top menutop menutop menu

साउथ अफ्रीकाई क्रिकेट बोर्ड ने किया सालाना पुरस्कारों का ऐलान, इन खिलाड़ियों ने मारी बाजी

साउथ अफ्रीकाई क्रिकेट बोर्ड ने किया सालाना पुरस्कारों का ऐलान, इन खिलाड़ियों ने मारी बाजी
Publish Date:Sun, 05 Jul 2020 12:58 PM (IST) Author: Vikash Gaur

जोहान्सबर्ग, पीटीआइ। साउथ अफ्रीकाई टीम के सीमित ओवरों के कप्तान क्विंटन डिकॉक को क्रिकेट साउथ अफ्रीका (CSA) की ओर से साल का सबसे बड़ा अवॉर्ड मिला है। वर्चुअल अवॉर्ड्स सेरेमनी ने क्विंटन डिकॉक को मेंस क्रिकेट ऑफ द ईयर के खिताब से नवाजा गया है। कोरोना वायरस की वजह से इस बार समारोह का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुए, जिसमें विकेटकीपर बल्लेबाज डिकॉक को टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर भी चुना गया है।

27 साल के क्विंटन डिकॉक जहां सीएसके सालाना समारोह में साल के टॉप मेंस क्रिकेटर रहे हैं, जबकि महिला टीम से बाजी युवा ओपनर लौरा वोलवार्ड ने मारी है। वोलवार्ड को वुमेंस क्रिकेटर ऑफ द ईयर के अलावा WODI क्रिकेटर ऑफ द ईयर के अवॉर्ड से भी नवाजा गया है। तेज गेंदबाज लुंगी नगिडी को ODI और T20I प्लेयर चुना गया है, जबकि डेविड मिलकर फैंस(Fan's) फेवरिट प्लेयर के अवॉर्ड से नवाजे गए हैं।

भारत के खिलाफ टेस्ट डेब्यू करने वाले और इंग्लैंड के खिलाफ फाइव विकेट हॉल लेने वाले तेज गेंदबाज एनरिक नॉर्खिया को इंटरनेशनल मेंस न्यूकमर ऑफ द ईयर का खिताब मिला है। वहीं, शबनिम इस्माइल को वुमेंस टी20 प्लेयर ऑफ द ईयर के खिताब से नवाजा गया है, जबकि लेफ्ट आर्म स्पिनर Nonkululeko Mlaba को नॉर्खिया की तरह इंटरनेशनल वुमेंस न्यूकमर ऑफ द ईयर के खिताब से सुशोभित किया गया है।

बता दें कि दूसरी बार क्विंटन डिकॉक को मेंस क्रिकेटर ऑफ द ईयर साउथ अफ्रीकाई क्रिकेट बोर्ड ने चुना है। 2017 में भी उनको ये अवॉर्ड मिल चुका है। शनिवार को ये अवॉर्ड जीतने के साथ वे साउथ अफ्रीका के उन महान खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल हो गए हैं, जिनको ये अवॉर्ड दो-दो बार मिला था। डिकॉक अब जैक कैलिस (2004 और 2011), मखाया एनटिनी (2005 और 2006), हाशिम अमला (2010 और 2013), एबी डिविलियर्स (2014 और 2015) और कगिसो रबाडा (2016 और 2018) वाली कैटेगरी में शामिल हो गए हैं।

अवॉर्ड्स सेरेमनी के दौरान सीएसए के एक्टिंग सीईओ जैक फॉल ने कहा है, "क्विंटन डिकॉक टेस्ट क्रिकेट में अग्रणी विकेटकीपर-बल्लेबाज हैं और वास्तव में लाल गेंद और सफेद गेंद क्रिकेट दोनों में प्रमुख बल्लेबाजों में से एक है। वह एक उत्कृष्ट कप्तान के रूप में भी उभरने लगे हैं।" दूसरी ओर वोलवार्ड 21 साल और दो महीने में दक्षिण अफ्रीका की शीर्ष महिला पुरस्कार की सबसे कम उम्र की विजेता बन गईं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.