5 स्मार्ट टिप्स जो रखेंगे आपके डेटा को सुरक्षित और नहीं होगा कोई बड़ा नुकसान

आपके इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और खातों में कुछ सरल परिवर्तन आपके डेटा में अधिक सुरक्षा और गोपनीयता ला सकते हैं जिन्हें आप बाहरी पक्षों से सुरक्षित और सहेजना चाहते हैं। महामारी के दौरान ऑनलाइन लेनदेन सभी सीमाओं को पार कर एक अन्य स्तर पर पहुंच गया है।

Ashish DeepFri, 29 Oct 2021 01:15 PM (IST)
डेटा संवेदनशील जानकारी से बना होता है। (Pti)

नई दिल्‍ली, निरंजन उपाध्ये। आपके इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और खातों में कुछ सरल परिवर्तन आपके डेटा में अधिक सुरक्षा और गोपनीयता ला सकते हैं, जिन्हें आप बाहरी पक्षों से सुरक्षित और सहेजना चाहते हैं। महामारी के दौरान ऑनलाइन लेनदेन सभी सीमाओं को पार कर एक अन्य स्तर पर पहुंच गया है। हम विभिन्न डिजिटल चैनलों के साथ बातचीत करते हैं और अक्सर ये बातचीत डेटा के आदान-प्रदान के माध्यम से होती है। चाहे वह डेटा का आदान-प्रदान हो या चाहे वह मेटाडेटा हो या बातचीत के बारे में डेटा, दोनों प्रकार के डेटा अत्यंत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि उनमें संवेदनशील जानकारी होती है। और इसकी सुरक्षा बनाए रखना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। आदान-प्रदान किए जा रहे डेटा में अक्सर उपयोगकर्ता के बारे में संवेदनशील जानकारी होती है, जबकि मेटाडेटा यदि मात्रा में लीक हो जाता है तो व्यक्तित्व प्रोफाइल तैयार करने के लिए उपयोग किया जा सकता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम इस बात पर ध्यान दें कि वास्तव में हमारे डेटा को किस हद तक और कौन एक्सेस कर सकता है और यदि एक्सेस किया जाता है तो इसका उपयोग कैसे किया जा रहा है।

डेटा प्राइवसी क्यों महत्वपूर्ण है?

डेटा संवेदनशील जानकारी से बना होता है जिसका दुरुपयोग या दुर्भावनापूर्ण साधनों के लिए हेरफेर किया जा सकता है। यदि हम अपने डेटा प्राइवसी के रखरखाव पर ध्यान नहीं देते हैं और डेटा के सुरक्षा स्तर पर पूरी तरह से ध्यान नहीं रखते हैं तो यह चोरी और दुरुपयोग हो सकता है।

डेटा प्राइवसी उपभोक्ताओं को कैसे प्रभावित करती है?

डेटा प्राइवसी हमारे जीवन के लगभग हर पहलू को निर्धारित करती है। स्मार्टफोन के जमाने में हर टैप रिकॉर्ड होता है। ऐसे वातावरण में यह महत्वपूर्ण है कि हम यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएं कि किसी भी प्रकार के डेटा तक पहुंच केवल सत्यापित और विश्वसनीय स्रोतों को दी जाए अन्यथा डेटा की हानि के परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण वास्तविक वित्तीय नुकसान हो सकता है, लेकिन अमूर्त परिणाम अधिक बुरा हो सकता है।

कॉम्प्रोमाइज़्ड डेटा का क्या होता है?

डिजिटल सुरक्षा उल्लंघन के मामले में ऐसी कुछ चीजें हो सकती हैं:

रैनसम वेयर: स्थानीय रूप से संग्रहीत आपका डेटा एन्क्रिप्टेड होता है और मांग के लिए फिरौती पर रखा जाता है, जो आमतौर पर प्रकृति में वित्तीय होता है। रैंसमवेयर के बढ़ते मामले अब दुनिया भर में अरबों डॉलर से अधिक के नुकसान में योगदान दे रहे हैं।

डेटा का भ्रष्टाचार: डिवाइस को बेकार कर सकता है, जिससे वित्तीय नुकसान हो सकता है।

धोखाधड़ी: संवेदनशील जानकारी के खोने से तुरंत या बाद में वित्तीय धोखाधड़ी हो सकती है। आजकल धोखेबाज चतुर चाल के साथ आ रहे हैं और इसके प्रभावों के प्रति सतर्क और जागरूक होना नितांत आवश्यक है।

डेटा की चोरी: इससे अधिक जटिल प्रकार की धोखाधड़ी हो सकती है जैसे पहचान की चोरी, खाता अधिग्रहण, आपके नाम पर क्रेडिट सुविधाएं खोलना और धोखेबाजों द्वारा इसका शोषण करना, आदि।

जब ऐसे दुर्भावनापूर्ण तत्व मौजूद हों तो यह जरूरी है कि हम अपनी सुरक्षा के लिए कदम उठाएं और पर्याप्त सावधानी बरतें, क्योंकि अगर यह सबसे खराब स्थिति में आता है तो हो सकता है कि होने वाले नुकसान का कोई उपाय न हो। एक विस्तृत घोटाले के मामले में सतर्क और जागरूक रहना भी पर्याप्त नहीं हो सकता है और अक्सर इस प्रकार के घोटालों गंभीर रूप से दुर्भावनापूर्ण इरादे से संचालित होते हैं।

डेटा की सुरक्षा के पांच स्मार्ट तरीके

मजबूत पासवर्ड: मजबूत पासवर्ड सेट करना एक महत्वपूर्ण तरीका है और अक्सर अधिकांश काम करता है। पासवर्ड सेट करते समय कॅरैक्टर्स, केसेस और नम्बर्स के मिश्रण के लिए विशेष प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। पर्सनल पैटर्न या असोशिएशन्स का उपयोग यह सुनिश्चित करने के लिए किया जा सकता है कि पासवर्ड आसानी से याद किए जा सकते हैं। हालांकि ये पैटर्न गहराई से व्यक्तिगत होना चाहिए ताकि अनुमान लगाना या क्रैक करना बेहद मुश्किल हो। पासवर्ड मैनेजरों का सुझाव नहीं दिया जाता है क्योंकि अपने सभी अंडों को एक ही टोकरी में रखना उचित नहीं है।

सुरक्षित उपकरण: यह सुनिश्चित करना अनिवार्य है कि आपके डेटा को संग्रहीत करने वाला उपकरण सुरक्षित है, यहाँ तक की वह नेटवर्क भी जो डिवाइस एक्सेस करता है। एंटी-वायरस प्रोटेक्शन के साथ-साथ इंस्टॉल किए गए फायरवॉल के पैच के बारे में अपडेट रहने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए।

सुरक्षित नेटवर्क: ट्रांज़िट में रहनेवाला डेटा बेहद कमजोर हो सकता है। जब डेटा रेस्ट की स्थिति में होता है, तो डेटा की सुरक्षा के लिए कई एहतियाती उपाय किए जा सकते हैं, लेकिन जब डेटा ट्रांज़िट में हो तो वह नहीं कहा जा सकता है। ट्रांज़िट में रहनेवाले डेटा की सुरक्षा करना जटिल है, इसलिए यह सुझाव दिया जाता है कि डेटा को केवल सुरक्षित और विश्वसनीय नेटवर्क के माध्यम से ही प्रसारित किया जाए, वह भी ड्युअल एन्क्रिप्शन में।

प्राइवेसी सेटिंग्स: सुनिश्चित करें कि प्राइवसी सेटिंग्स को इस तरह अनुकूलित किया गया हो कि डेटा का एक्सेस एक मान्य आवश्यकता के आधार पर प्रदान की गई हो चाहे वह प्रोग्रॅम हो या लोग। जैसे संवेदनशील जानकारी को अजनबियों से सुरक्षित किया जाना चाहिए, अज्ञात प्रोग्रॅम को डेटा का एक्सेस प्रदान नहीं किया जाना चाहिए।

बैक-अप: सुनिश्चित करें कि डेटा का नियमित रूप से बैकअप लिया गया है, यह सुझाव दिया जाता है कि बैकअप क्लाउड पर एक लोकेशन पर और अधिकतम सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक सुरक्षित भौतिक सुविधा यह दोनों पर स्थित हो। जैसा कि आम कहावत है, "अपने बैक अप का बैक अप लेना कॉमन सेन्स है"।

ये तरीके सुरक्षा स्तरों को बढ़ाकर आपके डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं और इस प्रकार उल्लंघन की संभावना को कम कर सकते हैं। हालांकि, अंततः, यह आपकी सतर्कता और जागरूकता ही है जो वास्तव में आपके डेटा को उल्लंघन के खतरे से बचा सकती है। स्कैमर्स और धोखेबाज संवेदनशील जानकारी तक पहुंच प्राप्त करने के लिए रचनात्मक तरीके अपनाते रहते हैं और केवल ऐसे प्रयासों के प्रति सतर्क और जागरूक रहकर ही डेटा प्राइवसी को सही मायने में बनाए रखा जा सकता है। इसलिए अपने डेटा को सुरक्षित रखने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप हमेशा दोबारा जांच लें कि कोई क्वेरी, या अनुरोध या आपके डेटा तक पहुंच प्राप्त करने का कोई अन्य प्रयास वैध स्रोत से उत्पन्न हो रहा है या नहीं और यदि ऐसा नहीं है तो यह भलाई के लिए होगा कि अगर ऐसे सभी दुर्भावनापूर्ण प्रयासों को डेटा प्राइवेसी की सुरक्षा की निगरानी के लिए जिम्मेदार आईटी प्रशासकों और नियामक अधिकारियों के ध्यान में लाया जाए।

(लेखक फ्रॉड रिस्क मैनेजमेंट डिवीजन, वर्ल्डलाइन इंडिया में जनरल मैनेजर हैं। छपे विचार उनके निजी हैं।)

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.