कोराेना के नए स्ट्रेन ओमिक्राेन को लेकर दिल्ली सरकार अलर्ट, सीएम ने कहा- हमने चीन से मंगा लिए आक्सीजन सिलेंडर

बैठक के बाद केजरीवाल ने प्रेसवार्ता कर बताया कि कोरोना के इस नए स्ट्रेन ने दुनिया भर की चिंता बढ़ा दी है। आज बैठक कर तैयारियों की चर्चा की है। इस बार हमने 30 हजार आक्सीजन बेड की व्यवस्था की है। 10 हजार आईसीयू बेड बना दिए है।

Prateek KumarPublish:Tue, 30 Nov 2021 04:20 PM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 04:39 PM (IST)
कोराेना के नए स्ट्रेन ओमिक्राेन को लेकर दिल्ली सरकार अलर्ट, सीएम ने कहा- हमने चीन से मंगा लिए आक्सीजन सिलेंडर
कोराेना के नए स्ट्रेन ओमिक्राेन को लेकर दिल्ली सरकार अलर्ट, सीएम ने कहा- हमने चीन से मंगा लिए आक्सीजन सिलेंडर

नई दिल्ली [वीके शुक्ला]। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर अधिकारियों की बैठक बुलाई है। कोरोना के नए स्ट्रेन और तीसरी लहर के मद्देनजर दिल्ली की तैयारियों की समीक्षा के लिए अधिकारियों के साथ चर्चा की।

नए स्ट्रेन ने बढ़ा दी है दुनिया की चिंता

बैठक के बाद केजरीवाल ने प्रेसवार्ता कर बताया कि कोरोना के इस नए स्ट्रेन ने दुनिया भर की चिंता बढ़ा दी है। आज बैठक कर तैयारियों की चर्चा की है। इस बार हमने 30 हजार आक्सीजन बेड की व्यवस्था की है। 10 हजार आईसीयू बेड बना दिए है।

फरवरी तक तैयार हो जाएंगे 6800 आइसीयू बेड

6800 आईसीयू बेड की तैयारी की जा रही है। ये बेड फरवरी में तैयार हो जाएंगे। हमने इस तरह की व्यवस्था की है कि आठ दिन के सॉर्ट नोटिस पर प्रति नगर वार्ड बनाए जा सकेंगे। पिछली लहर में आक्सीजन की कमी पड़ी थी। हमारे पास सभी अस्पतालों को मिलाकर 750 मीट्रिक टन की क्षमता आक्सीजन रखने की है। पिछली बार समस्या आई थी कि आक्सीजन रखने की। इस बार हमने 442 मीट्रिक टन की अतिरिक्त टैंक क्षमता की व्यवस्था की है।

बढ़ी आक्सीजन सिलेंडर भरने की क्षमता

अब हमने आक्सीजन बनाने के प्लांट लगाए हैं। अब 121 टन आक्सीजन प्रतिदिन बनने लगी है। अब सभी आक्सीजन टैंक में टेलिमित्री डिवाइस लगाने के आदेश दिए गए हैं। जिससे टैंक की सही लोकेशन पता रहेगी। इस बार 6000 आक्सीजन सिलेंडर चीन के मंगा लिए हैं। सरकार ने 5 बड़े आक्सीजन प्लांट लगा लिए हैं। दिल्ली की अब 2900 आक्सीजन सिलेंडर भरने की क्षमता प्रतिदिन की हो गई है।

दवाओं का है 2 महीने का बफर स्टाक

32 किस्म की दवाईयां है जिसको अलग-अलग तरह से कोरोना के दौरान इस्तेमाल किया जाता है। इन सारी दवाईयों का 2 महीने का बफर स्टॉक ऑर्डर किया जा रहा है जिससे किसी भी तरह से दवाईयों की कमी न पड़ सके