मुफ्त टीकाकरण का अपना वायदा निभाए केजरीवाल सरकार : कांग्रेस

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने मंगलवार को ट्वीट कर आप सरकार की ढीली ढाली व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं। उनका कहना है कि सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर वैक्सीन ही पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। लोगों को घंटों तक लाइन में लगे रहना पड़ता है।

Prateek KumarTue, 11 May 2021 06:51 PM (IST)
केजरीवाल सरकार कोविड टीकाकरण ठीक ढंग से नहीं करवा पा रही है। निजी अस्पताल तो मनमाने दाम वसूल रहे हैं।

नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। दिल्ली कांग्रेस ने केजरीवाल सरकार पर मुफ्त टीकाकरण के अपने वायदे से मुकरने का आरोप लगाया है। कांग्रेस का कहना है कि सरकारी की वादाखिलाफी और लापरवाही के कारण कोविड उपचार के बाद कोरोना वैक्सीन में भी जमकर लूट खसोट हो रही है। केजरीवाल सरकार कोविड टीकाकरण ठीक ढंग से नहीं करवा पा रही है। निजी अस्पताल तो मनमाने दाम वसूल रहे हैं।

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने मंगलवार को ट्वीट कर आप सरकार की ढीली ढाली व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं। उनका कहना है कि सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर वैक्सीन ही पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। लोगों को घंटों तक लाइन में लगे रहना पड़ता है। कई जगह तो डोज खत्म हो जाने के कारण लोगों को बिना टीका लगवाए ही वापस लौटना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि निजी अस्पतालों में मनमर्जी से टीकाकरण शुल्क वसूला जा रहा है। अपोलो में यह शुल्क 850 रुपये है, मैक्स में 900 रुपये जबकि एस्कोर्ट में 1250 रुपये। मतलब, वैक्सीन एक ही तरह की है, लेकिन उसके रेट अलग अलग वसूले जा रहे हैं। यह लूट नहीं तो और क्या है?

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने सवाल किया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हमेशा सोते हुए ही क्यों जागते हैं? पहले उन्होंने कोरोना की दूसरी लहर से बचाव की तैयारी नहीं की। इसके बाद वो ऑक्सीजन संकट से निपटने में नाकाम रहे। फिर एम्बुलेंस चालको की मनमानी से जनता परेशान रही और अब दिल्लीवासी टीकाकरण में हो रही लूट झेलने को मजबूर हैं। चोपड़ा ने कहा कि आप सरकार मुफ्त टीकाकरण को लेकर अपना वायदा निभाए। निजी अस्पतालों में टीकाकरण का शुल्क भी सरकार को ही वहन करना चाहिए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.