दिल्ली में Poor Category में पहुंच सकता है वायु प्रदूषण, 3 दिन बाद होगा ये बड़ा बदलाव

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। मौसम के उतार- चढ़ाव के बीच पराली का धुआं भी तेजी से दिल्ली पहुंच रहा है। हवा की दिशा उत्तर पश्चिमी हो जाने से इसकी मात्रा भी लगातार बढ़ रही है। यही कारण है कि सोमवार को प्रदूषण का स्तर जहां खराब श्रेणी में था, वहीं मंगलवार को यह बहुत खराब श्रेणी में पहुंच सकता है, हालांकि मंगलवार को दिल्ली के लोधी रोड के पास एयर क्वालिटी इंडेक्स के तहत पीएम 2.5 का स्तर 209 रहा, जिसे खराब श्रेणी में माना जाता है। 

उधर, मेजर ध्यानचंद स्टेडियम और इंडिया गेट के पास मंगलवार सुबह एयर क्वालिटी इंडेक्ट के तहत पीएम 2.5 178 तो पीएम 10 का स्तर 121 रहा। जो स्वास्थ्य के लिहाज से अच्छा नहीं है। 

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी एयर बुलेटिन के मुताबिक सोमवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 249 रहा। गाजियाबाद का 284, ग्रेटर नोएडा का 243, गुरुग्राम का 201 एवं नोएडा का 260 दर्ज किया गया। इस श्रेणी की हवा को खराब श्रेणी में रखा जाता है। सफर के मुताबिक सोमवार को पराली का प्रदूषण दिल्ली में 12 फीसद रहा, जबकि मंगलवार को यह बढ़कर 14 फीसद हो जाएगा।

सफर के अनुसार अब हवा उत्तर पश्चिम दिशा से आ रही है, इससे पराली का धुआं भी दिल्ली एनसीआर को ज्यादा प्रदूषित कर रहा है। मंगलवार से हवा और ज्यादा खराब हो सकती है।

केंद्र द्वारा संचालित संस्था सफर इंडिया के मुताबिक हरियाणा, पंजाब और सीमावर्ती हिस्सों में पराली जलाने की घटनाओं में तेजी आई है। इसके धुएं का व्यापक प्रभाव दिल्ली की हवा में दिखने लगा है। नवंबर के पहले हफ्ते में दिल्ली का दम घुट सकता है।

दूसरी तरफ मौसम विभाग का कहना है कि शुक्रवार से दिल्ली में तेज हवा चलेगी। इसकी वजह से कुछ समय के लिए लोगों को प्रदूषण से मामूली राहत मिल सकती है। माह के अंत तक दिल्ली का अधिकतम तापमान 30 डिग्री और न्यूनतम 17 डिग्री सेल्सियस पहुंच सकता है। इस दौरान हवा की गति काफी कम हो जाएगी, लिहाजा नवंबर में आसार अच्छे नहीं हैं। उधर सोमवार को सुबह ही धूप निकल आई थी, लेकिन तापमान में कमी और हल्की धुंध के चलते इसकी चमक कम रही। अधिकतम तापमान 31.8 जबकि न्यूनतम तापमान 17.2 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। दोनों ही सामान्य से एक डिग्री कम हैं।

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.