Sensex-Nifty की रैली खत्‍म, लेकिन एक्‍सपर्ट बोले- इस करेक्‍शन से न घबराएं निवेशक

मिश्रित वैश्विक संकेतों के साथ मुनाफावसूली ने मंगलवार को शेयर बाजार की रैली खत्‍म कर दी। Sensex 410 अंक गिरकर 60 हजार के नीचे बंद हुआ। 59667 अंक पर कारोबारी सत्र खत्‍म होने के पहले सुबह Sensex की शुरुआत सपाट रही थी।

Ashish DeepTue, 28 Sep 2021 03:50 PM (IST)
कच्चे तेल की ऊंची कीमतों और यूएस फेड के कमजोर पड़ने की आशंका ने बाजार की धारणा को प्रभावित किया।

नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। मिश्रित वैश्विक संकेतों के साथ मुनाफावसूली ने मंगलवार को शेयर बाजार की रैली खत्‍म कर दी। Sensex 410 अंक गिरकर 60 हजार के नीचे बंद हुआ। 59,667 अंक पर कारोबारी सत्र खत्‍म होने के पहले सुबह Sensex की शुरुआत सपाट रही थी। लेकिन Profit Booking के कारण दोपहर के कारोबारी सत्र के दौरान भारत के प्रमुख इक्विटी सूचकांकों को कमजोर कर दिया। इसके अलावा, कच्चे तेल की ऊंची कीमतों और यूएस फेड के कमजोर पड़ने की आशंका ने बाजार की धारणा को प्रभावित किया। बिजली, तेल और गैस और धातु सूचकांकों में सबसे अधिक तेजी आई, जबकि रियल्टी, आईटी और दूरसंचार सूचकांकों में गिरावट आई। Nifty 50 भी गिरकर 17,748.60 अंक पर बंद हुआ।

सबसे ज्‍यादा गिरने वाले शेयर

PowerGrid, NTPC, Sunpharma समेत मात्र 9 शेयर ही हरे निशान पर थे। सबसे ज्‍यादा गिरने वाले शेयरों में भारती एयरटेल, टेक महिंद्रा शामिल रहे। इन शेयरों में 3 फीसद से ज्‍यादा गिरावट रही। एक्‍सपर्ट के अनुसान ऐसा करेक्‍शन पहले से ही तय माना जा रहा था। हालांकि निवेशकों को इससे घबराने की जरूरत नहीं है।

शेयरों में Correction की गुंजाइश थी

SMC Global के एमसी गुप्‍ता ने कहा कि शेयरों में Correction की गुंजाइश थी, जो आज हो गई। China का Power crisis बड़ा कारण रहा है। इसके अलावा Crude oil के दाम भी चढ़ रहे हैं। ये कारण बाजार की धारणा को प्रभावित कर रहे हैं। कैपिटल वाया ग्लोबल रिसर्च के शोध प्रमुख गौरव गर्ग के अनुसार, अमेरिकी सरकार के बंद के जोखिम के बाद मंगलवार को एशियाई शेयर कम खुले। व्यापारियों को प्रोत्साहन मिलेगा क्योंकि रेटिंग एजेंसी आईसीआरए ने भारत की जीडीपी वृद्धि को पहले के 8.5 प्रतिशत से 9 प्रतिशत होने का अनुमान लगाया है। कुछ समर्थन मिलेगा क्योंकि वाणिज्य और उद्योग मंत्री ने कहा कि सितंबर 2021 तक निर्यात के आंकड़े 185 अरब डॉलर तक पहुंच गए हैं। हमारे शोध से पता चला है कि बाजार में 17,750 एक महत्वपूर्ण स्तर है।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च के प्रमुख दीपक जसानी ने कहा, निफ्टी ने 28 सितंबर को सभी शुरुआती बढ़त को मिटा दिया और दोपहर में सपाट कारोबार कर रहा है। फेडरल रिजर्व की शुरुआत में निवेशकों के मूल्य निर्धारण के साथ अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड के रूप में मिश्रित एशियाई स्टॉक चढ़ गए, ऊर्जा की कीमतों में वृद्धि ने मुद्रास्फीति की चिंताओं और चीन में बिजली की कमी, भावनाओं को प्रभावित किया।

दिन में दोपहर करीब 12.30 बजे, एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स 59,485.87 स्तर पर कारोबार किया, जो अपने पिछले बंद से 592.01 अंक या 0.99 प्रतिशत कम था। इसी तरह, एनएसई निफ्टी 50 में गिरावट दर्ज की गई। यह अपने पिछले बंद से 150.30 अंक या 0.84 प्रतिशत कम होकर 17,704.80 स्तर पर आ गया था।

(IANS इनपुट के साथ)

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.