top menutop menutop menu

Covid-19 Insurance Policy: बाजार में उपलब्‍ध है स्टैंडर्ड कोविड-19 पॉलिसी, जानिए क्‍या इसे लेना है फायदे का सौदा

नई दिल्‍ली, अमित छाबड़ा। देश में कोविड-19 संक्रमण के शिकार हुए लोगों की रोज़ाना बढ़ती संख्या को देखते हुए भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने सभी जनरल एवं हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों को अनिवार्य रूप से यह कहा है कि वे उपभोक्ताओं के लिए एक स्टैंडर्ड व्यक्तिगत कोविड-19 हेल्थ इंश्योरेंस (Standard Individual Covid-19 Health Insurance) प्लान लेकर आएं। यह हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट सिर्फ कोविड-19 के लिए बनाया गया है, जो सिर्फ इस संक्रमण से जुड़ी लोगों की हेल्थ इंश्योरेंस ज़रूरतों को पूरा करेगा और किसी अन्य बीमारी का इससे कोई लेना-देना नहीं होगा। 

यह प्रोडक्ट किस तरह से काम करेगा

IRDAI द्वारा जारी किये गये दिशानिर्देशों के मुताबिक अगर पॉलिसीधारक व्यक्ति कोविड-19 के लिए पॉजिटिव पाया जाता है, तो इंश्योरेंस कंपनी उसे पूरी सम इंश्योर्ड राशि का भुगतान एकमुश्त लाभ के रूप में करेगी। मान लीजिये कि आप यह स्टैंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट खरीदते हैं जिसकी सम इंश्योर्ड राशि 3 लाख रुपये है। अब अगले एक महीने बाद आप नोवल कोरोना वायरस के लिए पॉज़िटिव पाए जाते हैं, तो ऐसी स्थिति में इंश्योरेंस कंपनी आपको अस्पताल में भर्ती होने पर 3 लाख रुपये का एकमुश्त भुगतान करेगी। 

लेकिन, अगर आपका हॉस्पिटल बिल 3 लाख रुपये से कम होता है, तो बाकी रकम को आप अपनी सुविधा के अनुसार खर्च कर सकते हैं। वहीं, अगर आपका इलाज खर्च 3 लाख रुपए से अधिक आता है, तो अतिरिक्त बिल राशि आपको अपनी जेब से चुकानी पड़ेगी, यानि इंश्योरेंस कंपनी भुगतान नहीं करेगी। इसके अलावा, यह भी ज़रूरी होगा कि आपकी जांच रिपोर्ट की पुष्टि भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा अधिकृत जांच केंद्रों द्वारा की जानी चाहिए। किसी भी अन्य प्राइवेट डाएग्नोस्टिक सेंटर की रिपोर्ट मान्य नहीं होगी। 

ऐड ऑन कवर खरीदने की भी सुविधा

इस पॉलिसी में स्टैंडर्ड कवर के अलावा ग्राहकों को एक ऐड-ऑन कवर खरीदने की भी अनुमति होगी, जिसका नाम है क्वारंटीन कवर। इस कवर में अगर पॉलिसीधारक को नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण के शक में क्वारंटीन किया जाता है, तो इंश्योरेंस कंपनी को आपको एकमुश्त लाभ के रुप में 1.5 लाख रुपए देने होंगे। वहीं, आगे अगर यह पॉलिसीधारक कोरोना वायरस पॉज़िटिव पाया जाता है, तो शेष 50 प्रतिशत राशि का भुगतान भी एकमुश्त किया जाएगा। हालांकि, यह जान लें कि बेस कवर और ऐड-ऑन कवर को लेकर भुगतान की जाने वाली कुल राशि किसी भी परिस्थिति में सम इंश्योर्ड का 100 प्रतिशत से अधिक नहीं होगी। 

कोविड-19 स्टैंडर्ड इंडिविजुअल बेनिफिट बेस्ड हेल्थ पॉलिसी में क्या मिलेगा

इस पॉलिसी का नाम होगा कोविड-19 स्टैंडर्ड इंडिविजुअल बेनिफिट बेस्ड हेल्थ पॉलिसी और इसके आगे इंश्योरेंस कंपनी का नाम जुड़ा होगा। यह एक स्टैंडर्ड व्यक्तिगत लाभ-आधारित इंश्योरेंस पॉलिसी होगी, जो कोई भी व्यक्ति स्वयं और अपने परिवार के लिए न्यूनतम 50,000 रुपए के सम इंश्योर्ड के साथ खरीद सकता है। इस पॉलिसी के सम इंश्योर्ड राशि 50,000 के गुणांकों में ली जा सकती है और अधिकतम राशि रु. 5 लाख तक होगी। स्टैंडर्ड कोविड-19 प्रोडक्ट (बेनिफिट बेस्ड) पॉलिसी की अवधि एक वर्ष के लिए होगी और इसे हर वर्ष रिन्यु कराया जा सकता है। 

यह प्लान ग्राहकों के लिए फैमिली फ्लोटर बेसिस पर उपलब्ध होगा, जिसके लिए न्यूनतम प्रवेश आयु 18 वर्ष और अधिकतम 65 वर्ष की होगी। यह प्लान आसानी से एक इंश्योरेंस कंपनी से दूसरी इंश्योरेंस कंपनी के बीच पोर्ट किया जा सकता है। ग्राहकों की सुविधा के लिए इस स्टैंडर्ड कोविड-19 प्रोडक्ट के प्रीमियम भुगतान के लिए सभी विकल्प मिलेंगे, जैसे कि वार्षिक, अर्ध-वार्षिक, त्रैमासिक और मासिक। साथ ही सभी विकल्पों के लिए ईसीएस मोड का विकल्प भी लिया जा सकता है। 

इसके अलावा, पॉलिसी प्रॉमियम के लिए जो लोग वार्षिक भुगतान का विकल्प चुनते हैं, उन्हें भुगतान के लिए 30 दिनों की अतिरिक्त छूट अवधि यानि ग्रेस पीरियड मिलेगा, जबकि अन्य सभी भुगतान विकल्पों के लिए 15 दिनों की निश्चित अवधि दी जाएगी। ग्राहकों के पास पॉलिसी खरीदने के बाद 15 दिनों का वक्त होगा, जिसमें वो पॉलिसी नियम एवं शर्तों को समझ सकें और अगर किसी कारणवश पॉलिसी नहीं चाहिए तो उसे रद्द कर सकेंगे। कोविड-19 स्टैंडर्ड इंडिविजुअल बेनिफिट बेस्ड हेल्थ पॉलिसी में 15 दिनों की प्रतीक्षा अवधि भी होगी। 

प्रोडक्ट की कीमत

सभी इंश्योरेंस कंपनियों के बीच एक स्टैंडर्ड प्रोडक्ट होने के नाते, हर कंपनी अपने निजी अंडरराइटिंग नियम एवं शर्तों के मुताबिक इस प्लान की कीमत तय कर सकती हैं। इसका मतलब यह हुआ कि हर इंश्योरेंस कंपनी के पास इस पॉलिसी की कीमत अलग-अलग होगी। पॉलिसी का प्रीमियम तय करने की एक प्रमुख पहलू इसके क्लेम रेश्यो होंगे क्योंकि हर इंश्योरेंस कंपनी की टीम के अलग-अलग विश्लेषण होंगे और इसलिए प्रीमियम दरें भी हर इंश्योरेंस कंपनी के पास अलग होंगी। प्रीमियम में भिन्नता होने के कारण कंपनियों द्वारा दी जाने वाली सर्विस भी अलग-अलग हो सकती है। 

स्टैंडर्ड कोविड-19 हेल्थ इंश्योरेंस कवर की ज़रूरत

यह देखा गया है कि कोविड-19 का इलाज करने वाले अधिकतर प्राइवेट हॉस्पिटल काफी अधिक फीस ले रहे हैं और कुल इलाज खर्च 3-5 रुपये लाख के बीच आता है। वहीं, सरकारी अस्पतालों के पास कोविड-19 पॉज़िटिव मरीज़ों को संभालने के लिए ना तो पर्याप्त क्षमता है ना ही सुविधाएं। ऐसे में एक आम आदमी को प्राइवेट अस्पतालों का खर्च चुकाना काफी मुश्किल हो सकता है। वहीं, अगर आप एक सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में चले गए तो फिर खर्च का पूछिये ही मत! एक सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में एक दिन के बेड का औसत खर्च रु. 10000 से 20000 तक आता है, और पीपीई व मेडिकल स्टाफ के साथ एक दिन के बेड का खर्च रु. 30,000 होगा। इन खर्चों के अनुसार 15 दिनों का खर्च लगभग  3.5 लाख से 5 लाख रुपये तक आएगा, जो कि अस्पताल के स्तर और शहर पर निर्भर करेगा। 

मौजूदा परिस्थितियों को मद्देनजर रखते हुए और हर आदमी के लिए गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए IRDAI ने पहल करते हुए इंश्योरेंस कंपनियों को एक स्टैंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट लाने के लिए कहा, जो कोविड-19 के लिए उपयुक्त इलाज प्रदान कर सके। इसलिए यह प्रोडक्ट कोविड-19 के इलाज हेतु उचित समाधान तलाशने वाले लोगों के लिए बनाया गया है। इस प्रोडक्ट के साथ लोग अपने हेल्थ इंश्योरेंस के जरिये एक सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भी अच्छा इलाज करा सकेंगे। 

स्टैंडर्ड कोविड-19 हेल्थ इंश्योरेंस किसे खरीदना चाहिए

अगर आपके पास एक व्यापक हेल्थ इंश्योरेंस प्लान पहले से है, तो चिंता ना करें क्योंकि आपकी पॉलिसी कोविड-19 और इससे जुड़ी समस्याओं को कवर करेगी। लेकिन अगर आपके पास एक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी नहीं है और मौजूदा कोई भी हेल्थ पॉलिसी आप नहीं खरीद सकते हैं, तो आपको स्टैंडर्ड कोविड-19 प्लान खरीदना चाहिए क्योंकि यह आपको कोरोना वायरस के लिए व्यापक कवरेज प्रदान करेगा। लेकिन यह ज़रूर याद रखें कि यह प्लान आपको सिर्फ कोविड-19 के लिए कवर करेगा और आपके ऊपर कैंसर, डायबिटीज़, दिल की बीमारियों आदि का खतरा बरकरार रहेगा। 

इन बातों का रखें ख्‍याल

आमतौर पर कोई भी महामारी कई दशकों में एक बार आती है। इसलिए सिर्फ महामारी से सुरक्षित रहने के साथ ही अन्य बीमारियों के प्रति भी सतर्क रहें क्योंकि यह कभी भी सामने आ सकती है। किसी बीमारी पर केंद्रित हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी आपकी सिर्फ उसी बीमारी के लिए कवरेज देगी, जबकि एक व्यापक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी आपको सभी संभावित बीमारियों के लिए सुरक्षा देती है। अगर कोविड-19 महामारी की बात करें, तो यह हमारे बीच एक सीमित अवधि के लिए रहेगी और इसके लिए बनाया गया स्टैंडर्ड हेल्थ प्लान बाद में आपके किसी काम का नहीं रहेगा। ऐसे में अगर आप एक व्यापक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में निवेश करते हैं, तो यह आपका जीवनभर साथ देगा। एक व्यापक प्लान कोविड-19 के लिए सुरक्षा देने के साथ ही सभी अन्य बीमारियों को भी कवर करेगा। 

इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स जीवन का जोखिम कम करने के लिए होते हैं और कोविड-19 उस जोखिम का एक बेहद छोटा सा हिस्सा है। जिन लोगों के पास इंश्योरेंस नहीं है, उनके लिए हेल्थ इंश्योरेंस खरीदने का यह सही समय है। इसलिए याद रखें कि अगर आप स्टैंडर्ड कोविड-19 हेल्थ पॉलिसी खरीदने जा रहे हैं, तो यह आपको सिर्फ नोवल कोरोना वायरस के लिए सुरक्षा देगा और अन्य बीमारियां कवर नहीं करेगा। स्टैंडर्ड कोविड-19 हेल्थ इंश्योरेंस प्लान आपकी सामान्य हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के साथ रह सकता है क्योंकि यह आपकी आमदनी के नुकसान को भी कवर करता है। यह प्लान एक व्यापक हेल्थ इंश्योरेंस प्लान के साथ अतिरिक्त भी खरीदा जा सकता है। 

(लेखक पॉलिसीबाजार डॉट कॉम में हेल्‍थ इंश्‍योरेंस के हेड हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.