भारतीय इकोनॉमी में 2020-21 में आ सकती है 7.7 फीसद की गिरावट, सरकारी आंकड़ों में जताया गया अनुमान

एनएसओ के आंकड़े के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में कृषि को छोड़कर लगभग हर सेक्टर में संकुचन देखने को मिला।

भारतीय अर्थव्यवस्था में वित्त वर्ष 2020-21 में 7.7 फीसद का संकुचन देखने को मिल सकता है। राष्ट्रीय आय को लेकर नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस (NSO) की ओर से गुरुवार को जारी पहले एडवांस एस्टिमेट्स में ऐसा कहा गया है।

Publish Date:Thu, 07 Jan 2021 06:30 PM (IST) Author: Ankit Kumar

नई दिल्ली, पीटीआइ। भारतीय अर्थव्यवस्था में वित्त वर्ष 2020-21 में 7.7 फीसद का संकुचन देखने को मिल सकता है। राष्ट्रीय आय को लेकर नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस (NSO) की ओर से गुरुवार को जारी पहले एडवांस एस्टिमेट्स में ऐसा कहा गया है। इस अनुमान में भारतीय अर्थव्यवस्था में संकुचन की मुख्य वजह कोविड-19 महामारी को बताया गया है। इससे पिछले वित्त वर्ष (2019-20) में देश की आर्थिक वृद्धि की रफ्तार 4.2 फीसद पर रही थी। एनएसओ के आंकड़े के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में कृषि क्षेत्र को छोड़कर लगभग हर सेक्टर में संकुचन देखने को मिला। 

(यह भी पढ़ेंः Stock Market Tips: नए साल में ये शेयर कर सकते हैं आपको मालामाल, विशेषज्ञों ने जतायी उम्मीद) 

पहले एडवांस एस्टिमेट में कहा गया है, ''वास्तविक जीडीपी या निर्धारित मूल्य (2011-12) पर जीडीपी के वित्त वर्ष 2020-21 में 134.40 लाख करोड़ रुपये पर रहने का अनुमान है जो वित्त वर्ष 2019-20 में अस्थायी अनुमान के मुताबिक 145.66 लाख करोड़ रुपये पर था। वित्त वर्ष 2019-20 के मुकाबले वित्त वर्ष 2020-21 में आर्थिक वृद्धि में 7.7 फीसद की गिरावट का अनुमान है।''

चालू वित्त वर्ष में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में 9.4 फीसद के संकुचन का अनुमान है, जो एक साल पहले की अवधि में 0.03 फीसद के ग्रोथ के साथ लगभग सपाट रहा था।

एनएसओ के अनुमान के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में खनन, ट्रेड, होटल, ट्रांसपोर्ट, कम्युनिकेशन और ब्रॉडकॉस्टिंग से जुड़ी सेवाओं में उल्लेखनीय संकुचन का अनुमान जाहिर किया गया है।

वित्त वर्ष 2020-21 में कृषि क्षेत्र में 3.4 फीसद के ग्रोथ का अनुमान है। हालांकि, यह वित्त वर्ष 2019-20 के चार फीसद के मुकाबले कम रहने का अनुमान है। 

देश की इकोनॉमी में चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 23.9 फीसद और दूसरी तिमाही में 7.5 फीसद का संकुचन देखने को मिला था।

(यह भी पढ़ेंः Post Office PPF Account: ऑनलाइन जमा कर सकते हैं पैसा, जानिए सबसे सुरक्षित और आसान तरीका)

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.