Coronavirus: कूचा महाजनी के सराफा व्यापारियों का 100 बेड का अस्थायी काेविड अस्पताल खोलने की पेशकश, LG व CM को लिखा लेटर

100 आईसीयू बेड का अस्थाई अस्पताल बनाने की मंजूरी के लिए लिखा उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री व वि‍धानसभा अध्‍यक्ष को पत्र।

Coronavirus कोरेाना संक्रमण के प्रकोप और उसके आगे चरमराती स्वास्थ्य व्यवस्था के बीच कूचा महाजनी के सराफा व्यापारियों ने बड़ी पहल की है। सराफा व्यापारियों तथा उनके परिवार के साथ अन्य लोगों के इलाज के लिए 100 आइसीयू बेड वाला अस्थाई अस्पताल के लिए सरकार से मंजूरी मांगी है।

Vinay Kumar TiwariThu, 06 May 2021 05:45 PM (IST)

जागरण संवाददाता, नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ते कोरेाना संक्रमण के प्रकोप और उसके आगे चरमराती स्वास्थ्य व्यवस्था के बीच कूचा महाजनी के सराफा व्यापारियों ने बड़ी पहल की है। संक्रमण की जद में आते बाजार के सराफा व्यापारियों तथा उनके परिवार के साथ दिल्ली वालों के इलाज के लिए उन्होंने 100 आइसीयू बेड वाला अस्थाई अस्पताल के लिए दिल्ली सरकार से मंजूरी मांगी है। इस संबंध में उपराज्यपाल अनिल बैजल व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ ही विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को पत्र लिखा है।

पत्र में जल्द मंजूरी का आग्रह किया गया है। यह पत्र बाजार के व्यापारिक संगठन द बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन की तरफ से लिखा गया है। इसमें एसोसिएशन के चेयरमैन योगेश सिंघल व अन्य पदाधिकारियों ने कहा है कि दिल्ली के अस्पतालोें में बेड नहीं है। इलाज नहीं मिल रहा है। इसके चलते लाेग घरों में इलाज को मजबूर है।

इस स्थिति में अनहोनी का डर बराबर बना रहता है। मौजूदा हालात को देखते हुए एसाेसिएशन अपने खर्च पर एक अस्थाई अस्पताल की अनुमति चाती है। पत्र में कहा गया है कि संस्था जगह, मेडिकल स्टाफ व चिकित्सकों का इंतजाम कर लेगी।

बता दें कि तकरीबन 70 साल पुराना कूचा महाजनी देश के प्रमुख ज्वैलरी बाजारों में से एक हैं। यहां ज्वैलरी व बुलियन की एक हजार से अधिक थोक व खुदरा दुकानें है। यह चांदनी चौक में स्थित है।

अमित शाह संभालें जिम्मा, बने संकट मोचक

यहीं नहीं, एसाेसिएशन ने एक पत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा है तथा उनसे गृहमंत्री अमित शाह को दिल्ली के हालात सुधारने की जिम्मेदारी सौंपने का आग्रह किया है। पत्र में एसोसिएशन के चेयरमैन योगेश सिंघल, प्रधान कमलेश कुमार जैन व महासचिव अभिषेक अग्रवाल के हस्ताक्षर हैं। जिसमें कहा गया है कि पहले भी अमित शाह को दिल्ली में उतारकर कोरोना पर काबू पाया गया था। एक बार फिर संकटमोचक बनकर वो दिल्ली के जनता की रक्षा करें। एसोसिएशन ने कहा कि मौजूदा समय में दिल्ली में चारों तरफ अफरातफरी और मौत का मातम दिखाई दे रहा है। यहां का सरकारी सिस्टम फेल दिखाई दे रहा है। इसलिए प्रधानमंत्री के हस्तक्षेप की आवश्यकता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.