IITF 2021: ट्रेड फेयर में बिहार पैवेलियन को चुना गया सर्वक्षेष्ठ, यूपी व झारखंड को मिले ये पुरस्कार

IITF 2021 केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बेहतर प्रदर्शन कर लोगों को आकर्षित करने वाले पैवेलियन व कलाकारों को छह श्रेणियों में सम्मानित किया। 24 राज्यों की प्रदर्शनी के बीच बिहार राज्य के पैवेलियन ने स्वर्ण पदक हासिल किया है।

Mangal YadavPublish:Sat, 27 Nov 2021 01:27 PM (IST) Updated:Sat, 27 Nov 2021 08:37 PM (IST)
IITF 2021: ट्रेड फेयर में बिहार पैवेलियन को चुना गया सर्वक्षेष्ठ, यूपी व झारखंड को मिले ये पुरस्कार
IITF 2021: ट्रेड फेयर में बिहार पैवेलियन को चुना गया सर्वक्षेष्ठ, यूपी व झारखंड को मिले ये पुरस्कार

नई दिल्ली [निहाल सिंह]। प्रगति मैदान में 13 दिवसीय 40 वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले का समापन शनिवार को हो गया। अब अगले वर्ष लोकल फोर वोकल और वोकल फार ग्लोबल थीम पर मेले का आयोजन होगा। समापन कार्यक्रम में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बेहतर प्रदर्शन कर लोगों को आकर्षित करने वाले पैवेलियन व कलाकारों को छह श्रेणियों में सम्मानित किया। 24 राज्यों की प्रदर्शनी के बीच बिहार राज्य के पैवेलियन ने स्वर्ण पदक हासिल किया है।

इतना ही नहीं पार्टनर स्टेट के तौर पर भी बिहार को स्वर्ण पदक मिला है। फोकस राज्य के तौर पर उत्तर प्रदेश व झारखंड को स्वर्ण मिला है। राज्यों के पैवेलियन में असम के पैवेलियन को रजत और केरल को कांस्य पदक मिला। विशेष प्रोत्साहन के तौर पर मध्य प्रदेश राज्य के पैवेलियन को सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कोरोना काल के ये पहला बड़ा आयोजन था इसमें कोई घटना और एफआईआर दर्ज नहीं हुई। उन्होंने मेले में पहुंचे आंगतुकों के संयम व सावधानी को सलाम किया। 

नकवी ने कहा कि पूरा विश्व कोरोना संकट के चलते आर्थिक तंगी के दौर से गुजरा। हमारे देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकल फार वोकल के संकल्प ने हमारी अर्थव्यवस्था को बनाए रखा और अब वह गतिशील हो चुकी है।केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अलग-अलग राज्यों के दस्तकारों-शिल्पकार व तीन हजार से ज्यादा कंपनी और स्टार्टअप इस मेले शामिल हुए। हमारा देश हुनर के उस्तादों से भरा हुआ है। देश का हर कोना अलग-अलग कलाकृतियों और अद्भुत वस्तुओं से लोगों को दो चार कराता है।

कोरोना काल में बाहर से कोई वस्तु नहीं आ सकती थी, लेकिन स्वदेशी वस्तुओं ने कमी को एहसास नहीं होने दिया। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में दो-दो वैक्सीन का उत्पादन हमारे वैज्ञानिकों ने किया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसे मंजूरी दी। आज पूरी दुनिया ने इसे स्वीकार किया है। यही शक्ति हैं जो हमे आत्मनिर्भरता की तरफ ले जाएगी। इससे स्वदेशी स्वावलंबन का संकल्प मजबूत होगा। अकेले हुनर हाट में छह करोड़ से ज्यादा की बिक्री हुई है। उन्होंने उम्मीद जताई की वर्ष 2022 का व्यापार मेला इससे भी अधिक भव्य होगा।

उद्योग में नंबर-1 बनेगा बिहार: शाहनवाज हुसैन

बिहार राज्य के पैवेलियन को स्वर्ण पदक मिलने पर राज्य के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने खुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार बिहार व्यापार मेले में नंबर-1 बना है वह उद्योग में भी बनेगा। उन्होंने कहा कि बिहार के बुनकरों और कारीगरों द्वारा बनाई गई वस्तुओं को लोगों ने काफी पंसद किया। राज्य की लोककालकृतियों ने हमेशा हमें गौरवांतित किया है और अब ग्रामीण इलाकों में रहने वाले कारीगरों और बुनकरों को नई पहचान मिल रही है।