दिल्ली में राशन की बर्बादी को लेकर अब कांग्रेस ने भी उठाई आवाज, एलजी से जांच समिति गठित करने की मांग

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष ने उपराज्यपाल को लिखे पत्र में कहा कि एक तरफ आप सरकार लंबे समय से घर घर राशन योजना को लागू करने पर आमादा है। जबकि दूसरी तरफ वह उचित दर दुकानों पर भी ढंग से राशन वितरण नहीं करवा पा रही।

Mangal YadavWed, 16 Jun 2021 09:23 PM (IST)
प्रदेश उपाध्यक्ष जयकिशन ने लिखा उपराज्यपाल को पत्र, पूरे प्रकरण में जांच समिति गठित करने की मांग

नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। सरकारी राशन की बर्बादी पर भाजपा के बाद कांग्रेस भी आम आदमी पार्टी सरकार को घेरती नजर आ रही है। प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष जयकिशन ने बुधवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर इस प्रकरण में एक जांच समिति गठित करने की मांग की है। साथ ही यह भी कहा है कि गरीबों के मुंह का निवाला छीनने वाली आम आदमी पार्टी की सरकार किसी भी दृष्टि से माफी के लायक नहीं है।

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष ने उपराज्यपाल को लिखे पत्र में कहा कि एक तरफ आप सरकार लंबे समय से घर घर राशन योजना को लागू करने पर आमादा है। जबकि दूसरी तरफ वह उचित दर दुकानों पर भी ढंग से राशन वितरण नहीं करवा पा रही। सालों से लोगों के राशन कार्ड नहीं बने और बिना राशन कार्ड लोगों को राशन के लिए दर दर भटकना पड़ रहा है। स्थिति यह हो गई है कि घंटों लाइन में लगकर भी जरूरतमंदों को राशन नहीं मिल पा रहा जबकि स्कूलों और गोदामों में राशन पड़ा पड़ा सड़ रहा है।

जयकिशन ने पत्र में लिखा है कि दिल्ली सरकार ने करोड़ों रुपया खर्च करके करीबों को बांटने के लिए जो अनाज खरीदा था, उसका सड़ना ताे एक अपराध से कम नहीं है। जनता का पैसा जनता के ही काम नहीं आ पाया। जो राशन प्रवासी कामगारों को बांटने के लिए केंद्र सरकार ने दिया, उसका भी दिल्ली सरकार की अनदेखी से खराब होना शर्म की बात है। इसके लिए खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी, विभागीय मंत्री इमरान हुसैन और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सभी बराबर के दोषी हैं। इसलिए इस पूरे प्रकरण की गंभीरता से जांच कराई जाए तथा दोषी लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी सुनिश्चित की जाए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.