तीन करोड़ टन से अधिक हो चुकी गेहूं खरीद, मंडियों में कोरोना प्रोटोकॉल का रखा जा रहा पूरा ख्याल

पंजाब में अब तक 1.20 करोड़ टन गेहूं की खरीद हो चुकी है।

कोरोना संक्रमण से ग्रामीण क्षेत्रों के बुरी तरह प्रभावित होने के बावजूद चालू रबी मार्केटिंग सीजन में गेहूं खरीद की रफ्तार डेढ़ गुना से ज्यादा हो गई है। अब तक कुल तीन करोड़ टन से अधिक गेहूं की सरकारी खरीद हो चुकी है।

Ankit KumarThu, 06 May 2021 08:06 PM (IST)

नई दिल्ली, सुरेंद्र प्रसाद सिंह। कोरोना संक्रमण से ग्रामीण क्षेत्रों के बुरी तरह प्रभावित होने के बावजूद चालू रबी मार्केटिंग सीजन में गेहूं खरीद की रफ्तार डेढ़ गुना से ज्यादा हो गई है। अब तक कुल तीन करोड़ टन से अधिक गेहूं की सरकारी खरीद हो चुकी है। ज्यादातर राज्यों में अब तक हुई खरीद पिछले वर्ष की इसी अवधि के मुकाबले दोगुना तक हो गई है। हालांकि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए हरियाणा की मंडियों में खरीद को नौ मई तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। कम समय में सर्वाधिक खरीद करने वाला पंजाब अपनी कुल खरीद लक्ष्य के नजदीक पहुंच चुका है। चालू खरीद सीजन 31 मई तक होगी।

चालू सीजन में गेहूं की खरीद के शुरू होने के साथ ही पूरा देश कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की चपेट में आ गया था। लेकिन ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ रबी सीजन की प्रमुख फसल गेहूं की खरीद का बंदोबस्त बहुत पहले से ही किया जा रहा था। गेहूं उत्पादक राज्यों में सरकारी खरीद के लिए मंडियों में हर संभव पुख्ता इंतजाम कोरोना प्रोटोकॉल के तहत किया गया। गेहूं खरीद का पहला चरण गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान में शुरू हुआ था।

पंजाब में 10 अप्रैल से खरीद चालू हुई थी और वहां अब तक 1.20 करोड़ टन गेहूं की खरीद हो चुकी है। यह पिछले साल की अपनी कुल खरीद 1.28 करोड़ टन के करीब पहुंच के करीब पहुंच चुकी है। कोरोना से बचाव के मद्देनजर राज्य में 1,901 मंडियों की जगह 4,000 से अधिक खरीद केंद्र खोल दिए गए हैं। किसानों को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। राज्य की 150 बड़ी मंडियों में गेहूं बेचने आने वाले किसानों और साथ आने वाले परिवार के लोगों का भी टीकाकरण किया जा रहा है।

हरियाणा की मंडियों में अब तक 80 लाख टन से अधिक गेहूं की खरीद हो चुकी है, जबकि पिछले साल इसी अवधि तक केवल 44 लाख टन गेहूं की खरीद हुई थी। मध्य प्रदेश में खरीद 81 लाख टन ही हो गई है। पिछले साल यहां की मंडियों में अब तक लगभग 40 लाख गेहूं की ही खरीद हो सकी थी। उत्तर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण से हालत बहुत खराब होने के बावजूद खरीद चालू है। यहां भी पिछले साल के मुकाबले दोगुना खरीद हो चुकी है। पिछले साल यहां अब तक केवल आठ लाख टन गेहूं की खरीद हो सकी थी, जबकि चालू सीजन में अब तक 15 लाख टन गेहूं की सरकारी खरीद हो चुकी है। यहां की मंडियों में सीमित संख्या में ही किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए आमंत्रित किया जाता है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.