PPF Vs SSY Vs SCSS Vs KVP: डाकघर की इन बचत योजनाओं में मिलता है बेहतरीन रिटर्न, जानिए खास बातें

SSY Vs SCSS Vs PPF Vs KVP P C : Pixabay

PPF Vs SSY Vs SCSS Vs KVP किसान विकास पत्र में निवेश की गई राशि 124 महीने (10 साल 4 महीने) में दोगुनी हो जाती है। सेबी रजिस्टर्ड निवेश सलाहकार जितेंद्र सोलंकी ने बताया कि किसान विकास पत्र में न्यूनतम 1000 रुपये निवेश किये जा सकते हैं।

Pawan JayaswalSun, 09 May 2021 03:57 PM (IST)

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। स्मॉल सेविंग स्कीम्स सुरक्षित निवेश के लिहाज से काफी बेहतर निवेश विकल्प हैं।स्मॉल सेविंग स्कीम्स की खास बात यह है कि ये सॉवरेन गारंटी के साथ आती हैं। भारत सरकार द्वारा समर्थित बचत योजनाओं में से सबसे अधिक ब्याज दर वाली तीन बचत योजनाएं सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम, पब्लिक प्रोविडेंट फंड और सुकन्या समृद्धि योजना है। किसान विकास पत्र भी बेहतर रिटर्न प्रदान करती है। आइए इनके बारे में भी जानते हैं।

किसान विकास पत्र (KVP)

केवीपी इस समय 6.9 फीसद चक्रवृद्धि सालाना ब्याज दर की पेशकश कर रही है। किसान विकास पत्र में निवेश की गई राशि 124 महीने (10 साल 4 महीने) में दोगुनी हो जाती है। सेबी रजिस्टर्ड निवेश सलाहकार जितेंद्र सोलंकी ने बताया कि किसान विकास पत्र में न्यूनतम 1000 रुपये निवेश किये जा सकते हैं। साथ ही अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है।

इस योजना में 100 के गुणकों में राशि जमा कराई जा सकती है। इस योजना में एकल वयस्क, संयुक्त खाता (3 वयस्क तक), नाबालिग की ओर से एक अभिभावक और मानसिक रूप से दिव्यांग व्यक्ति की ओर से एक अभिभावक खाता खुलवाया सकता है। इस योजना में कितने भी खाते खुलवाए जा सकते हैं।

पीपीएफ (PPF)

भारतीय डाक की वेबसाइट के अनुसार, पब्लिक प्रोविडेंट फंड में न्यूनतम 500 रुपये से खाता खुलवाया जा सकता है। वहीं, अकाउंट में अधिकतम  1.5 लाख रुपये सालाना निवेश किये जा सकते हैं। सेबी रजिस्टर्ड निवेश सलाहकार जितेंद्र सोलंकी के अनुसार, पीपीएफ 15 साल की मैच्योरिटी अवधि के साथ आता है। इसे 5 साल के लिए और आगे बढ़ाया जा सकता है। पीपीएफ पर ब्याज दर सरकार द्वारा हर तीन महीने में तय की जाती है।

पीपीएफ पर इस समय 7.10 फीसद चक्रवृद्धि वार्षिक ब्याज दर की पेशकश की जा रही है। इस योजना में हर साल 31 मार्च को ब्याज का भुगतान होता है। निवेशक पीपीएफ की राशि पर लोन भी ले सकता है। खास बात यह है कि इसमें निवेशकों को कर लाभ भी मिलता है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS)

यह योजना गारंटीड रिटायरमेंट इनकम प्रदान करती है। इस योजना में निवेश के लिए आपको 60 साल की आयु के साथ एक भारतीय नागरिक होना चाहिए। जो लोग स्वैच्छिक या विशेष स्वैच्छिक योजना के तहत सेवानिवृत्त हुए हैं, उनके लिए आयु की आवश्यकता 55 वर्ष है। वहीं, जो लोग रक्षा सेवाओं (नागरिक सुरक्षा कर्मचारियों के अलावा) से सेवानिवृत्त हुए हैं, उनके लिए कुछ शर्तों के साथ निवेश के लिए आयु 50 वर्ष रखी गई है।

इस योजना में न्यूनतम निवेश 1000 रुपये और अधिकतम निवेश 15 लाख रुपये किये जा सकते हैं। इस योजना की अवधि 5 साल की है। इसे 3 साल और बढ़ाया जा सकता है। इस योजना में खाता एकल या ज्वाइंट (पति/पत्नी के साथ) खोला जा सकता है। इस समय इस योजना में ब्याज दर 7.4 फीसद सालाना है।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)

यह योजना बेटियों के लिए है। इस योजना में अभिभावक अपनी 10 साल से छोटी बेटी के नाम पर खाता खुलवा सकते हैं। पोस्ट ऑफिस या किसी बैंक में जाकर यह खाता खुलवाया जा सका है। एक परिवार की अधिकतम दो बेटियों के लिए यह खाता खुलवाया जा सकता है। भारतीय डाक की वेबसाइट के अनुसार, न्यूनतम 250 रुपये की राशि से यह खाता खुलवाया जा सकता है।

एक वित्त वर्ष में न्यूनतम 250 रुपये और अधिकतम 1.50 लाख रुपये निवेश किये जा सकते हैं। टैक्स एंड इंवेस्टमेंट एक्सपर्ट बलवंत जैन के मुताबिक, इस योजना में ब्याज दर हर तिमाही के लिए सरकार द्वारा तय की जाती है। इस अकाउंट में राशि एकमुश्त या किस्तों में जमा करायी जा सकती है। खाता खुलने के अधिकतम 15 साल पूरे होने तक खाते में राशि जमा करायी जा सकती है। वर्तमान में यह योजना 7.6 फीसद चक्रवृद्धि सालाना ब्याज दर की पेशकश कर रही है। हर वित्त वर्ष के आखिर में अकाउंट में ब्याज जमा होगा। इस योजना में मिला ब्याज टैक्स फ्री होता है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.