बी-2-बी ई-कामर्स प्लेटफार्म लांच करने की तैयारी में रामाज्ञा समूह, जानें इस मंच से जुड़ी खास बातें

रामाज्ञा मार्ट के प्रबंध निदेशक उत्कर्ष गुप्ता ने कहा कि ब्रांड की पोजिशनिंग ‘देश का व्यापार’ है।

Ramagya Mart विभिन्न सेक्टर्स में कारोबार करने वाला रामाज्ञा समूह (Ramagya Group) बी-2-बी ई-कामर्स प्लेटफार्म रामाज्ञा ई- मार्ट लांच करने की तैयारी में है। यहां विनिर्माताओं (मैन्यूफैक्चर्स) को थोक (होलसेल) विक्रेताओं वितरकों (डिस्ट्रीब्यूटर्स) और डीलरों से सीधा जोड़ा जाएगा।

Ankit KumarWed, 21 Apr 2021 07:28 PM (IST)

नई दिल्ली, एएनआइ। विभिन्न सेक्टर्स में कारोबार करने वाला रामाज्ञा समूह  बी-2-बी ई-कामर्स प्लेटफार्म रामाज्ञा ई- मार्ट लांच करने की तैयारी में है। यहां विनिर्माताओं को थोक विक्रेताओं, वितरकों और डीलरों से सीधा जोड़ा जाएगा। इसका उद्देश्य एक विशिष्ट श्रेणी के भारतीय विनिर्माताओं को पोर्टल पर अपने थोक ई-मार्ट बनाने, खासकर श्रेणी-2 और श्रेणी-3 के शहरों में थोक व्यवसायों के नेटवर्क के साथ जुड़ने एवं उनकी छवि-निर्माण के लिए साधन के रूप में उपयोग होने वाले प्लेटफार्म के रूप में उतरना है। रामाज्ञा मार्ट के प्रबंध निदेशक उत्कर्ष गुप्ता ने कहा कि ब्रांड की पोजिशनिंग ‘देश का व्यापार’ है और इसके पीछे प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत क मुहिम को दर्शाना है। 

उल्लेखनीय है कि भारत की इंटरनेट आधारित इकोनॉमी 2017 में 125 अरब अमेरिकी डालर से दोगुनी होकर 2020 में 250 अरब अमेरिकी डालर की अर्थव्यवस्था बन गई है। इसमें 66% ई-कामर्स मांग श्रेणी-2 और श्रेणी-3 के शहरों से आ रही है। इस तरह भारत जल्द ही वैश्विक बी2बी ई-कामर्स के मानक को छूने की स्थिति में होगा, जो बी2सी ई-कामर्स व्यवसाय से 5 गुना है।

(यह भी पढ़ेंः Bank FD की तुलना में अधिक रिटर्न पाना चाहते हैं, तो Corporate FD में करें निवेश, जानिए इससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें)  

रामाज्ञा मार्ट के प्रबंध निदेशक उत्कर्ष गुप्ता ने कहा ई-मार्ट को टीयर 2 और टीयर 3 शहरों में सबसे पहले पहुंचाना है और वहां के थोक विक्रेताओं और छोटे उद्यमियों को ई- मार्ट से जोड़ना है, ताकि प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत की मुहिम को हर शहर तक पहुंचाया जा सके। ई-कामर्स से जुड़कर यह उद्यमी अपने उत्पादों का प्रचार प्रसार कर सकेंगे। ई- मार्ट में उन्हें छवि-निर्माण के लिए प्लेटफार्म प्रदान किया जाएगा। इसका एक लाभ यह भी है कि जब व्यापार बढ़ेगा तो इन शहरों के लोगों को रोजगार के अवसर भी मिलेंगे।

(यह भी पढ़ेंः Share Market Investment Tips: कोरोना काल में निवेश करने से हिचकिचा रहे हैं? जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट)

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.