न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम संयोजन और मौसम बढ़ाएंगे कोहली का सिरदर्द, पहले दिन का खेल होने पर सस्पेंस

पहले टेस्ट में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत जीत से वंचित रह गया था। अब नियमित कप्तान की वापसी के बाद टीम संयोजन में बदलाव तय हैं। वानखेड़े स्टेडियम पर संभव है कि चार ही दिन खेल हो सके क्योंकि पहले दिन भारी बारिश का अनुमान है।

Sanjay SavernThu, 02 Dec 2021 09:24 PM (IST)
भारतीय टेस्ट टीम के खिलाड़ी (एपी फोटो)

मुंबई, प्रेट्र। छोटे ब्रेक के बाद वापसी कर रहे कप्तान विराट कोहली के सामने न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार से शुरू हो रहे दूसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट में टीम संयोजन की बड़ी समस्या होगी और इसके साथ ही मुंबई में लगातार हो रही बारिश भी चिंता का सबब है। पहले टेस्ट में न्यूजीलैंड की आखिरी जोड़ी की संयमित पारियों के कारण भारत तय लग रही जीत से वंचित रह गया था। अब नियमित कप्तान की वापसी के बाद टीम संयोजन में बदलाव तय हैं। वानखेड़े स्टेडियम पर संभव है कि चार ही दिन खेल हो सके, क्योंकि पहले दिन भारी बारिश का अनुमान है।

रहाणे व पुजारा को बाहर करने की संभावना कम : आम तौर पर भारतीय टीम में बहुत ज्यादा बदलाव के पक्ष में टीम प्रबंधन नहीं रहता है, लेकिन कोच राहुल द्रविड़ और कप्तान कोहली के सामने समस्या यह है कि दो खिलाड़ी रन नहीं बना पा रहे हैं। कानपुर में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करके 105 और 65 रन बनाने के बावजूद श्रेयस अय्यर की अंतिम एकादश में जगह पक्की नहीं है। अजिंक्य रहाणे लगातार 12 पारियों में नाकाम रहे हैं, लेकिन पिछले मैच में कप्तानी करने वाले खिलाड़ी को खराब फार्म के कारण अगले मैच से बाहर नहीं किया जा सकता और वह भी उसके घरेलू मैदान पर। उन्हें एक और मौका दिए जाने के मायने हैं कि टीम प्रबंधन की कड़ा कदम नहीं उठाने को लेकर आलोचना होगी। दूसरा मसला चेतेश्वर पुजारा का है जो अक्सर यह भूल जाते हैं कि टेस्ट क्रिकेट सिर्फ विकेट बचाकर खेलना नहीं है।

इंग्लैंड में उनकी इस मानसिकता में तनिक बदलाव दिखा, लेकिन कानपुर में वह फिर उसी चिर परिचित हो चले अंदाज में नजर आए। वैसे टीम जब दक्षिण अफ्रीका जाएगी तो कोहली को पता है कि एक वही बल्लेबाज हैं जो कैगिसो रबादा और एनरिक नोत्र्जे की नई कूकाबूरा गेंदें झेल सकते हैं। पुजारा और रहाणे के समर्थक चैन की सांस ले सकते हैं कि कम से कम इस मैच में तो उन्हें बाहर किए जाने की संभावना कम है। कोहली के आलोचक यह तर्क भी दे सकते हैं कि खुद कप्तान ने किसी भी प्रारूप में दो साल से शतक नहीं बनाया है। कप्तान ने टीम में रहाणे के स्थान को लेकर निश्चित जवाब नहीं दिया, लेकिन टीम से बाहर होने वाले खिलाडि़यों के साथ कैसा संवाद किया जाता है, इस पर उन्होंने विस्तृत जवाब दिया।

कोहली ने कहा, 'आपको समझना होगा कि टीम की स्थिति क्या है। आपको समझना होगा कि लंबे सत्र के दौरान निश्चित चरण में व्यक्तिगत खिलाडि़यों की स्थिति क्या है, इसलिए बेशक आपको अच्छी तरह से संवाद करना होगा। आपको व्यक्तिगत खिलाडि़यों से बात करनी होगी और उनसे इस तरह बात करनी होगी कि उन्हें चीजें अच्छी तरह समझ आ जाएं। अतीत में हमने जब भी बदलाव किए हैं तो अधिकतर समय यह संयोजन से जुड़े रहे हैं।'

कौन करेगा पारी का आगाज : लगातार खराब फार्म से जूझ रहे मयंक अग्रवाल को बाहर किया जा सकता है। शुभमन गिल ने अपनी खराब रक्षण तकनीक के बावजूद पहले मैच में अर्धशतक जमाया था। उन्हें भविष्य की ओर देखते हुए टीम में बनाए रखा जा सकता है। अग्रवाल की जगह कोहली लेंगे, लेकिन सवाल यह है कि गिल के साथ पारी का आगाज कौन करेगा। चेतेश्वर पुजारा या विकेटकीपर बल्लेबाज केएस भरत को यह जिम्मेदारी दी जा सकती है। मौजूदा फार्म को देखते हुए पुजारा खराब विकल्प होंगे। भरत ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में काफी रन बनाए हैं और 308 उनका सर्वोच्च स्कोर रहा है।

साहा फिट तो क्या पदार्पण करेंगे भरत : कोहली ने पुष्टि की कि टीम के सबसे उम्रदराज खिलाड़ी रिद्धिमान साहा गर्दन की जकड़न से उबर गए हैं, जिसके कारण वह कानपुर टेस्ट में अधिकांश समय विकेटकीपिंग नहीं कर पाए थे। कोहली ने कहा, 'अब तक की स्थिति के अनुसार वह फिट हैं। वह गर्दन में जकड़न से उबर गए हैं और अब बिलकुल ठीक हैं।' हालांकि यह देखना होगा कि साहा को खिलाया जाता है या टीम प्रबंधन युवा विकेटकीपर श्रीकर भरत की क्षमता पर भरोसा जताता है और उन्हें टेस्ट पदार्पण करने का मौका देता है।

तीन स्पिनर या अतिरिक्त तेज गेंदबाज : तेज गेंदबाजों में इशांत शर्मा की खराब फार्म को देखते हुए भारतीय टीम में मुहम्मद सिराज को मौका दिया जा सकता है। पिच अनुकूल होने के कारण तीन स्पिनरों की जगह बरकरार रहने की संभावना लग रही है। इस मैच में तीन स्पिनरों के साथ उतरने की रणनीति में बदलाव का संकेत देते हुए कोहली ने मैच की पूर्व संध्या पर कहा, 'मौसम में बदलाव हुआ है और हमें इसे ध्यान में रखते हुए टीम का चयन करना होगा।' अगर भारत तीन तेज गेंदबाजों के साथ उतरता है तो अंतिम एकादश में मुहम्मद सिराज को मौका मिल सकता है। कोहली ने कहा, 'आप यह नहीं मान सकते कि पांच दिनों तक मौसम ऐसा ही रहेगा। इसलिए हमें देखना होगा कि कौन का गेंदबाजी संयोजन चुना जाए, जो विभिन्न हालात में प्रभावी रहे। अगर आम सहमति बनती है और सभी राजी होते हैं तो हम उस संयोजन के साथ उतर सकते हैं।'

वैगनर को उतार सकते हैं कीवी : दूसरी ओर केन विलियमसन की अगुआई वाली न्यूजीलैंड की टीम को कानपुर में वैगनर की कमी खली, जो दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाजों को परेशान कर सकते थे। बारिश के कारण पिच में नमी होने से न्यूजीलैंड की टीम वैगनर के रूप में अतिरिक्त तेज गेंदबाज को उतार सकती है। बारिश और धूप के अभाव के कारण तेज गेंदबाजों और स्पिनरों दोनों को उतारा जा सकता है। ऐसे में विल समरविले को बाहर किया जा सकता है।

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), मयंक अग्रवाल, शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, श्रेयस अय्यर, सूर्यकुमार यादव, रिद्धिमान साहा, रवींद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, अक्षर पटेल, उमेश यादव, इशांत शर्मा, मुहम्मद सिराज, जयंत यादव, श्रीकर भरत, प्रसिद्ध कृष्णा।

न्यूजीलैंड : केन विलियमसन (कप्तान), टाम लाथम, रोस टेलर, हेनरी निकोल्स, टाम ब्लंडेल, विल यंग, ग्लेन फिलिप्स, डेरिल मिशेल, टिम साउथी, नील वैगनर, काइल जेमिसन, विलियम समरविले, एजाज पटेल, मिशेल सेंटनर, रचिन रवींद्र।

नंबर गेम :

--2016 के बाद वानखेड़े स्टेडियम में टेस्ट क्रिकेट की वापसी होगी। इस मैदान पर पिछला टेस्ट आठ से 12 दिसंबर 2016 को इंग्लैंड के खिलाफ खेला गया था, जो मेजबान टीम ने एक पारी और 36 रन से जीता था।

--25 टेस्ट इस मैदान पर खेले जा चुके हैं, जिनमें से 11 भारत ने जीते, सात हारे और सात ड्रा रहे।

--25 प्रतिशत दर्शकों को प्रतिदिन मैच के दौरान स्टेडियम में प्रवेश की अनुमति रहेगी। मुंबई क्रिकेट संघ महाराष्ट्र सरकार के कोरोना प्रोटोकाल का पूरा पालन करेगा।

--80वां टेस्ट मैच होगा यह अजिंक्य रहाणे का यदि उन्हें अंतिम एकादश में शामिल किया जाता है तो, लेकिन वह पहली बार अपने घरेलू मैदान वानखेड़े स्टेडियम में टेस्ट मैच खेलेंगे। 

मौसम और पिच

मुंबई में बेमौसम की भारी बारिश हो रही है जिससे तापमान में तेजी से गिरावट आई है। आसमान में बादल छाये होने के कारण सीम और स्विंग गेंदबाजों को फायदा मिल सकता है क्योंकि पिच में नमी भी होगी।

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने वानखेड़े स्टेडियम की पिच के संदर्भ में कहा, 'यह ऐसी पिच है जहां काफी अनुशासन की जरूरत होगी, लेकिन अनुशासन का पुरस्कार भी अन्य स्थलों की तुलना में कहीं अधिक होगा, जहां स्पिन का दबदबा रहता है और तेज गेंदबाजों के पास अधिक मौका नहीं होता। लेकिन, वानखेड़े में ऐसा कभी नहीं होता। विशेषकर लाल गेंद की क्रिकेट में सभी तेज गेंदबाज इस पिच पर खेलने का लुत्फ उठाते हैं और यहां तक कि बल्लेबाजों को यहां बल्लेबाजी करना पसंद है। यह शानदार क्रिकेट विकेट है।'

न्यूजीलैंड के सीनियर तेज गेंदबाज टिम साउथी का मानना है कि यहां तापमान गिरने और लंबे समय तक कवर बिछे होने से तेज गेंदबाजों को स्विंग मिलेगी। साउथी ने पिछले टेस्ट में कानपुर की सपाट पिच पर भी भारतीय बल्लेबाजों को परेशान किया था। यह पूछने पर कि भारी बारिश के कारण पिच से गेंदबाजों को कितनी मदद मिलेगी, उन्होंने कहा, 'कुछ कहा नहीं जा सकता। हमें इंतजार करना होगा। हमें इसके अनुकूल ढलना होगा। कवर बिछे होने से स्विंग मिल सकती है। विकेट काफी समय से कवर के नीचे हैं। देखते हैं कि कल कैसा रहता है।'

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.