Delhi Metro: जल्दी में थी असम से आई महिला, दिल्ली मेट्रो के एक्सरे मशीन के पास भूल गई अपना बैग, बैग में थे ढाई लाख रुपये जानिए फिर क्या हुआ

आरके आश्रम मेट्रो स्टेशन पर छूटा बैग उसके मालिक को मिल गया। इसमें ढाई लाख से ज्यादा रुपये थे। सुरक्षा कर्मियों ने पहले बैग की सुरक्षा के लिहाज से जांच की। उसके बाद बैग की मालकिन महिला यात्री को बैग सौंप दिया गया। महिला जल्दी में थी।

Vinay Kumar TiwariFri, 03 Dec 2021 10:34 AM (IST)
आरके आश्रम मेट्रो स्टेशन पर छूटा बैग उसके मालिक को मिल गया।

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा में तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) कर्मियों की मुस्तैदी की बदौलत आरके आश्रम मेट्रो स्टेशन पर छूटा बैग उसके मालिक को मिल गया। इसमें ढाई लाख से ज्यादा रुपये थे। सुरक्षा कर्मियों ने पहले बैग की सुरक्षा के लिहाज से जांच की। उसके बाद बैग की मालकिन महिला यात्री को बैग सौंप दिया गया। महिला जल्दी में थी। ऐसे में वे स्कैनर के पास बैग भूल गई थीं।

सीआइएसएफ के अधिकारियों ने बताया कि बुधवार शाम करीब चार बजकर 40 मिनट पर आरके आश्रम मेट्रो स्टेशन पर एक्स-रे मशीन के पास एक लावारिस बैग पड़ा देखा गया। स्टेशन पर मौजूद लोगों से पूछताछ की गई, लेकिन किसी ने बैग को क्लेम नहीं किया। सुरक्षा के लिहाज से जब बैग की जांच की गई तो उसमें कोई संदिग्ध सामान नजर नहीं आया। इसके बाद स्टेशन कंट्रोलर और वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित किया गया और जब उनकी मौजूदगी में जांच के लिए बैग को खोला गया तो उसमें से 2.50 लाख रुपये बरामद हुए।

बैग को स्टेशन कंट्रोलर के पास जमा करवा दिया गया। कुछ देर बाद असम की रहने वाली 29 वर्षीय जनमोनी दास पहुंचीं। उन्होंने बताया कि वह जल्दबाजी में अपना बैग एक्स रे मशीन से ले जाना भूल गई थी। उन्होंने बताया कि वे पति के साथ एक रिश्तेदार की शादी में शामिल होने के लिए दिल्ली में खरीदारी करने के लिए आई थीं। अधिकारियों ने उचित सत्यापन के बाद रुपये से भरा बैग उन्हें लौटा दिया। उन्होंने सीआइएसएफ कर्मियों को इसके लिए धन्यवाद किया।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.