त्योहारी सीजन में कर रहे हैं क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल, जानिए ये फायदे

benefits of using credit cards during festive season
Publish Date:Tue, 20 Oct 2020 11:00 AM (IST) Author: Nitesh

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। त्योहारी सीज़न में लोग बड़े पैमाने पर खरीदारी करते हैं। जो लोग अपने खुद के संसाधनों से इन खर्चों को पूरा नहीं कर पाते हैं, वे त्यौहारी सीजन के दौरान अपनी इस कमी को पूरा करने के लिए पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड का लाभ उठाते हैं। त्योहारी सीज़न के दौरान क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल को लेकर कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखिये।

क्रेडिट स्कोर में सुधार

क्रेडिट कार्ड के माध्यम से लेन-देन कर्ज लेने के समान है, नियत तारीख तक क्रेडिट कार्ड की बकाया राशि चुकाने से आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। कर्ज के विपरीत, क्रेडिट कार्ड के उपयोग में कोई ब्याज लागत शामिल नहीं होती है जब तक आप अपने बिलों को देय तिथि तक पूरा नहीं करते हैं। आपको केवल क्रेडिट कार्ड बकाया राशि का समय पर भुगतान सुनिश्चित करना होगा और अपनी क्रेडिट सीमा के 30% से अधिक खर्च करने से बचना होगा। 

कई क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल से पैसे बचाएं

त्योहारी सीजन के दौरान कई बैंक क्रेडिट कार्ड लेनदेन पर ज्यादा रिवॉर्ड पॉइंट, छूट, वाउचर, कैश बैक आदि के रूप में कई प्रकार के लाभ देते हैं। आप अपने क्रेडिट कार्ड के ऑफ़र सेक्शन में जाएं और रिटेल आउटलेट या ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म की खोज करनी होगी, जहां इस तरह की छूट और कैश बैक मान्य हों।

इसके अलावा, जैसा कि ज्यादातर क्रेडिट कार्ड रिवॉर्ड पॉइंट के लिए एक्सपायरी डेट के साथ आते हैं, कोशिश करें और अपनी फेस्टिव खरीदारी करते समय अपने बचे हुए रिवॉर्ड पॉइंट्स को रिडीम करें।

ब्याज मुक्त अवधि

ब्याज-मुक्त अवधि आपके क्रेडिट कार्ड लेनदेन की तारीख और संबंधित बिलिंग चक्र की नियत तारीख के बीच की समय अवधि को बताता है। ब्याज मुक्त अवधि के दौरान, क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता लेन-देन पर कोई ब्याज नहीं लेते हैं, बशर्ते कि आपके क्रेडिट कार्ड का बकाया नियत तारीख तक पूरा हो जाए। ब्याज मुक्त अवधि आपके लेनदेन की तारीखों के आधार पर 18 से 55 दिनों के बीच कहीं भी हो सकती है। इस प्रकार, आपके क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता आपके लेन-देन को निशुल्क करते हैं, जिससे आपको ब्याज ब्याज लाभ प्राप्त होता है।

अपने बड़ी खरीदारी को ईएमआई में बदलने का विकल्प

त्योहारी सीजन के दौरान क्रेडिट कार्ड से ज्यादा खर्च हो जाता है, जिसका भुगतान एक बार में नहीं हो पाता। इस स्थिति को मैनेज करने के लिए सबसे अच्छा तरीका यह है कि किसी एक की रीपेमेंट क्षमता के आधार पर अपने क्रेडिट कार्ड के बिल का एक हिस्सा ईएमआई में बदला जाए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.