भारत-पाकिस्तान के बीच कब हो सकती है द्विपक्षीय क्रिकेट क्रिकेट, पूर्व कप्तान कपिल देव ने बताया

भारत और पाकिस्तान के बीच पिछली द्विपक्षीय टेस्ट सीरीज 2007-08 में हुई थी जिसे भारत ने 1-0 से जीता था वहीं भारत-पाक पिछली बार द्विपक्षीय बार वनडे सीरीज में 2012-13 में भिड़े थे जिसे पाकिस्तान ने 2-1 से जीता था।

Sanjay SavernPublish:Fri, 26 Nov 2021 08:22 PM (IST) Updated:Fri, 26 Nov 2021 08:22 PM (IST)
भारत-पाकिस्तान के बीच कब हो सकती है द्विपक्षीय क्रिकेट क्रिकेट, पूर्व कप्तान कपिल देव ने बताया
भारत-पाकिस्तान के बीच कब हो सकती है द्विपक्षीय क्रिकेट क्रिकेट, पूर्व कप्तान कपिल देव ने बताया

विशाल श्रेष्ठ, कोलकाता।  संयुक्त अरब अमीरात में हाल में खत्म हुए टी-20 वर्ल्ड कप में भारत-पाकिस्तान की भिड़ंत के बाद क्रिकेट प्रेमी दोनों देशों के बीच और मैच देखना चाहते हैं। भारत-पाक के बीच द्विपक्षीय सीरीज बहाल करने की भी मांग उठने लगी है। कई पूर्व क्रिकेटर भी इसकी वकालत कर रहे हैं। हालांकि आइसीसी वर्ल्ड कप में भारत को पहली बार पाकिस्तान के हाथों इस टी20 वर्ल्ड कप में हार मिली थी। 

भारत को 50 ओवर का पहला विश्व कप जिताने वाले कप्तान कपिल देव से जब इसपर उनकी राय पूछी गई तो उन्होंने कहा-'एक क्रिकेट प्रेमी के तौर पर मैं निश्चित तौर पर दोनों देशों के बीच मैच देखना चाहूंगा लेकिन मेरे चाहने से कुछ नहीं होने वाला। यह दोनों देशों की नीतियों पर निर्भर करेगा और वहां की सरकारें और क्रिकेट बोर्ड ही इसपर अंतिम फैसला लेंगे।' कपिल देव ने आगे कहा कि दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेट खेलने पर कई वर्षों तक प्रतिबंध लगा दिया गया था लेकिन जब वहां की सरकार की नीतियां बदली तो 90 के दशक में वहां क्रिकेट की फिर से शुरुआत हुई। 

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच पिछली द्विपक्षीय टेस्ट सीरीज 2007-08 में हुई थी, जिसे भारत ने 1-0 से जीता था, वहीं भारत-पाक पिछली बार द्विपक्षीय बार वनडे सीरीज में 2012-13 में भिड़े थे, जिसे पाकिस्तान ने 2-1 से जीता था। दोनों देशों के बीच अब तक की एकमात्र द्विपक्षीय टी-20 सीरीज भी 2012-13 में हुई थी जो 1-1 से ड्रा रही थी। इन तीनों की मेजबानी भारत ने की थी। यह पूछे जाने पर कि क्या टी-20 की तरह भारत की वनडे टीम की कप्तानी भी विराट कोहली से लेकर रोहित शर्मा के हाथों में सौंप दी जानी चाहिए। इसके जवाब में कपिल ने कहा-'कौन कप्तान बनेगा, कितने वर्षों तक कप्तान रह पाएगा, यह मायने नहीं रखता। सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण मैच जीतना है। मैं खिलाड़ी विशेष पर नहीं बल्कि टीम वर्क में यकीन करता हूं।'