दिल्ली-NCR में कई स्थानों पर हल्की बारिश, तापमान गिरने से बढ़ी ठंड; प्रदूषण कम होने के बढ़े आसार

हल्की बारिश के बीच बृहस्पतिवार इस सीजन का सबसे ठंडा दिन दर्ज किया गया। अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम 19.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ जो मौजूदा सर्दियों का सबसे कम है। आने वाले दिनों में मौसम विभाग ने दिनों में कोहरा पड़ने की भी भविष्यवाणी की है।

Mangal YadavPublish:Thu, 02 Dec 2021 09:57 PM (IST) Updated:Thu, 02 Dec 2021 10:48 PM (IST)
दिल्ली-NCR में कई स्थानों पर हल्की बारिश, तापमान गिरने से बढ़ी ठंड; प्रदूषण कम होने के बढ़े आसार
दिल्ली-NCR में कई स्थानों पर हल्की बारिश, तापमान गिरने से बढ़ी ठंड; प्रदूषण कम होने के बढ़े आसार

नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद समेत एनसीआर के कई इलाकों में हल्की बारिश से ठंड बढ़ गई है। मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली, नोएडा और ग्रेटर नोएडा समेत कई इलाकों में देर रात भी हल्की-हल्की बारिश होती रही। हल्की बारिश के बीच बृहस्पतिवार इस सीजन का सबसे ठंडा दिन दर्ज किया गया। अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम 19.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जो मौजूदा सर्दियों का सबसे कम है। आने वाले दिनों में मौसम विभाग ने दिनों में कोहरा पड़ने की भी भविष्यवाणी की है।

बृहस्पतिवार को सुबह से ही बादल छाए रहे। सूर्य के दर्शन भी नहीं ही हुए। दोपहर के समय हल्की बारिश शुरू हुई तो कहीं रिमझिम फुहार और कहीं बूंदाबांदी के रूप में शाम तक चलती रही। मौसम विभाग के अनुसार शाम साढ़े पांच बजे तक सफदरजंग, आयानगर, पालम पर 1.0- 1.0 मिमी, लोधी रोड पर 0.8 और पीतमपुरा में 0.5 मिमी बारिश दर्ज की गई। दिल्ली में न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 13.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा में नमी की मात्रा 70 से 95 प्रतिशत रही।

प्रदूषण कम होने के बढ़े आसार

बारिश होने से वायु प्रदूषण में गिरावट होने के आसार बढ़ गए हैं। मौसमी उतार चढ़ाव के बीच राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता बृहस्पतिवार को फिर से गंभीर श्रेणी में पहुंच गई। दिल्ली का 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) 429 रहा, बुधवार को यह 370 था। एनसीआर में फरीदाबाद का एक्यूआइ 428, गाजियाबाद का 347, ग्रेटर नोएडा का 356, गुरुग्राम का 377 और नोएडा का 408 दर्ज किया गया। सफर इंडिया के मुताबिक अगले तीन दिनों तक हवा शांत रहने से वेंटिलेशन कम रहने की संभावना है, जिससे हवा की गुणवत्ता में गिरावट आ सकती है।

हालांकि रहेगी यह बहुत खराब श्रेणी में ही। छह दिसंबर के बाद हवाओं की रफ्तार में सुधार होने के प्रदूषक तत्व छंटने की संभावना बनेगी। हालांकि एयर इंडेक्स के तब भी ''बहुत खराब'' श्रेणी में ही रहने की संभावना है। फिलहाल आंशिक रूप से छाए हुए बादल और मंद हवा भी प्रदूषक तत्वों के छंटने में बाधक बन रही है।