पहले छात्रों को शुक्रवार तक का समय दिया गया था।

डीयू प्रशासन ने बताया कि अब तीसरी आवंटन सूची मंगलवार को जारी होगी। छात्र बुधवार सुबह दस बजे से बृहस्पतिवार रात 11 बजकर 59 मिनट तक आवेदन कर सकेंगे। विभाग आठ दिसंबर सुबह दस बजे से 10 दिसंबर शाम पांच बजे तक दाखिले मंजूर या नामंजूर करेंगे। वहीं छात्र 11 दिसंबर दोपहर एक बजे तक शुल्क जमा कर दाखिला ले सकेंगे।

सर्वे के सहारे दिव्यांग छात्रों की मदद करेगा आइआइटी दिल्ली

वहीं, अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिवस पर आइआइटी दिल्ली परिसर में चैलेंज-चैलेंज आयोजित हुआ। इस कार्यक्रम का मकसद सामान्य छात्रों को यह महसूस कराना था कि दिव्यांग छात्र कैसे प्रतिदिन संघर्ष करते हैं। आइआइटी निदेशक प्रो. वी रामगोपाल राव ने बताया कि आफिस आफ एसेसबल एजुकेशन (ओएई) शुरू किया गया है। इसके तहत दिव्यांग छात्रों की सहायता की जाती है। ओएई के तहत दिव्यांग छात्रों को विभिन्न उपकरण प्रदान किए जाते हैं। इसी कड़ी में आइआइटी दिल्ली यह जानने की कोशिश करेगा कि छात्रों को किस तरह के उपकरणों की जरूरत है।

इसके लिए एक सर्वे भी कराया जाएगा। ताकि पता चल सके कि छात्रों को व्हीलचेयर, स्पेशल मोबाइल फोन के अलावा और किस तरह के उपकरण चाहिए। परिसर में छात्रों के लिए वाहन उपलब्ध कराने पर भी विचार किया जा रहा है। वहीं स्टूडेंट वेलफेयर की एसोसिएट डीन प्रो. रीतिका खेरा ने बताया कि हम आइआइटी के छात्र संगठनों के सहयोग से वालेंटियर्स नियुक्त करेंग। ये वालेंटियर्स किताबों समेत अन्य तरह से दिव्यांग छात्रों की मदद करेंगे।

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.