Delhi NCR Pollution Update: जहरीले धुंए से घिरी दिल्ली, वायु प्रदूषण से NCR के शहरों का और भी बुरा हाल

दिल्ली-एनसीआर की हवा जहरीली हो गई है।
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 07:50 AM (IST) Author: JP Yadav

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा खेतों में लगातार जलाई जा रही पराली ने दिल्ली-एनसीआर की हवा को और भी जहरीला कर दिया है। इसके चलते वायु प्रदूषण में लगातार इजाफा होता जा रहा है। शनिवार को भी सुबह स्मॉग की वजह से लोगों को दिक्कत हो रही है। मॉर्निंग वॉक कर रहे लोगों को भी दिक्कत पेश आई। दिल्ली-एनसीआर में शनिवार लोग कम संख्या में मॉर्निंग वॉक करते नजर आए। स्थिति यह बन गई है कि दिल्ली के साथ-साथ नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गुरुग्राम, फरीदाबाद, गाजियाबाद समेत एनसीआर के शहरों में भी वायु प्रदूषण ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। कुछ लोगों ने आंखों में जलन और सांस लेने में दिक्कत की शिकायत भी की है।

इससे पहले दिल्ली की हवा शुक्रवार को भी खतरनाक श्रेणी में दर्ज की गई। यह अलग बात है कि बृहस्पतिवार के मुकाबले लोगों को थोड़ा राहत मिली। जहांगीरपुरी को छोड़कर सभी क्षेत्रों का एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआइ) 400 से नीचे रहा, वहीं जहांगीरपुरी का एक्यूआइ 405 दर्ज किया गया।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार शुक्रवार को बवाना का एक्यूआइ 386 दर्ज किया गया, जो बृहस्पतिवार को 453 तक पहुंच गया था। हालांकि यह अब भी खतरनाक श्रेणी में ही है। वाहनों के धुएं, फैक्ट्रियों के धुएं और उड़ती धूल का इसमें सबसे ज्यादा योगदान रहा।

20-20 फीट तक देखे गए धूल के गुबार

शुक्रवार को जहांगीरपुरी और संजय गांधी नगर में धूल के गुबार 20-20 फीट तक की ऊंचाई तक उड़ते देखे गए। वाहनों के धुएं से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए दिल्ली सरकार की ओर से रेड लाइट ऑन, इंजन ऑफ जैसे अभियान चलाए जा रहे हैं, लेकिन उड़ती धूल से होने वाले प्रदूषण पर काबू पाने के लिए कोई खासे प्रयास नहीं किए जा रहे हैं।

ऐसी रही हवा की स्थिति क्षेत्र

नरेला- 362 (एक्यूआइ) अलीपुर 370 (एक्यूआइ) रोहिणी 374 (एक्यूआइ) वजीरपुर 381 (एक्यूआइ) बवाना 386 (एक्यूआइ) मुंडका 397 (एक्यूआइ) जहांगीरपुरी 405 (एक्यूआइ) 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.