Share Market Tips: क्या रहेगी बाजार की चाल और कौन-से शेयर दे सकते हैं मुनाफा? एक्सपर्ट से जानिए

शेयर बाजार के लिए प्रतीकात्मक तस्वीर P C : Pexels

Share Market Tips RBI को निजी बैंक में सभी प्रमोटरों की सीमा बदलनी होगी और ऐसा होने पर सभी प्राइवेट बैंक दोगुने हो जाएंगे... बैंक निफ्टी 60000 से 70000 के पार हो जाएगा। इसलिए भले ही सरकारी बैंकों में तेजी हो निजी बैकों में 100 फीसद उछाल होगी।

Pawan JayaswalSat, 27 Feb 2021 05:56 PM (IST)

नई दिल्ली, किशोर ओस्तवाल। इस सप्ताह बाजार में फिर से बजट वाली कहानी दोहराई गई। बजट से पहले निफ्टी में 1170 अंक की गिरावट थी, जो बजट के बाद सिर्फ 28 घंटों में रिकवर हो गई थी। इस सप्ताह बुधवार को सुबह 11 बजकर 40 मिनट पर हमने एनएसई पर एक तकनीकी खामी देखी, जिसने एक्सचेंज को बंद कर दिया। यद्यपि एक्सचेंज पर ट्रेडिंग रुकने का प्राथमिक कारण तकनीकी खामी थी और वित्त मंत्रालय ने भी इसी पर रिपोर्ट मांगी है, लेकिन हमने कुछ ऐसा देखा, जो काफी दिलचस्प था।

वर्तमान में नियमों के अनुसार, किसी भी एक्सचेंज में आपके इंट्राडे सौदों को स्वैप करने की अनुमति है। उदाहरण के लिए, यदि आप एनएसई में टाटा स्टील में लॉन्ग हैं, तो आप इसे एनएसई और बीएसई कहीं पर भी बेच सकते हैं। जब एनएसई 11:40 AM पर बंद हुआ, तो पूरी तरह अस्तव्यस्तता देखी गई, क्योंकि कोई सूचना नहीं आ रही थी, सिवाय इसके कि प्रयास किये जा रहे हैं और जल्द से जल्द ट्रेडिंग फिर से शुरू हो जाएगी। लेकिन 1:30 से 2 बजे तक भी ट्रेडिंग शुरू होने के बारे में कोई सूचना नहीं थी। कई बीएसई ब्रोकर्स ने डर के चलते हड़बड़ी मचाना शुरु कर दिया और हो सकता है कि उन्होंने ट्रेडर्स के सौदों को ऑटो स्वॉयर ऑफ करना शुरू कर दिया हो।

इसका परिणाम यह हुआ कि आईओसी, टाटा कंज्यूमर, टाटा स्टील आदि में लॉअर सर्किट लग गया। एसबीआई 420 तक गया, टीसीएस 2701 के निम्न स्तर तक गया, वेस्टलाइफ 522 से 389 पर आ गया और इंडिगो में अपर सर्किट लगा। ऐसे कई शेयर हो सकते हैं। हमने यहां वे बताए हैं, जिन्हें हमने नोटिस किया।

अब इस पर विचार कीजिए। निफ्टी 5 दिनों में 15350 के स्तर से गिरकर 14650 के निम्न स्तर पर आ चुका था और जब यह करीब 30 से 40 मिनट के लिए एक रुक गया था, तब 14820 अंक के करीब ट्रेड कर रहा था और उसके बाद 11:40 AM पर पूरा एक्सचेंज बंद हो गया था। 3:30 PM तक बीएसई में कंपलसरी स्क्वॉयरिंग ऑफ के बाद 15 मिनट से भी कम के एक काफी छोटी अवधि के नोटिस पर घोषणा हुई कि निफ्टी 3:30 PM पर प्री मार्केट के लिए खुलेगा और 3:45 PM पर सामन्य ट्रेडिंग के लिए खुलेगा।

खेल नॉर्मल ट्रेडिंग के खुलने के बाद शुरू हुआ। बीएसई पर 3:30 PM से पहले ही स्क्वॉयर ऑफ्स हो चुके थे। निफ्टी ने 14820 के स्तर से 704 अंक की ऐतिहासिक तेजी के साथ 15,524 अंक का उच्च स्तर बनाया। इसने ही बजट की कहानी को दोबारा दोहराया।  

यह सब एक्सपायरी के एक दिन पहले हुआ। क्या संयोग है....? उस 75 मिनट की ट्रेडिंग में भरपूर मारामारी दिखी और बाजार ने भारी उछाल प्राप्त की।

एनएसई और बीएसई असहाय थे और जांच में भी कुछ नहीं आएगा, लेकिन यह कुछ मजबूत हाथों द्वारा किया गया पूर्व नियोजित कार्य था, जिन्होंने उस 75 मिनट का भरपूर फायदा उठाया, जो हमें चक दे इंडिया के उस 70 मिनट की याद दिलाता है।

भारतीय प्रधानमंत्री विनिवेश पर बोले हैं और उन्होंने कहा कि 2.5 लाख करोड़ रुपये जुटाने के लिए 100 नई कंपनियां विनिवेश लिस्ट में होंगी। इसने पीएसयू शेयरों में उछाल को और बढ़ा दिया है। हम यह लंबे समय से बता रहे हैं कि पीएसयू भारत की थीम होगी।

हमारा मानना है कि हेज फंड इस वर्ष 2017 के बाद से अपने पहले वार्षिक शुद्ध इनफ्लो का गवाह बनेगा। पिछले 12 महीनों की शुद्ध निकासी के बाद वैश्विक स्तर पर उद्योग निवेशकों से 30 बिलियन डॉलर तक का निवेश आकर्षित करने के लिए तैयार है। सबसे लोकप्रिय रणनीति सेक्टर-स्पेसिफिक इक्विटी मैनेजर्स, मार्केट-न्यूट्रल स्टॉक-पिकर्स और विवेकाधीन मैक्रो फंड हैं। सामान्य इक्विटी फंड कम से कम पक्ष में हैं। 

अब हम मानते हैं कि  निजी बैंक पीएसयू बैंकों की तुलना में अधिक तेजी से बढ़ेंगे। बहुत सारा पैसा प्राइवेट बैंकों से पीएसयू बैंकों में आया है। क्यों? जब हम जानते हैं कि आप बेहतर मूल्य प्राप्त कर सकते हैं, तो BOB ने 81 रुपये पर क्यूआईपी क्यों किया ..?

सरकार ने 4 सरकारी बैंकों को बेचने की घोषणा की। क्या यह संसदीय एनओडी लिए बिना संभव है? RBI अधिनियम के अनुसार, प्रमोटर्स निजी बैंकों में 15 फीसद से अधिक हिस्सेदारी नहीं रख सकते हैं? इसका मतलब है कि सरकार को पहले प्राइवेट बैंकों में प्रमोटर होल्डिंग को 15 फीसद की बजाय 51 फीसद करना होगा ... अन्यथा वे 4 पीएसबी कैसे बेचेंगे?  

इसलिए तार्किक रूप से RBI को निजी बैंक में सभी प्रमोटरों की सीमा बदलनी होगी और ऐसा होने पर सभी प्राइवेट बैंक दोगुने हो जाएंगे... बैंक निफ्टी 60000 से 70000 के पार हो जाएगा। इसलिए भले ही सरकारी बैंकों में तेजी हो, निजी बैकों में 100 फीसद उछाल होगी। सरकार ने निजी बैंकों को पीएसयू बैंकों की तरह ही सरकार के साथ कारोबार करने की अनुमति भी दे दी है।  पीएसयू के निजीकरण की प्रक्रिया में कुछ समय लगेगा और BPCL का सबसे पहले होगा।

बॉन्ड बाजार को खोलने की दूसरी महत्वपूर्ण सुधार प्रक्रिया शुरू हुई है। नरेंद्र मोदी भारत को मॉर्गन बॉन्ड ग्लोबल इंडेक्स में शामिल करने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं और अगर ऐसा होता है, तो डेट मार्केट में 25 से 30 बिलियन डॉलर का इनफ्लो आएगा और यह बॉन्ड बाजार में व्यापक सुधारों के बिना यह संभव नहीं है। यह भी बड़े प्राइवेट बैंकों की मदद करेगा और उनकी लाभप्रदता बड़े पैमाने पर बढ़ेगी, क्योंकि वैश्विक स्तर पर बैंकों की प्रमुख आय बॉन्ड मार्केट से आती है।

QE के बारे में बात करें, हमने 90 बिलियन डॉलर के अनुमान में से 40 बिलियन डॉलर का इनफ्लो देखा है, इसलिए 50 बिलियन डॉलर का इनफ्लो और आएगा।

भारती एयरटेल को लेकर कई बातें हैं, लेकिन मेरा मन तीन कारणों से भारती की खरीदारी को लेकर स्पष्ट है। 5जी, फंड राइजिंग और बढ़ता हुआ एआरपीयू। टाटा मोटर्स की शुक्रवार को जेएलआर एनालिस्ट मीट थी, जिसे हमारी राय में सकारात्मक होना चाहिए। TATA COFFEE जैसे शेयर गिरते बाजार में भी चमके हैं। MMTC Himadri जैसे कई B gr स्टॉक प्रदर्शन करने लगे हैं। यह वह क्षेत्र है, जहां एक्शन हो सकता है।

डाउ के गिरने के बाद शुक्रवार को बाजार कमजोर खुला और बॉन्ड बाजार में खूब तबाही हुई। लेकिन हमारे अनुसार यह फर्स्ट डे- फर्स्ट शो था और वहां बाजार में कोई दर्द नहीं था। वहां कोई कॉल राइटिंग भी नहीं थी, जो स्पष्ट रूप से सुझाव देता है कि वहां डर अधिक था और बाजार में भारी उछाल आएगा। हमें मार्च में 15700 के लक्ष्य के लिए 14200 के स्टॉप लॉस के साथ (सबसे बुरी परिस्थिति में) आगे जाना चाहिए।

लेखक सीएनआई रिसर्च (cniresearchltd) के सीएमडी हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.