शेयर बाजार को करना पड़ सकता है उतार-चढ़ाव का सामना

इस सप्ताह टेक महिंद्रा अंबुजा सीमेंट एक्सिस बैंक कोटक महिंद्रा बैंक बजाज आटो आइटीसी मारुति सुजुकी डीएलएफ इंडिगो और टाटा पावर के नतीजे आने हैं। सैमको सिक्योरिटीज के इक्विटी रिसर्च हेड यश शाह ने कहा कि इस सप्ताह बाजार के एक दायरे में कारोबार करने की संभावना है।

NiteshSun, 24 Oct 2021 06:10 PM (IST)
Stock market may have to face ups and downs says expert

नई दिल्ली, पीटीआइ। विश्लेषकों के मुताबिक इस सप्ताह भी शेयर बाजार की नजर कंपनियों के तिमाही नतीजों पर रहेगी। हालांकि डेरिवेटिव की एक्सपायरी के चलते बाजार को उतार-चढ़ाव का भी सामना करना पड़ सकता है। स्वास्तिका इन्वेस्टमेंट के रिसर्च हेड संतोष मीणा ने कहा कि बाजार सोमवार को रिलायंस इंडस्ट्रीज और आइसीआइसीआइ बैंक के नतीजों पर अपनी प्रतिक्रिया देगा।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhaar का कहां-कहां हुआ है इस्तेमाल, घर बैठे ऐसे लगाएं पता

इस सप्ताह टेक महिंद्रा, अंबुजा सीमेंट, एक्सिस बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, बजाज आटो, आइटीसी, मारुति सुजुकी, डीएलएफ, इंडिगो और टाटा पावर के नतीजे आने हैं। सैमको सिक्योरिटीज के इक्विटी रिसर्च हेड यश शाह ने कहा कि इस सप्ताह बाजार के एक दायरे में कारोबार करने की संभावना है। बता दें कि रिलांयस इंडस्ट्रीज के शुद्ध लाभ में जहां 43 प्रतिशत की वृद्धि हुई है वहीं आइसीआइसीआइ बैंक ने शनिवार को घोषित नतीजों में 5,511 करोड़ रुपये का लाभ होने की बात कही है।

यह भी पढ़ें: Mobile App के जरिये लोन लेने से फर्जीवाड़े की आशंका ज्यादा, इन बातों का रखें ख्याल

निवेशकों का भरोसा घटा, एफपीआइ ने निकाले 3,825 करोड़

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआइ) ने अक्टूबर में भारतीय बाजारों से 3,825 करोड़ रुपये की निकासी की है।

हालांकि अगस्त और सितंबर महीने में एफपीआइ ने ऋण और बांड बाजार में जबरदस्त निवेश किया था। उन्होंने सितंबर में बांड बाजार में 13,363 करोड़ रुपये और अगस्त में 14,376.2 करोड़ रुपए डाले थे। अक्टूबर में एफपीआइ ने अभी तक बांड बाजार से 1,494 करोड़ रुपये निकाले हैं।

जबकि शेयरों से 2,331 करोड़ रुपये की निकासी की है। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने बताया कि अक्टूबर के पहले पखवाड़े में एफपीआइ ने सूचना-प्रौद्योगिकी कंपनियों के 5,406 करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं। यह हालत तब है जब इन कंपनियों के दूसरी तिमाही के नतीजे से उम्मीद के मुताबिक रहे हैं। ऐसे में यह निश्चित रूप से मुनाफावसूली का मामला है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.