किसी भी सूरत में माफी नहीं मांगेंगे राज्यसभा से निलंबित 12 सांसद : अधीर रंजन चौधरी

कांग्रेस मुख्य विपक्ष की भूमिका निभाते हुए संसद और सड़क पर जनता के दुख एवं उनके अधिकारों की लड़ाई लड़ती है बढ़ती महंगाई के खिलाफ आवाज उठाती है तो भाजपा सरकार हर मोर्चे पर उसे दबाने का प्रयास करती है।

Pradeep ChauhanTue, 07 Dec 2021 06:52 PM (IST)
कांग्रेस सांसदों ने कुछ गलत किया ही नहीं तो माफी किस बात की।

नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। लोकसभा में कांग्रेस दल के नेता सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा राज्यसभा से 12 सांसदों को अलोकतांत्रिक तरीके से निलंबित करने के बाद अब उन पर माफी मांगने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। लेकिन ये सांसद किसी भी सूरत में माफी नहीं मांगेंगे क्योंकि जब इन कांग्रेस सांसदों ने कुछ गलत किया ही नहीं तो माफी किस बात की।

उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस मुख्य विपक्ष की भूमिका निभाते हुए संसद और सड़क पर जनता के दुख एवं उनके अधिकारों की लड़ाई लड़ती है, बढ़ती महंगाई के खिलाफ आवाज उठाती है तो भाजपा सरकार हर मोर्चे पर उसे दबाने का प्रयास करती है। सरकार जनता के हितों- अधिकारों से जुड़े किसी भी मुद्दे पर संसद में चर्चा करने को तैयार नहीं और यदि कुछ सांसद अधिकारों के लिए अपनी बात कहते हैं तो उन्हें संसद से निलंबित कर दिया जाता है। मोदी सरकार की विपक्ष को दबाने की नीति के कारण ही सांसदों को अधिकारों के लिए मजबूरन धरने पर बैठना पड़ रहा है।

चौधरी मंगलवार को जंतर मंतर पर दिल्ली में महंगाई हटाओ रैली करने की अनुमति न मिलने पर प्रदेश कांग्रेस द्वारा द्वारा आयोजित विरोध प्रदर्शन को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर दिल्ली कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि केंद्र की जनविरोधी नीतियों के कारण बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी और बिगड़ते आर्थिक संतुलन के खिलाफ कांग्रेस ने जब जनता की आवाज को महंगाई हटाओ रैली के जरिये जनता की अदालत में ले जाने की बात की तो दिल्ली में प्रस्तावित रैली को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल व भाजपा के साथ मिलकर रद करवा दिया।

लेकिन जंतर मंतर पर मौजूद पार्टी कार्यकर्ताओं और दिल्लीवासियों ने साबित कर दिया है कि वे आने वाले समय में आम आदमी पार्टी और भाजपा की सरकारों को बर्दाश्त नही करेंगे। प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा कि कोरोना के बाद केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण लोगों के लिए आजीविका का संकट खड़ा हो गया है। केजरीवाल भी अब अन्य राज्यों पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं।

इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री कृष्णा तीरथ, पूर्व सांसद रमेश कुमार, राष्ट्रीय महिला कांग्रेस अध्यक्ष नेटा डिसूजा, प्रदेश उपाध्यक्ष मुदित अग्रवाल, दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष अमृता धवन, पूर्व जिलाध्यक्ष हरीकिशन जिंदल और मोहम्मद उस्मान सहित कई पूर्व मंत्री, पूर्व विधायक और पार्षद भी मंच पर मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.