top menutop menutop menu

सोने से जुड़े इस फंड में जनवरी-जून के बीच जबरदस्त निवेश, इस वजह से निवेशकों ने दिखाया भरोसा

नई दिल्ली, पीटीआइ। Gold ETF में इस साल की पहली छमाही में निवेशकों ने 3,500 करोड़ रुपये का निवेश किया। कोरोना संकट के बीच जोखिम भरे निवेश विकल्पों की जगह निवेशकों ने सेफ हैवेन समझे जाने वाले गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स में निवेश किया। एसोसिएशन ऑफ म्युचुअल फंड्स इन इंडिया (Amfi) के पास उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल जनवरी से जून के बीच निवेशकों ने इस फंड से 160 करोड़ रुपये निकाले थे। यह श्रेणी पिछले साल के मध्य से अब तक बेहतर प्रदर्शन करने वालों में शामिल है। अगस्त, 2019 से अब तक Gold ETFs में निवेशकों ने 3,723 करोड़ रुपये इंवेस्ट किए हैं।   

आंकड़ों के मुताबिक इस साल एक जनवरी से लेकर 30 जून तक निवेशकों ने सोने से ETFs में कुल 3,530 करोड़ रुपये का निवेश किया। जनवरी में निवेशकों ने Gold ETF में 202 करोड़ रुपये का निवेश किया। वहीं, फरवरी में निवेशकों ने 1,483 करोड़ रुपये का निवेश इस फंड में किया। निवेशकों ने मार्च में मुनाफावसूली के लिए 195 करोड़ रुपये निकाले।  

(यह भी पढ़ेंः Petrol Diesel Price Today: 12 दिन बाद बढ़ी डीजल की कीमत, जानें आपके शहर में पेट्रोल-डीजल के रेट)  

अप्रैल में इस फंड में निवेशकों ने 731 करोड़ रुपये निवेश किए। मई और जून में इस फंड में क्रमशः 815 करोड़ रुपये और 494 करोड़ रुपये का निवेश आया।  

मार्निंगस्टार इंवेस्टमेंट एडवाइजर इंडिया के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट (मैनेजर रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ''कोरोनावायरस के मामलों में वृद्धि से त्वरित रिकवरी की संभावनाएं धूमिल हुई हैं। इसके चलते निवेशकों ने अपने एसेट का एक हिस्सा सोने में निवेश करके अपना जोखिम कम किया है क्योंकि गोल्ड को अनिश्चिचतता के समय में निवेश के लिहाज से सुरक्षित माना जाता है।'' 

Grow के सह-संस्थापक और सीओओ हर्ष जैन ने कहा कि बहुत से निवेशक बाजार की उथल-पुथल को देखते हुए अपना पैसा सोने में लगा रहे हैं।  

बकौल श्रीवास्तव सोना किसी भी निवेशक को पोर्टफोलियो में रणनीतिक संपत्ति के तौर पर काम करता है। उन्होंने कहा कि बाजार में परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण होने और आर्थिक गिरावट के समय सोना निवेशक के नुकसान को कम करता है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.