पटरी पर लौटते बाजार पर कोरोना का ग्रहण

पटरी पर लौटते बाजार पर कोरोना का 'ग्रहण'
Publish Date:Thu, 04 Jun 2020 07:47 PM (IST) Author: Jagran

नेमिष हेमंत, नई दिल्ली :

पुरानी दिल्ली के बाजारों में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। काफी संख्या में दुकानदारों के साथ कर्मचारी भी संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। इनमें से कुछ की हालत चिंताजनक बताई जा रही है। इस कारण कुछ दिनों में बाजारों को बंद करने के मामले बढ़ते जा रहे हैं। भागीरथ पैलेस व लाजपत राय मार्केट के बाद अब दरीबाकलां और डिप्टीगंज मार्केट भी अनिश्चितकाल के लिए बंद करा दिए गए हैं, जबकि खारी बावली के दुकानदार बाजार बंद करने के पक्ष में बताए जा रहे हैं। इस कारण आठ जून को कूचा महाजनी के ज्वेलरी की दुकानों को खुलने का मामला अधर में जा सकता है। चांदनी चौक के कारोबारी संगठन ने दुकान पर आने का फैसला दुकानदारों के स्व विवेक पर छोड़ दिया है।

लॉकडाउन-3 तक ये सभी बाजार बंद थे, पर लॉकडाउन-4 में 19 मई से ऑड-इवन के आधार पर पुरानी दिल्ली के अन्य बाजारों के साथ ये बाजार भी खुलने लगे थे। पुरानी दिल्ली में 50 से अधिक अलग-अलग सामानों के थोक बाजार हैं। अब अनलॉक-1 में 1 जून से ऑड-इवन भी हटा दिया गया है तथा बाजार खुलने के घंटों में भी वृद्धि की गई है। इससे कारोबार तो पटरी पर आने लगा है, पर साथ में कोरोना संक्रमण के मामले भी तेजी से बढ़ रहे हैं।

दवा व चिकित्सा उपकरण के थोक बाजार भागीरथ पैलेस में एक सप्ताह में 12 से अधिक कोरोना संक्रमण के मामले आने के बाद 31 मई से इस बाजार को बंद कर दिया गया है। शुक्रवार से बाजार एहतियाती कदमों के साथ खुलेगा। दिल्ली ड्रग ट्रेडर्स एसोसिएशन ने इसे लेकर दुकानदारों को एक सुरक्षा एडवाइजरी भी जारी की है। वहीं, इलेक्ट्रिक उपकरण के दुकानदारों ने दुकान खोलने का समय बदलते हुए सुबह नौ से शाम बजे तक कर दिया है। इसी तरह इलेक्ट्रॉनिक्स का थोक ओल्ड व न्यू लाजपत राय मार्केट भी 50 से अधिक कोरोना संक्रमण के मामल सामने आने के बाद से 3 जून से बंद है। कारोबारी संगठन ने बताया कि बाजार को 7 जून तक बंद रखने का फैसला किया गया है।

नया मामला चांदनी चौक स्थित ज्वेलरी बाजार दरीबाकलां और सदर बाजार में स्थित बर्तनों के थोक बाजार डिप्टीगंज का है। जहां भी कई दुकानदार कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। डिप्टीगंज बाजार के सचिव भरत शर्मा ने बताया कि बाजार में कोरोना के छह से अधिक मामले सामने आए हैं। वहीं, दरीबा व्यापार मंडल के महासचिव मनीष वर्मा ने बताया कि बाजार में चार मामले आए हैं। चिता की बात कि एक संक्रमित व्यापारी तीन दिनों में 20 अन्य दुकानदारों से भी मिले हैं। इसलिए बाजार को अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया गया है। चांदनी चौक सर्व व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजय भार्गव ने कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते ग्राहक भी बाजार में नहीं आ रहे हैं।

------------------ खारी बावली को बंद कराने पर चर्चा, कूचा महाजनी के खुलने पर अनिश्चितता

मसाला और सूखे मेवे के थोक बाजार खारी बावली भी कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर सहमा हुआ है। यहां कोरोना संक्रमण मिलने पर गड़ौदिया मार्केट को सील कर दिया गया है। इसी तरह खारी बावली के अन्य बाजारों में भी संक्रमण के मामले आ रहे हैं। इस कारण बाजार की सभी दुकानें नहीं खुल रही हैं। दिल्ली किराना कमेटी के अध्यक्ष विजय गुप्ता ने कहा कि निश्चित ही व्यापारी डरे हुए हैं। वह बाजार बंद करने के हक में हैं। फिलहाल इसपर निर्णय नहीं लिया गया है। वहीं, चांदनी चौक के थोक ज्वेलरी बाजार कूचा महाजनी को आठ जून से खोलने की तैयारी थी, लेकिन अन्य बाजारों में बढ़ते मामलों को देखते हुए इसपर अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं। --------------- पुरानी दिल्ली के बाजारों में ऑड-इवन की मांग एक तरफ दुकानदारों की मांग पर दिल्ली सरकार ने 1 जून से ऑड-इवन फार्मूले को हटा दिया है। वहीं, पुरानी दिल्ली के दुकानदार इस व्यवस्था को लागू रखना चाहते हैं। ताकि भीड़ को नियंत्रित किया जा सके। पुरानी दिल्ली के बाजार संकरी गलियों में स्थित है, जहां भीड़ को शारीरिक दूरी का पालन कराना टेढ़ी खीर है। द बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष योगेश सिघल ने कहा कि अगर ऑड-इवन समेत अन्य विकल्प नहीं अपनाए गए तो हालात और खराब होंगे। जल्द खुलेगा सदर बाजार एशिया के बड़े बाजारों में शामिल सदर बाजार जल्द खुल सकता है। बृहस्पतिवार को इस संबंध में चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (सीटीआइ) के प्रतिनिधिमंडल ने मध्य दिल्ली की जिलाधिकारी निधि श्रीवास्तव से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे सीटीआइ के संयोजक बृजेश गोयल ने बताया कि जिलाधिकारी ने आश्वासन दिया है कि बाजार जल्द खोलने की कोशिश होगी। फेडरेशन ऑफ सदर बाजार ट्रेडर्स एसोसिएशन के महासचिव राजेंद्र शर्मा ने बताया कि सदर बाजार 2 महीने से अधिक समय से बंद है। कुछ हफ्ते पहले दिल्ली के विभिन्न बाजारों को खोलने की अनुमति दी गई थी, लेकिन सदर बाजार के लगभग 40 हजार दुकानें पूरी तरह से बंद हैं। बाजार का 70 फीसद से अधिक क्षेत्र विशुद्ध रूप से वाणिज्यिक है और कोरोना का एक भी मामला यहां नहीं आया है और इस क्षेत्र में कोई आवासीय परिसर स्थित नहीं है। ऐसे में इसे खोला जाना चाहिए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.