Small Finance Banks की FD में निवेश क्या है सुरक्षित? जानिए निवेश करते समय ध्यान रखने वाली बातें

Small Finance Banks की FD में निवेश क्या है सुरक्षित? जानिए निवेश करते समय ध्यान रखने वाली बातें

Small Finance Banks FD आप अगर एफडी में अपनी पूंजी लगा रहे हैं तो एक ही बैंक में अपनी सारी पूंजी नहीं लगाएं। PC Pixabay

Publish Date:Mon, 17 Aug 2020 03:49 PM (IST) Author: Pawan Jayaswal

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) भारत में काफी लोकप्रिय निवेश विकल्प माना जाता है। खासकर सीनियर सिटीजंस के बीच यह काफी लोकप्रिय है। लेकिन पिछले कुछ महीनों से देश के प्रमुख बैंकों द्वारा जमा पर ब्याज दरें घटाने से एफडी का आकर्षण कम हुआ है। हालांकि, स्मॉल फाइनेंस बैंक अभी भी एफडी पर काफी बेहतर ब्याज दरों की पेशकश कर रहे हैं। स्मॉल फाइनेंस बैंक अभी भी एफडी पर 9 फीसद तक ब्याज दे रहे हैं। यह अधिक ब्याज दर निवेशकों को इन बैंकों की तरफ आकर्षित तो करती है, लेकिन निवेशकों के मन में असुरक्षा की भावना भी बनी रहती है। आइए जानते हैं कि स्मॉल फाइनेंस बैंक की एफडी में निवेश करना कितना सुरक्षित है।

यह भी पढ़ें: Aadhaar Card को अपने मोबाइल नंबर के साथ इस तरह करें लिंक, आधार की ऑनलाइन सेवाओं के लिए है बेहद जरूरी

आप अगर एफडी में अपनी पूंजी लगा रहे हैं, तो एक ही बैंक में अपनी सारी पूंजी नहीं लगाएं। निवेशक को अलग-अलग स्मॉल फाइनेंस बैंकों की एफडी स्कीम्स में अपनी पूंजी लगानी चाहिए। वह इसलिए, क्योंकि बैंक में 5 लाख तक की राशि DICGC के डिपॉजिट इंश्योरेंस प्रोग्राम के तहत बीमित होती है। इसलिए एक बैंक में पांच लाख रुपये तक की पूंजी निवेश करना सुरक्षित रहता है।

अब सवाल उठता है कि क्या स्मॉल फाइनेंस बैंकों में पांच लाख से अधिक की जमा सुरक्षित रहती है, तो यहां बता दें कि स्मॉल फाइनेंस बैंकों में पांच लाख से अधिक की राशि उतनी ही सुरक्षित है, जितनी पीएसयू और बडे़ निजी क्षेत्र के बैंकों में सुरक्षित होती है। दरअसल, स्मॉल फाइनेंस बैंक सीधे आरबीआई द्वारा रेगूलेट होते हैं, चुंकि वे पीएसयू और अन्य निजी क्षेत्र के बैंकों की तरह ही केंद्रीय बैंक द्वारा अनुसूचित बैंकों के रूप में वर्गीकृत होते हैं।

यह भी पढ़ें:  PF Account से पैसा निकालना है बेहद आसान, इस प्रक्रिया से घर बैठे ऑनलाइन कर सकते हैं निकासी

यहां निवेशकों को एक बात जाननी और जरूरी है। वह यह कि जब बड़े बैंकों के पास भारी लिक्विडिटी मौजूद होती है, तो वे और अधिक जमा प्राप्त करने में कम  रुचि दिखाते हैं। वहीं, स्मॉल फाइनेंस बैंकों के साथ ऐसा नहीं होता। स्मॉल फाइनेंस बैंक बड़े बैंकों की तुलना में एफडी पर अधिक ब्याज दर की पेशकश करते हैं, क्योंकि वे अधिक से अधिक ग्राहकों को आकर्षित करना चाहते हैं। निवेश का यह नियम है कि अधिक रिटर्न प्राप्त करने के लिए जोखिम भी अधिक ही लेना होता है। इसलिए स्मॉल फाइनेंस बैंकों की एफडी में निवेश करने में कोई बुराई नहीं है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.