10,000 करोड़ मुनाफा कमाने वाली पहली भारतीय कंपनी बनी RIL, Q3 में कमाए 10,251 करोड़ रुपये

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में देश की सबसे बड़ी पेट्रोकेमिकल कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) ने विश्लेषकों के अनुमान को धत्ता बताते हुए 10,251 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है।

सालाना आधार पर कंपनी के मुनाफे में 9 फीसद की वृद्धि हुई है। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी को 9,420 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। इसके साथ ही रिलायंस 10,000 करोड़ रुपये मुनाफा कमाने वाली कंपनियों के क्लब में शामिल हो गई है। रिलायंस ऐसी पहली भारतीय कंपनी है।

तीसरी तिमाही में कंपनी के राजस्व में 56 फीसद का इजाफा हुआ है और यह बढ़कर 171,336 करोड़ रुपये हो गया। 

जियो को शानदार मुनाफा: वहीं दिसंबर तिमाही में रिलायंस को टेलीकॉम बिजनेस से 831 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है। रिलायंस जियो इन्फोकॉम ने दिसंबर तिमाही में शुद्ध 831 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है। तिमाही आधार जियो के मुनाफे में 22.10 फीसद की बढ़ोतरी हुई है।

टीवी रिपोर्ट के मुताबिक रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा है कि जियो की अब तक की यात्रा ''वास्तव में शानदार'' रही है और वह सभी ''उम्मीदों को पूरा करने में सफल रही है।'' अंबानी ने कहा कि फिलहाल जियो के पास 28 करोड़ सब्सक्राइबर्स हैं और तेजी से दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल डेटा नेटवर्क्स बनने की तरफ अग्रसर है।

गुरुवार को बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में कंपनी का शेयर 0.03 फीसद की मामूली गिरावट के साथ 1133.75 रुपये पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज को दूसरी तिमाही में ऐतिहासिक मुनाफा हुआ था। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में रिलायंस को 9,516 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ था। वहीं रिलायंस इंडस्ट्रीज की टेलीकॉम कंपनी जियो इन्फोकॉम को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 681 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। 2016 में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने जियो इन्फोकॉम की मदद से टेलीकॉम मार्केट में कदम रखा था।

यह भी पढ़ें:  अब एक दिन में मिलेगा ITR रिफंड, नेक्स्ट जेनरेशन इनकम टैक्स फाइलिंग सिस्टम बनाएगी इन्फोसिस

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.