Omicron को लेकर एयरलाइंस कंपनियों की लापरवाही पड़ रही भारी, प्रशासन ने जारी किया कारण बताओ नोटिस

ओमिक्रोन वैरिएंट के बढ़ते खतरे के बीच विमानन कंपनियों की लापरवाही चिंता बढ़ा रही है। विमानन कंपनियां अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन कर रही हैं। इसे लेकर जिला प्रशासन अब तक तीन कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर चुका है।

Mangal YadavMon, 06 Dec 2021 09:58 PM (IST)
जिला प्रशासन अब तक तीन एयरलाइंस कंपनियों को जारी कर चुका है नोटिस

नई दिल्ली [अरविंद कुमार द्विवेदी]। कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के बढ़ते खतरे के बीच विमानन कंपनियों की लापरवाही चिंता बढ़ा रही है। विमानन कंपनियां अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन कर रही हैं। इसे लेकर जिला प्रशासन अब तक तीन कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर चुका है। विमानन कंपनियां दिल्ली में बिना आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट के ही विदेश से यात्रियों को लेकर आ रही हैं। इस पर एसडीएम वसंत विहार अंकुर प्रकाश मेश्राम ने एयर इंडिया, महान एयर और एतिहाद एयरलाइंस को कारण बताओ नोटिस जारी कर चुके हैं।

पिछले दिनों दिल्ली एयरपोर्ट पर विदेश से आई तीन अलग-अलग फ्लाइट में कुछ यात्री बिना निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट के पाए गए थे। इस पर जिला प्रशासन ने संबंधित एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर को कारण बताओ नोटिस जारी किया। इनमें भारत की एयर इंडिया, ईरान की महान एयर और यूएई की एतिहाद शामिल हैं। इन फ्लाइट में तीन यात्री ऐसे मिले जिन्होंने न तो नेगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड की थी और न ही सेल्फ डिक्लेरेशन फार्म भरा था।

इंटरनेशनल ट्रैवल यह है नियम

ओमिक्राेन के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए थे। इसमें एट रिस्क सूची में शामिल 11 देशों से आने वाले सभी यात्रियों के लिए एयरपोर्ट पर ही आरटीपीसीआर जांच करने का नियम लागू किया गया था। जांच रिपोर्ट आने तक उन्हें क्वारंटाइन किया जाता है। इसके अलावा यात्रियों को एयर सुविधा पोर्टल पर सेल्फ डिक्लेरेशन फार्म भरने के साथ ही अपनी निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट भी लगानी होती है।

अधिकारियों के अनुसार, यूरोप के सभी देशों और ओमिक्राेन प्रभावित देशों से आने वाली फ्लाइट के यात्रियों की आरटीपीसीआर जांच की जा रही है। रिपोर्ट पाजिटिव होने पर उन्हें एलएनजेपी अस्पताल भर्ती करके उनकी जीनोम सीक्वेंसिंग की जाती है ताकि यह पता चल सके कि वे नए वैरिएंट से संक्रमित हैं या नहीं। वहीं, निगेटिव रिपोर्ट वाले यात्रियों को सात दिन के लिए होम आइसोलेशन में रहने को कहा जाता है। आठवें दिन फिर से उनका टेस्ट होता है। संबंधित जिलाधिकारी उनकी निगरानी करते हैं। वहीं, अन्य देशों से आने वाले सभी यात्रियों को अपनी आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करनी होती है। आने वाले कुल यात्रियों में से दो प्रतिशत यात्रियों की रैंडम आरटीपीसीआर जांच भी की जाती है।

एट रिस्क सूची के देश

 यूनाइटेड किंगडम समेत यूरोप के सभी देश  साउथ अफ्रीका  ब्राजील  बोत्सवाना  चीन  माॅरिशस  न्यूजीलैंड  जिंबाव्वे  सिंगापुर  हांगकांग  इजराइल

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.