EXCLUSIVE: जून 2021 में ही तय हो गया था विराट कोहली का भविष्य, जानिए क्या था पूरा मामला

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने भले ही टी20 विश्व कप के बाद टी20 कप्तानी छोड़ने का फैसला किया हो लेकिन उनकी कप्तानी के भविष्य का फैसला लगभग जून 2021 में हुई विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के हारने के बाद तय हो गया था।

Vikash GaurFri, 17 Sep 2021 08:07 AM (IST)
विराट कोहली टी20 की कप्तानी छोड़ चुके हैं

नई दिल्ली, अभिषेक त्रिपाठी। जब दैनिक जागरण ने नौ सितंबर को सबसे पहले यह लिखा कि अक्टूबर नवंबर में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में होने वाला टी-20 विश्व कप विराट कोहली का इस फार्मेट में कप्तान के तौर पर आखिरी विश्व कप हो सकता है और इसको लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल (बीसीसीआइ) के पदाधिकारियों की बैठक में चर्चा हुई है तो सबने आधिकारिक तौर पर इसको नकारा लेकिन अब बीसीसीआइ ने भी मान लिया कि छह महीने से टीम इंडिया के भविष्य पर चर्चा हो रही थी।

बीसीसीआइ के सचिव जय शाह ने विराट के विश्व कप के बाद टी-20 कप्तानी छोड़ने के बाद कहा कि हमारे पास टीम इंडिया के लिए स्पष्ट योजना है। कार्यभार को ध्यान में रखते हुए विराट ने टी-20 विश्व कप के बाद कप्तानी छोड़ने का फैसला किया है। मैं पिछले छह महीने से विराट और टीम के नेतृत्व को लेकर बात कर रहा हूं। विराट भारतीय टीम के साथ एक खिलाड़ी और सीनियर सदस्य के तौर पर जुड़े रहेंगे। हालांकि जय ने पहले कहा था कि जब तक टीम इंडिया अच्छा प्रदर्शन कर रही है तब तक कप्तानी में बदलाव का सवाल ही नहीं उठता। एक कप्तान के रूप में कोहली का सभी प्रारूपों में प्रभावशाली रिकार्ड है।

लेकिन सच्चाई ये है : पहले बीसीसीआइ के पदाधिकारी कुछ भी आधिकारिक बयान दे रहे थे लेकिन सच्चाई ये है कि विराट की कप्तानी में 2017 में चैंपियंस ट्राफी, 2019 में वनडे विश्व कप और इस साल विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल हारने से बीसीसीआइ के पदाधिकारी बिलकुल खुश नहीं थे। जुलाई की शुरुआत में मुंबई में बीसीसीआइ अध्यक्ष सौरव गांगुली, सचिव जय शाह, उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला और कोषाध्यक्ष अरुण धूमल की बैठक में इस पर लंबी चर्चा हुई थी। बीसीसीआइ और टीम इंडिया के बीच में सेतु का काम करने वाले एक अधिकारी ने टीम के अंदर चल रहीं गतिविधियों को लेकर बाकायदा इनपुट दिए थे।

धौनी को मेंटर बनाने के बाद दबाव में थे विराट : विश्व कप के लिए टीम इंडिया की घोषणा के साथ पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को मेंटर बनाए जाने के बाद विराट ने दीवार पर लिखी जा रही इबारत को पढ़ लिया। भले ही बीसीसीआइ के पदाधिकारी इस बात को आधिकारिक तौर पर नकार रहे थे कि उनकी मीटिंग में कप्तानी को लेकर चर्चा नहीं हुई लेकिन सच सबको पता चल गया था। धौनी के मेंटर बनने के बाद विराट और ज्यादा दबाव में आ गए। उन्हें लगा कि अगर वह टी-20 विश्व कप नहीं जीत पाए, या पहले मैच में भारत को पाकिस्तान से हार का सामना करना पड़ा तो स्थिति विकट हो जाएगी क्योंकि विराट की कप्तानी में ही भारत को 2017 चैंपियंस ट्राफी के फाइनल में पाकिस्तान से पराजय मिली थी। इसके बाद विराट ने टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री और भविष्य के टी-20 कप्तान रोहित शर्मा से चर्चा की। इसके बाद उन्होंने कप्तानी छोड़ने का फैसला किया।

क्या हुआ था बीसीसीआइ की उस मीटिंग में

-साउथैंप्टन में 18 से 23 जून तक न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल हारने से निराश बीसीसीआइ के पदाधिकारियों ने टीम और बोर्ड के बीच सेतु का काम करने वाले अधिकारी से इनपुट लिया था

-जुलाई में हुई बैठक में भाग लेने वाले एक सूत्र ने दैनिक जागरण को बताया कि बोर्ड के सभी पदाधिकारी डब्ल्यूटीसी फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ हार और उसमें दो स्पिनर खिलाने के फैसले से खफा थे

-एक पदाधिकारी ने बैठक में कहा था कि जब मैच से पहले इतनी बारिश हुई तो दो स्पिनर खिलाने की जरूरत क्या थी?

-भुवनेश्वर कुमार को भी इंग्लैंड दौरे पर नहीं ले जाने और उसके बाद ये खबर बाहर आने के बाद कि वह टेस्ट नहीं खेलना चाहते, से भी पदाधिकारी नाराज दिखे थे

-भुवनेश्वर ने ऐसी खबरें बाहर आने के बाद ट्वीट किया था कि वह सभी प्रारूपों (वनडे, टेस्ट, टी-20) में खेलने के लिए उपलब्ध हैं

-उस बैठक में कुलदीप यादव को लेकर भी चर्चा हुई थी। बीसीसीआइ के पदाधिकारियों को लगता है कि जिस तरह उन्हें 2019 विश्व कप के बाद से कम मौके दिए गए और बाद में टीम से बाहर का रास्ता दिखाया गया, वह सही नहीं है

-इसको लेकर बीसीसीआइ में काम करने वाले एक अधिकारी ने टीम के अंदरूनी हालात और फैसले लेने के तरीकों पर पदाधिकारियों को अपडेट किया था

-उस बैठक में एक पदाधिकारी ने तीनों प्रारूपों (टी-20, वनडे और टेस्ट) में अलग-अलग तीन कप्तान बनाने का तो दूसरे ने टेस्ट व सीमित ओवरों के प्रारूप (टी-20, वनडे) में अलग-अलग कप्तान बनाने का सुझाव दिया गया

-लेकिन तीसरे पदाधिकारी ने कहा कि विश्व कप से पहले कप्तानी में बदलाव करना सही नहीं है। जो भी बदलाव करने हैं उसके लिए हमें विश्व कप तक इंतजार करना चाहिए

-जुलाई में मुंबई में बीसीसीआइ की मीटिंग में हुई थी अलग-अलग फार्मेट में अलग-अलग कप्तानी पर चर्चा

-धौनी के मेंटर बनाए जाने के बाद विराट कोहली ने दीवार पर लिखी इबारत को पढ़ लिया

-बीसीसीआइ ने पहले नकारा लेकिन अब माना कि कई महीनों से टीम के भविष्य पर हो रही थी विराट से चर्चा

-कप्तान के तौर पर आइसीसी ट्राफी में विराट को ज्यादा मौके देने के पक्ष में नही था बोर्ड

-2017 चैंपियंस ट्राफी, 2019 वनडे विश्व कप, 2021 आइसीसी टेस्ट चैंपियनशिप गंवा चुके हैं कोहली

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.