top menutop menutop menu

Financial Planning की बुनियाद है Emergency Fund, निवेश के ये विकल्प होंगे मददगार

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कोरोना महामारी से मजदूर वर्ग के नागरिक पूरी तरह से वित्तीय अनिश्चितताओं से जूझ रहे हैं। बहुत समय बाद ऐसा हुआ जब जनता को ऐसी वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है। इस वजह से कम से कम चालू वित्त वर्ष के लिए आर्थिक परिदृश्य बहुत उत्साहजनक नहीं है।

करोड़ों मेहनतकश वेतनभोगी वर्ग के व्यक्तियों को नौकरी से निकाल दिया गया है, जबकि अन्य को वेतन में कटौती कर दी गई है। ज्यादातर मामलों में महामारी के कारण लाखों लोगों की आर्थिक स्थिति खराब हो गई है। लोग इस अप्रत्याशित त्रासदी के लिए पहले से तैयार नहीं थे। 

कई लोग ऐसे हैं जो इन अनिश्चित समय के दौरान पैसे की कमी का सामना कर रहे हैं। यदि कोई व्यक्ति धन की कमी का सामना कर रहा है, तो वह पर्सनल लोन के लिए बैंक का रुख कर सकता है, लेकिन अनिश्चितता के इस समय के दौरान कर्ज में डूबे रहने की सोच भी उतनी ही चुनौतीपूर्ण है। हम बता रहे हैं कि ऐसे समय में आपको क्या करना चाहिए।

अपने खर्चों का आकलन करें

इन अनिश्चित समय में अपने खर्चों का आकलन करना बुद्धिमानी है। यह स्पष्ट होना जरूरी है कि आपकी जरूरतें क्या हैं। क्या आप अभी के लिए आवश्यक खर्च से बच सकते हैं? अगर आपका खर्च टालने योग्य नहीं हैं, तो क्या आप इसे कम कर सकते हैं? क्या आपका वित्तीय तनाव अस्थायी है और निकट अवधि में इसमें सुधार की संभावना है? आपको अपनी वित्तीय स्थिति में सुधार होने तक उधार पैसे लेने से बचना चाहिए। 

धन की व्यवस्था कहां से करें?

भविष्य में होने वाले बदलाव के लिए किसी भी इक्विटी से संबंधित निवेश को नुकसान से बचाने के लिए आपको भविष्य में होने वाले परिवर्तनों से बचना चाहिए। फिक्स्ड डिपॉजिट निवेश और गोल्ड सबसे अच्छा है। आप सार्वजनिक भविष्य निधि (PPF) और एफडी के बदले लोन भी ले सकते हैं, क्योंकि ये धन जुटाने का सबसे सस्ता तरीका है।

गोल्ड के बदले कर्ज

गोल्ड लोन की शर्तें अक्सर काफी लचीली होती हैं। सोने की कीमतों में हालिया उछाल के कारण, पहले से मौजूद मात्रा से लोन राशि अब अधिक हो जाएगी। गोल्ड लोन पर ब्याज की लागत आमतौर पर अन्य लोन की तुलना में कम होती है। इसमें चुकौती शर्तों पर बातचीत की जा सकती है।

कर्मचारी भविष्य निधि

एक महीने की बेरोजगारी के बाद ईपीएफ खाते में 75% तक की निकासी कर सकते हैं और दो महीने की बेरोजगारी पूरी होने पर 100% राशि निकाल सकते हैं। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.