Income Tax की नई वेबसाइट अब भी दे रही झटका, Refund समेत इन कामों में आ रही दिक्‍कत

Income tax का नया पोर्टल www.incometax.gov.in अब भी लोगों को तंग कर रहा है। हालांकि नए पोर्टल को शुरू हुए एक माह से ज्‍यादा हो गए हैं लेकिन अब तक इसकी तकनीकी कमियों को दूर नहीं किया जा सका है।

Ashish DeepMon, 12 Jul 2021 10:43 AM (IST)
फाइनेंस मिनिस्‍टर ने भी दो हफ्ते पहले इस पोर्टल के कामकाज की समीक्षा की थी। (Pti)

 Income tax का नया पोर्टल www.incometax.gov.in अब भी लोगों को तंग कर रहा है। हालांकि नए पोर्टल को शुरू हुए एक माह से ज्‍यादा हो गए हैं, लेकिन अब तक इसकी तकनीकी कमियों को दूर नहीं किया जा सका है। फाइनेंस मिनिस्‍टर ने भी दो हफ्ते पहले इस पोर्टल के कामकाज की समीक्षा की थी। चार्टर्ड अकाउंटेंट्स (CA) का कहना है कि इस पोर्टल पर कई चीजें मसलन ई-प्रॉसेसिंग और डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाणपत्र ने अभी तक काम करना शुरू नहीं किया है। इसके अलावा कुछ विदेशी कंपनियों को भी पोर्टल पर लॉगिंग करने में समस्या आ रही है।

www.incometax.gov.in की शुरुआत 7 जून को की गई थी। शुरुआत से ही पोर्टल पर तकनीकी दिक्कतें आ रही है। इसके चलते वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 22 जून को इन्फोसिस के अधिकारियों के साथ बैठक की थी। इन्फोसिस ने ही इस नई वेबसाइट को तैयार किया है। इन्फोसिस को 2019 में अगली पीढ़ी की आयकर दाखिल करने की प्रणाली विकसित करने का ठेका दिया गया था। इसके पीछे उद्देश्य रिटर्न के जांच के समय को 63 दिन से घटाकर एक दिन करना और रिफंड की प्रक्रिया को तेज करना था।

इस बैठक के दो हफ्ते और पोर्टल की शुरुआत के एक महीने के बाद भी USER को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वे बीते वर्षों का आयकर रिटर्न दाखिल नहीं कर पा रहे हैं। आकलन वर्ष 2019-20 और उससे पहले के वर्षों के लिए इंटिमेशन नोटिस डाउनलोड नहीं कर पा रहे हैं। साथ ही विवाद से विश्वास योजना के तहत फॉर्म-3 पोर्टल पर दिख नहीं रहा है। आईटी पोर्टल में गड़बड़ियों के बारे में पूछे जाने पर इन्फोसिस ने कहा कि आयकर मामले पर चीजों को हाल में संपन्न हमारी सालाना आमसभा में स्पष्ट किया गया है। इस बारे में वित्त मंत्रालय को भेजे गए ई-मेल का भी जवाब नहीं मिला।

बीडीओ इंडिया के भागीदार (कर और नियामकीय सेवाएं) अमित गनात्रा ने कहा कि इन्फोसिस की टीम की वित्त मंत्री के साथ 22 जून को बैठक के बाद ऐसा लग रहा था कि सभी मुद्दे जल्द सुलझ जाएंगे। हालांकि, इसके बाद साइट के कामकाज में कुछ सुधार हुआ, लेकिन प्रौद्योगिकी संबंधित चुनौतियां अभी कायम हैं। साइट को पूरी तरह से काम करने में अभी कुछ समय लगेगा।

उन्होंने कहा कि ई-प्रक्रियाओं से संबंधित टैब पूरी तरह काम नहीं कर रहा। ऑनलाइन सुधार विकल्प उपलब्ध नहीं है। 5, 6, 7 में आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए जेएसओएन सुविधा उपलब्ध नहीं है। पिछली वेबसाइट की तरह इस पोर्टल में विवाद से विश्वास के बारे में व्यापक जानकारी देने के लिए कोई टैब नहीं है। साथ ही लंबित कार्रवाई टैब के बारे में भी कोई जानकारी नहीं है। ध्रुव एडवाइजर्स एलएलपी के भागीदार संदीप भल्लस ने कहा कि रेमिटेंस से संबंधित फॉर्म 15सीए/सीबी यूटिलिटी उपलब्ध नहीं है। हालांकि, इसे भौतिक रूप से भरने की अनुमति है, लेकिन यह काफी समय लेने वाली प्रक्रिया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.