देश में बेहतर सड़कें चाहिए तो उसके लिए चुकाने होंगे पैसे: नितिन गडकरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को सोहना में दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे (डीएमई) की प्रगति की समीक्षा करते हुए यह कहा है कि अगर लोगों को देश में बेहतर सड़क बुनियादी ढांचा चाहिए तो उन्हें इसके लिए भुगतान करना होगा।

Abhishek PoddarThu, 16 Sep 2021 04:56 PM (IST)
नितिन गडकरी ने कहा कि अगर लोगों को देश में बेहतर सड़क बुनियादी ढांचा चाहिए तो उन्हें भुगतान करना होगा

नई दिल्ली, पीटीआइ। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को कहा कि "अगर लोगों को देश में बेहतर सड़क बुनियादी ढांचा चाहिए तो उन्हें भुगतान करना होगा।" इसके अलावा केंद्रीय मंत्री ने यह भी बताया कि एक्सप्रेसवे यात्रा के समय और ईंधन की लागत को कम करने में कैसे मदद करते हैं।

सोहना में दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे (डीएमई) की प्रगति की समीक्षा करते हुए, सड़क परिवहन मंत्री गडकरी ने कहा कि, "जिन किसानों के पास एक्सप्रेसवे के पास अपनी जमीन है, उन्हें इसे डेवलपर्स को नहीं बेचना चाहिए, इसके बजाय उन्हें डेवलपर्स के साथ साझेदारी करनी चाहिए और सड़क के किनारे की सुविधाओं का निर्माण करना चाहिए।"

टोल शुल्क के कारण यात्रा लागत में वृद्धि के संबंध में एक निष्कर्ष निकालते हुए, मंत्री ने कहा, "यदि आप एक वातानुकूलित हॉल का उपयोग करना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए भुगतान करना होगा। अन्यथा, आप एक मैदान पर भी शादी की व्यवस्था कर सकते हैं।"

गडकरी ने कहा कि "एक्सप्रेसवे से यात्रा के समय में काफी कमी आएगी, जिसके परिणामस्वरूप ईंधन की लागत में कमी आएगी। दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे यात्रा के समय को घटाकर 12 घंटे कर देगा। एक ट्रक को दिल्ली से मुंबई पहुंचने में 48 घंटे लगते हैं। लेकिन एक्सप्रेसवे पर केवल 18 घंटे लगेंगे। जिस हिसाब से एक ट्रक अधिक यात्राएं करने में सक्षम होगा, जिससे कि अधिक व्यवसाय हो सकेगा।"

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने परियोजना की स्थिति का आकलन करने और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) को सुधार के उपाय सुझाने के लिए गुरुवार को आठ-लेन दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे (NH-148N) के निर्माण कार्य का निरीक्षण किया था। यह भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे है। एक्सप्रेस-वे बनने के बाद लोग सड़क मार्ग से सिर्फ 12 घंटे में दिल्ली से मुंबई का सफर कर सकेंगे। फिलहाल दिल्ली से मुंबई की दूरी सड़क मार्ग से करीब 1,510 किलोमीटर है। हाइवे बनने के बाद यह दूरी घटकर 1,380 किलोमीटर रह जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.