सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 300 अंक टूटा, निफ्टी भी आया 14,350 अंक के नीचे, जानें किन शेयरों में दिख रही है गिरावट

Sensex पर शुरुआती कारोबार में HDFC, HDFC Bank, ICICI Bank के शेयरों में मुनाफावसूली देखने को मिली।

BSE के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक Sensex पर 316.81 अंक यानी 0.66 फीसद की गिरावट के साथ 47763.86 अंक के स्तर पर ट्रेंड कर रहा था। NSE Nifty 75.45 अंक या 0.52 फीसद की गिरावट के 14330.70 अंक के स्तर पर चल रहा था।

Ankit KumarFri, 23 Apr 2021 10:11 AM (IST)

मुंबई, पीटीआइ। HDFC, HDFC Bank, ICICI Bank और इन्फोसिस के शेयरों में बिकवाली से प्रमुख घरेलू शेयर बाजार शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में लुढ़क गए। कोविड-19 की दूसरी लहर की वजह से देश की आर्थिक प्रगति को लेकर एक बार फिर अनिश्चिचतता पैदा हो गई है। इस वजह से शुरुआती कारोबार में BSE के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक Sensex पर 316.81 अंक यानी 0.66 फीसद की गिरावट के साथ 47,763.86 अंक के स्तर पर ट्रेंड कर रहा था। NSE Nifty 75.45 अंक या 0.52 फीसद की गिरावट के 14,330.70 अंक के स्तर पर चल रहा था।

BSE Sensex पर सुबह 09:50 बजे ICICI Bank, हिन्दुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बजाज फाइनेंस, एसबीआई, इन्फोसिस, टेक महिंद्रा, ओएनजीसी, बजाज ऑटो, बजाज फिनजर्व, लार्सन एंड टुब्रो, मारुति, भारती एयरटेल, टीसीएस और कोटक महिंद्रा के शेयर लाल निशान के साथ ट्रेंड कर रही थी। 

दूसरी ओर पावरग्रिड, एशियन पेंट्स, एचसीएल टेक, टाइटन, सन फार्मा, एनटीपीसी, अल्ट्राटेक सीमेंट, इंडसइंड बैंक, आईटीसी, एक्सिस बैंक, रिलायंस और डॉक्टर रेड्डीज के शेयरों में तेजी के साथ ट्रेडिंग हो रही थी।

इससे पिछले सत्र में Sensex 374.87 अंक यानी 0.79 फीसद की बढ़त के साथ 48,080.67 अंक के स्तर पर बंद हुआ था।

शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशक गुरुवार को शुद्ध आधार पर बिकवाल रहे। उन्होंने 909.56 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री की। 

अन्य एशियाई बाजारों की बात की जाए तो शंघाई, हांगकांग और सिओल में शेयर बाजार हरे निशान में ट्रेंड कर रहे थे। वहीं, टोक्यो में शेयर बाजार में गिरावट के साथ ट्रेडिंग हो रही थी।

रिलायंस सिक्योरिटीज में प्रमुख (रणनीति) बिनोद मोदी ने कहा, ''देशभर में कोविड-19 के मामलों में तेज वृद्धि और कई राज्यों द्वारा लोगों की आवाजाही पर पाबंदी कड़ी करना बाजार के लिए बड़ी चुनौती है।''

उन्होंने कहा कि इससे कंपनियों की आय में होने वाली रिकवरी को लेकर जोखिम बढ़ गया है।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.