दिनेश कार्तिक भिड़े करुण नायर से, बार-बार किए गए अपील से खो बैठे अपना आपा!

 नई दिल्ली, जेएनएन। रणजी ट्रॉफी टूर्नामेंट (Ranji Trophy 2019) के एक मुकाबले में तमिलनाडु का सामना कर्नाटक के साथ हुआ। इस मैच में तमिलनाडु को हार का सामना करना पड़ा, लेकिन इस टीम के सीनियर विकेटकीपर-बल्लेबाज दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) ने अपने खराब बर्ताव की वजह से सबका ध्यान अपनी तरफ खींचा। दरअसल दिनेश कार्तिक मैच के खत्म होने के बाद करुण नायर (Karun Nair) से भिड़ गए और फिर अंपायर्स और मैच रेफरी ने बीच-बचाव करके मामले को शांत किया। कर्नाटक रणजी टीम ने इस मामले की पूरी जानकारी अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर की। 

इस मामले के बारे में तमिलनाडु के कप्तान विजय शंकर ने बताया कि बल्लेबाजी के दौरान दिनेश कार्तिक कर्नाटक के खिलाड़ियों द्वारा जरूरत से ज्यादा अपील किए जाने की बात से अपना आपा खो बैठे। इसके अलावा ये भी वजह हो सकती है कि तमिलनाडु को इस सीजन में कर्नाटक के हाथों चार बार हार का सामना करना पड़ा है जिसमें ये दोनों टीमें दो बार खिताबी मुकाबलों के लिए भिड़े थे। 

रिपोर्ट के मुताबिक इस मैच के बाद यानी प्रजेंटेशन सेरेमनी के खत्म होने के बाद कर्नाटक टीम के कप्तान करुण नायर पर दिनेश कार्तिक बुरी तरह से भड़क गए। पहले तो दिनेश ने ड्रेसिंग रूम के बाहर करुण नायर को रोक लिया और बहस की। यहां पर अंपायर्स और मैच रेफरी ने बीच-बचाव कर मामले को शांत किया, लेकिन जब प्लेयर ऑफ द मैच की घोषणा की गई उसके बाद एक बार फिर से दिनेश गुस्से में आ गए और करुण नायर पर बरस पड़े। 

Last evening, after the game and presentation ceremony, Dinesh Karthik had a go at Karun Nair. Karnataka coaches, umpires, match referee had to calm him down. The reason is likely to be, as informed by Tamil Nadu skipper is - excessive appealing from Karnataka fielders.

This is shocking behaviour from a senior player like Dinesh Karthik, having a go at junior Karun Nair. It all started in first innings when KA batted. There was excessive appealing and match referee had to fine Murali Vijay on day 1 itself for dissent & excessive appealing.

ऐसा कहा जा रहा है कि जब तमिलनाडु की दूसरी पारी चल रही थी उस दौरान कर्नाटक के खिलाड़ियों द्वारा बार-बार अपील की जा रही थी जिसकी वजह से दिनेश कार्तिक काफी गुस्से में आ गए थे। तमिलनाडु टीम के कप्तान विजय शंकर ने कहा कि दोनों टीमों के बीच जब मुकाबले होते हैं तो ऐसा होता रहता है। अगर ऐसा ना हो तो हैरानी होनी चाहिए। हो सकता है कि ज्यादा अपील करने की वजह से कार्तिक ने ऐसा बर्ताव किया हो। वो टीम के सीनियर खिलाड़ी हैं, लेकिन कभी-कभी ऐसी बातें परेशान कर देती हैं पर आपको आगे बढ़ना पड़ता है। 

आपको बता दें कि इस मैच की पहली पारी में तमिलनाडु के बल्लेबाज मुरली विजय ने भी काफी अपील की थी जिसकी वजह से उन पर जुर्माना भी लगाया गया था। तमिलनाडु के खिलाड़ियों ने भी मैच के दौरान कर्नाटक के बल्लेबाजों को काफी परेशान किया था। इसमें स्लेजिंग और बल्लेबाज के आउट होने के बाद कुछ-कुछ बातें कही गई थी। भारतीय क्रिकेट के इस सीजन में कर्नाटक ने तमिलनाडु को विजय हजारे ट्रॉफी और सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के फाइनल में हराया था। इसके अलावा सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के लीग स्टेज में भी कर्नाटक को ही जीत मिली थी। अब रणजी ट्रॉफी में तमिलनाडु को कामयाबी नहीं मिली। हालांकि इस घटना के बाद क्या दिनेश कार्तिक पर कोई कार्रवाई होती है या नहीं ये देखने वाली बात होगी। 

1952 से 2020 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.