राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में विदेश से आने वाले कुल 12 यात्री निकले कोविड-19 पाजिटिव, अब जीनोम सीक्वेंसिंग की रिपोर्ट का इंतजार

अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डा. सुरेश कुमार ने बताया कि यूके से शुक्रवार को आने वाले दोनों यात्री एंटीजन जांच में पाजीटिव पाए गए थे इसके बाद इन्हें अस्पताल भेजा गया है। यहां इनकी आरटीपीसीआर जांच के लिए सैंपल लिया गया है जिसकी रिपोर्ट शनिवार को आएगी।

Prateek KumarPublish:Fri, 03 Dec 2021 08:04 PM (IST) Updated:Sat, 04 Dec 2021 07:40 AM (IST)
राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में विदेश से आने वाले कुल 12 यात्री निकले कोविड-19 पाजिटिव, अब जीनोम सीक्वेंसिंग की रिपोर्ट का इंतजार
राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में विदेश से आने वाले कुल 12 यात्री निकले कोविड-19 पाजिटिव, अब जीनोम सीक्वेंसिंग की रिपोर्ट का इंतजार

नई दिल्ली [राहुल चौहान]। यूके से लौटे दो और कोरोना संक्रमित यात्रियों को शुक्रवार को लोकनायक अस्पताल में भर्ती किया गया है। इससे में विदेश से आने वाले कोरोना संक्रमित यात्रियों की संख्या 12 हो गई है। इससे पहले बृहस्पतिवार तक अस्पताल में यूके, बेल्जियम और फ्रांस से लौटे दस यात्रियों को भर्ती कराया जा चुका है।

शनिवार को आएगी टेस्ट की रिपोर्ट

अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डा. सुरेश कुमार ने बताया कि यूके से शुक्रवार को आने वाले दोनों यात्री एंटीजन जांच में पाजीटिव पाए गए थे, इसके बाद इन्हें अस्पताल भेजा गया है। यहां इनकी आरटीपीसीआर जांच के लिए सैंपल लिया गया है, जिसकी रिपोर्ट शनिवार को आएगी।

10 यात्रियों की रिपोर्ट आ चुकी है पाजीटिव

इससे पहले भर्ती दस में से दो यात्रियों की आरटीपीसीआर रिपोर्ट भी पाजीटिव आ चुकी है। सभी को अस्पताल के विदेशी यात्रियों के लिए बनाए गए स्पेशल वार्ड में रखा गया है। जहां इनके स्वास्थ्य की निगरानी की जा रही है। इन यात्रियों में ओमिक्रोन वैरिएंट है या नहीं इसका पता लगाने के लिए सभी की जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भी सैंपल लिए गए हैं, जिसमें से चार संक्रमितों की जांच रिपोर्ट दो दिन बाद आएगी।

41 नए मरीज मिले

राजधानी में बृहस्पतिवार को 41 नए मरीज मिले। साथ ही संक्रमण दर मामूली रूप से घटकर 0.06 प्रतिशत पर आ गई। एक दिन पहले यह 0.07 प्रतिशत थी। इसके साथ ही कुछ सप्ताह पहले आए कोरोना के 176 मामलों को भी भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के पोर्टल पर बुधवार को अपलोड किया गया। वहीं, 196 मरीज ठीक हुए।