IPO News: छह कंपनियों को मिली IPO लाने की अनुमति, जानिए हर कंपनी से जुड़ी खास बातें

IPO News सेबी ने छह कंपनियों को प्रारंभिक पब्लिक आफर (IPO) लाने की इजाजत दे दी है। इनमें एप्टस वैल्यू हाउसिंग फाइनेंस कारट्रेड टेक सुप्रिया लाइफसाइंस क्रस्ना डायग्नोस्टिक्स विजया डायग्नोस्टिक सेंटर तथा एमी आर्गेनिक्स के नाम शामिल हैं।

Ankit KumarMon, 26 Jul 2021 08:12 PM (IST)
इन कंपनियों ने इस वर्ष मई और जून में आइपीओ (IPO) के लिए आवेदन दिए थे।

नई दिल्ली, पीटीआइ। पूंजी बाजार नियामक सेबी ने छह कंपनियों को प्रारंभिक पब्लिक आफर (IPO) लाने की इजाजत दे दी है। इनमें एप्टस वैल्यू हाउसिंग फाइनेंस, कारट्रेड टेक, सुप्रिया लाइफसाइंस, क्रस्ना डायग्नोस्टिक्स, विजया डायग्नोस्टिक सेंटर तथा एमी आर्गेनिक्स के नाम शामिल हैं। इन कंपनियों ने इस वर्ष मई और जून में आइपीओ (IPO) के लिए आवेदन दिए थे। इन्हें सेबी ने 19-23 जुलाई के दौरान मंजूरी प्रदान की।

मर्चेंट बैंकिंग से जुड़े स्रोतों के अनुसार एप्टस वैल्यू के आइपीओ का अनुमानित आकार 2,600-3,000 करोड़ रुपये है। इसके तहत कंपनी ताजा शेयर जारी कर 500 करोड़ रुपये जुटाएगी। वहीं, आफर फार सेल (ओएफएस) के माध्यम से अधिकतम 6,45,90,695 शेयर जारी कर शेष रकम जुटाई जाएगी।

आनलाइन आटो क्लासिफाइड प्लेटफार्म कारट्रेड टेक अपने आइपीओ के तहत पूरी रकम ओएफएस के माध्यम से 1,23,54,811 शेयर जारी कर जुटाएगी। इस ओएफएस में सीएमडीबी 2 (16.07 लाख इक्विटी शेयर), हाईडेल इंवेस्टमेंट लिमिटेड (53.79 लाख शेयर), मैक्रिची इंवेस्टमेंट्स पीटीई लिमिटेड (35.68 लाख शेयर), स्पि्रंगफील्ड वेंचर इंटरनेशनल (11.24 लाख शेयर) तथा बीना विनोद सांघी (1.83 लाख शेयर) जैसे निवेशक हिस्सेदारी लेंगे। कारट्रेड की स्थापना वर्ष 2009 में हुई थी और कंपनी को वारबर्ग पिंकस, टेमासेक, जेपी मोर्गन तथा मार्च कैपिटल जैसे दिग्गज निवेशकों का समर्थन हासिल है।

एक्टिव फार्मास्युटिकल इंग्रेडिएंट्स (एपीआइ) निर्माण क्षेत्र की अग्रणी घरेलू कंपनी सुप्रिया लाइफसाइंस अपने आइपीओ के तहत ताजा शेयर जारी कर 200 करोड़ रुपये जुटाएगी। इसके साथ ही कंपनी के प्रमोटर सतीश वामन वाघ अपने 1,000 करोड़ रुपये मूल्य तक के शेयर बेचेंगे। इस आइपीओ से हासिल रकम का उपयोग कर्ज के भुगतान तथा पूंजीगत खर्च के अलावा सामान्य कारपोरेट कामकाज के लिए किया जाएगा।

सेबी के पास उपलब्ध दस्तावेज के अनुसार क्रस्ना डायग्नोस्टिक्स के आइपीओ के तहत ताजा पूंजी जारी कर 400 करोड़ रुपये जुटाए जाएंगे। वहीं, कंपनी ओएफएस के माध्यम से अधिकतम 94,16,377 शेयर जारी कर रकम जुटाएगी। इन विधियों से हासिल रकम का उपयोग पंजाब, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश व महाराष्ट्र में नए डायग्नोस्टिक सेंटर शुरू करने समेत कर्ज भुगतान करने और सामान्य कामकाज में किया जाएगा।

विजया डायग्नोस्टिक्स के आइपीओ के तहत पूरी तरह ओएफएस के माध्यम से रकम जुटाई जाएगी। ओएफएस में कंपनी के प्रमोटर एस. सुरेंद्रनाथ रेड्डी समेत काराकोरम लिमिटेड तथा केदारा कैपिटल अल्टरनेटिव इंवेस्टमेंट फंड जैसे निवेशकों के कुल 3,56,88,064 इक्विटी शेयर बेचे जाएंगे। इस आइपीओ के बाद कंपनी में प्रमोटर और इन निवेशकों की हिस्सेदारी 35 फीसद घट जाएगी।

स्पेशलिटी केमिकल निर्माता कंपनी एमी आर्गेनिक्स के आइपीओ के तहत ताजा शेयर जारी कर 300 करोड़ रुपये जुटाए जाएंगे। कंपनी ओएफएस के माध्यम से अधिकतम 60,59,600 इक्विटी शेयर जारी कर अतिरिक्त पूंजी जुटाएगी। आइपीओ से हासिल रकम में से 140 करोड़ रुपये का उपयोग कर्ज चुकाने तथा 90 करोड़ रुपये का सामान्य कामकाज के लिए किया जाएगा। कंपनी मुख्य रूप से अनुसंधान आधारित स्पेशलिटी केमिकल्स का निर्माण करती है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.