न्यूजीलैंड की महिला क्रिकेट टीम को मिली बम की धमकी, ECB को मिला था ईमेल

न्यूजीलैंड की महिला क्रिकेट टीम को बम की धमकी मिली है। ये मामला लीसेस्टर का है। न्यूजीलैंड क्रिकेट (NZC) ने मंगलवार को पुष्टि की कि इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) को NZC से संबंधित एक धमकी भरा ईमेल मिला है।

Vikash GaurTue, 21 Sep 2021 08:20 AM (IST)
New Zealand की महिला टीम को बम की धमकी मिली है (फोटो ICC ट्विटर)

आकलैंड, एएनआइ। न्यूजीलैंड की महिला क्रिकेट टीम से जुड़ा एक बड़ा मामला सामने आया है, जहां महिला टीम को बम की धमकी मिली है। न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड (NZC) ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है। न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने मंगलवार को पुष्टि की कि इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) को NZC से संबंधित एक धमकी भरा ईमेल मिला है। हालांकि, यह विशेष रूप से न्यूजीलैंड महिला क्रिकेट टीम का संदर्भ नहीं देता था, लेकिन इसे गंभीरता से लिया गया, जांच की गई और इसे विश्वसनीय नहीं माना गया।

बता दें कि न्यूजीलैंड की महिला टीम इस समय इंग्लैंड के दौरे पर है, जहां दोनों देशों की महिला खिलाड़ियों के बीच सीमित ओवरों की क्रिकेट खेली जा रही है। तीसरे महिला एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच से पहले इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड को एक धमकी भरा ईमेल मिला। हालांकि, बाद में इस धमकी को विश्वसनीय नहीं माना गया। न्यूजीलैंड क्रिकेट ने अपने बयान में कहा है, "व्हाइट फ़र्न्स (न्यूजीलैंड की महिला क्रिकेट टीम) अब लीसेस्टर पहुंच गए हैं और एहतियात के तौर पर उनके आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है। उनका प्रशिक्षण रद करने की खबरें झूठी हैं।"

बयान में आगे कहा गया है, "उनको आज (सोमवार) ट्रेनिंग नहीं करनी थी, क्योंकि यह एक यात्रा का दिन था। NZC इस मामले पर आगे कोई टिप्पणी नहीं करेगा।" इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का तीसरा मुकाबला अपने तय समय पर खेला जाएगा, क्योंकि NZC द्वारा सुरक्षा खतरे को विश्वसनीय नहीं माना गया है। लीसेस्टर के ग्रैस रोड मैदान पर ये मुकाबला मंगलवार को लोकल समय के अनुसार दोपहर एक बजे से खेला जाएगा।

क्रिकइंफो के अनुसार न्यूजीलैंड टीम प्रबंधन के एक सदस्य से संपर्क किया गया और उन्हें बताया गया था कि टीम होटल में एक बम रखा जाएगा। दरअसल, न्यूजीलैंड की महिला टीम को अपने देश लौटने पर उनके विमान पर बम रखने के प्रयास की भी चेतावनी दी गई थी। इसके बाद सभी खिलाड़ियों को सुरक्षित जगह ले जाया गया और पुलिस और आतंकवाद विरोधी एजेंसियों को बुलाया गया, जिसमें धमकी को विश्वसनीय नहीं पाया गया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.