top menutop menutop menu

Delhi: किरायेदारों का सत्यापन करने गए ASI के ऊपर गिरा अवैध बिल्डिंग का एक हिस्सा, मौत

Delhi: किरायेदारों का सत्यापन करने गए ASI के ऊपर गिरा अवैध बिल्डिंग का एक हिस्सा, मौत
Publish Date:Wed, 12 Aug 2020 03:25 PM (IST) Author: Mangal Yadav

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली के बारा हिंदू राव पुलिस थाने में तैनात एक एएसआइ की बुधवार को मौत हो गई। मिली जानकारी के अनुसार, आगामी स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर एएसआई जाकिर हुसैन राम बाग रोड पर स्थित गुप्ता बिल्डिंग में किरायेदारों का सत्यापन करने गए थे। इस दौरान करीब सुबह 10.20 मिनट पर उन्होंने देखा कि बिल्डिंग के तीसरे तल पर अवैध निर्माण चल रहा है। तभी अचानक तीसरी मंजिल का एक हिस्सा गिर गया। इसकी चपेट में जाकिर हुसैन आ गए। गंभीर हालत में उन्हें अस्पताल पर भर्ती करवाया गया है जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

पुलिस ने बताया कि इमारत के मालिक के खिलाफ मामला दर्ज मामला दर्ज किया है। बता दें कि जाकिर हुसैन(50 वर्ष) राम घाट वजीराबाद में रहते थे। वह मूल रूप से मेरठ के रहने वाले थे। वह 1993 में दिल्ली पुलिस में भर्ती हुए थे। उनके परिवार में पत्नी और तीन बच्चे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार, इस बिल्डिंग में 1922 से 1970 तक एक बिस्कुट की फैक्ट्री चलती थी। 5000 हजार गज में इमारत बनी है। इसके ऊपर निर्माण चल कार्य चल रहा था। निर्माण सामग्री होने की वजह से छत गिर गई। एक पुलिस कर्मी इमारत से बाहर गिरा जिसके ऊपर सामान गिरने से उसकी मौत हो गई।

रेहड़ी वापस नहीं करने पर की थी युवक की हत्या, चार दबोचे

वहीं, तुगलकाबाद किले में युवक के शव मिलने के मामले में गोविंदपुरी थाना पुलिस ने चार आरोपितों को सोमवार रात गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान भगीरथ, कौशल, गौतम और रामजी के रूप में हुई है। जांच में पता चला है कि रेहड़ी वापस नहीं करने पर इन लोगों ने युवक की हत्या कर दी थी।पुलिस के मुताबिक छह अगस्त को तुगलकाबाद किले के जंगल में बोरे में एक युवक का शव मिला था। शव की पहचान गोविंदपुरी थाना क्षेत्र निवासी झींका (33) के रूप में हुई थी। गोविंदपुरी थाने के एसएचओ सीपी भारद्वाज की टीम ने जब इस मामले की जांच शुरू की तो शव के पास से एक डंडा मिला। इसे एक ओर पेंसिल की तरह छीला गया था।

जांच में पुलिस को पता चला कि डंडे को इस तरह से सफाईकर्मी छीला करते हैं। इस पर पुलिस ने सफाई कर्मियों से पूछताछ शुरू की। करीब 60 लोगों से पूछताछ के बाद पुलिस आरोपित तक पहुंच गई।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.