इंग्लैंड के कप्तान जो रूट का दावा, बोले- नरेंद्र मोदी स्टेडियम में क्रिकेट फैंस को लूटा गया

मोटेरा में तीसरा टेस्ट मैच खेला गया (फोटो जागरण)

Ind vs Eng इंग्लैंड की टीम के कप्तान जो रूट ने कहा है कि अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में फैंस विराट कोहली बनाम जेम्स एंडरसन मैच देखने आए थे लेकिन ऐसा लग रहा है कि उनको ठगा गया है क्योंकि ये मुकाबला सिर्फ दो दिन चला है।

Vikash GaurFri, 26 Feb 2021 11:02 AM (IST)

अहमदाबाद, एएनआइ। Ind vs Eng: इंग्लैंड की टीम के कप्तान जो रूट ने कहा है कि उनको लगता है कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम में तीसरा टेस्ट मैच देखने आए दर्शकों को लूटा गया है। कप्तान जो रूट ने ऐसा इसलिए कहा है, क्योंकि उनको लगता है कि क्रिकेट फैंस देखने आए थे कि विराट कोहली कैसे जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड का सामना करते हैं, लेकिन सिर्फ उनको विकेटों का पतझड़ देखने को मिला। दो दिन से भी कम समय में 30 विकेट गिरे और मैच खत्म हो गया।

भारतीय स्पिनरों ने 19 विकेट चटकाए, जबकि एक विकेट तेज गेंदबाज इशांत शर्मा को मिला। वहीं, इंग्लैंड की तरफ से जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड एक भी विकेट नहीं निकाल सके। भारत ने मुकाबला 10 विकेट से जीतकर सीरीज में 2-1 की बढ़त हासिल कर ली। मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में जो रूट ने कहा, "हम इस तथ्य से दूर न रहे और न छिपाएं कि हम मैच में बाहर रहे हैं और हमें यह स्वीकार करना होगा। यह एक वास्तविक शर्म की बात है, क्योंकि यह एक शानदार स्टेडियम है और 60 000 लोग शानदार, प्रतिष्ठित टेस्ट मैच देखने आए थे।"

जो रूट ने कहा है, "मुझे फैंस के लिए बुरा लग रहा है, क्योंकि वे विराट कोहली को जिमी एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड या जैक लीच का सामना करते हुए देखने के लिए आए थे और अश्विन को बेन स्टोक्स जैसे हमारे शीर्ष खिलाड़ियों के खिलाफ देखना चाहते थे। लगभग ऐसा महसूस होता है कि उन्हें लूट लिया गया है, उन्होंने मुझे विकेट(5 विकेट) लेने के लिए देखा, जो कि ऐसा नहीं होना चाहिए। तथ्य यह है कि यह दोनों टीमों और खिलाड़ियों के लिए चुनौतीपूर्ण था, हम जो कर सकते हैं, वह सब आपके सामने है। भारत को श्रेय, उन्होंने हमें उस विकेट पर अच्छा प्रदर्शन किया।"

पिच पर टिप्पणी करते हुए, रूट ने कहा कि खिलाड़ियों को यह तय करना नहीं है कि यह उद्देश्य के लिए फिट है या नहीं और यह कुछ ऐसा है जो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आइसीसी) को तय करना है। उन्होंने कहा है, "मुझे लगता है कि यह सतह, यह एक बहुत ही चुनौतीपूर्ण है, जिस पर खेलना बहुत मुश्किल है। यह तय करना खिलाड़ियों के लिए नहीं है कि यह उद्देश्य के लिए फिट है या नहीं? यह आइसीसी के ऊपर है। खिलाड़ियों के रूप में हम जा रहे हैं। कोशिश करो और काउंटर करो जो हमारे सामने सबसे अच्छा है जितना हम कर सकते हैं।"

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.